यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

नगर निगम ने अपनी आय के श्रोत बढ़ाने के तौर-तरीके तलाशे,एसएसपी कार्यलय पर 2 लाख 17 हजार 327 बाकी


🗒 शनिवार, दिसंबर 15 2018
🖋 शुभम शर्मा, वृन्दाबन संवाददाता मथुरा

मथुरा। नगर निगम की सबसे बड़ी आय का श्रोत जलकर और गृहकर है। इनसे निगम के विभिन्न खर्चे संचालित होते हैं। नगर पालिका से निगम बनने के बाद अब निगम प्रशासन इस आय को बढ़ाने के तौर-तरीके तलाश रहा है। इसी प्रक्रिया में पुराने बकाएदारों की सूची बनाई जा रही है। इसमें सरकारी विभागों के नाम भी सामने आए हैं, जो निगम के जलकल और गृहकर के बकाएदार हैं। करीब 12 से अधिक सरकारी विभागों में सबसे बड़े बकायेदार के रूप में पुलिस महकमा सामने आया है।
एसएसपी कार्यालय पर 2 लाख 17 हजार 327 बकाया है। जबकि दूसरे नंबर पर राज्य परिवहन निगम कार्यालय है। इसके दो भवनों पर 2 लाख 55 हजार बकाया हैं। इसके अलावा काॅपरेटिव बैंक पर 42 हजार 594, विकास प्राधिकरण पर 1 लाख 44 हजार 799, मुक्ताकाशीय रंगमंच पर 1 लाख 8 हजार, महिला पाॅलीटेक्निक पर 19 हजार, अधिशाषी अभियंता राजकीय नहर 35 हजार, राजकीय संग्रहालय पर 45 हजार रुपये बकाया हैं।
संयुक्त नगर आयुक्त अजीत कुमार सिंह ने बताया कि एसएसपी सहित कई विभागीय अधिकारियों से बातचीत की गई है। निगम को जल्द ही सरकारी बकाया मिलने की उम्मीद है।

नगर निगम ने अपनी आय के श्रोत बढ़ाने के तौर-तरीके तलाशे,एसएसपी कार्यलय पर 2 लाख 17 हजार 327 बाकी

मथुरा से अन्य समाचार व लेख

» शराबी ने युवती से की छेड़छाड़,युवती सरेराह शराबी को चप्पलो से पीटा

» शिक्षको को आठ माह से नही मिला वेतन,बीएस कार्यलय पर किया प्रदर्शन

» यमुना एक्सप्रेसवे पर छह घंटे में हुए दो सड़क हादसे, एक की मौत और नौ घायल

» अब बडे बकायेदारों की संपत्ति की होगी नीलामी

» सालो से फरार शातिरों को पुलिस ने दबोचा,अवैध असलाह बरामद

 

नवीन समाचार व लेख

» शराबी ने युवती से की छेड़छाड़,युवती सरेराह शराबी को चप्पलो से पीटा

» शिक्षको को आठ माह से नही मिला वेतन,बीएस कार्यलय पर किया प्रदर्शन

» यमुना एक्सप्रेसवे पर छह घंटे में हुए दो सड़क हादसे, एक की मौत और नौ घायल

» छत्तीसगढ़ के सीएम पर सस्पेंस बरकरार, अब रविवार को होगा नाम का एलान

» अब बडे बकायेदारों की संपत्ति की होगी नीलामी