यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

फ्लाईओवर हादसे में सेतु निगम तथा निर्माणदायी संस्था के खिलाफ FIR दर्ज


🗒 बुधवार, मई 16 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में फ्लाईओवर की दो बीम गिरने के मामले में आज सेतु निगम तथा इस फ्लाईओवर का निर्माण कर रही संस्था के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इनके खिलाफ गैर इरादतन हत्या और हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया है।

फ्लाईओवर हादसे में सेतु निगम तथा निर्माणदायी संस्था के खिलाफ FIR दर्ज

वाराणसी में फ्लाईओवर निर्माण कर रही संस्था तथा उत्तर प्रदेश सेतु निगम के खिलाफ आज 304, 308, 427 के तहत मामला दर्ज किया गया है। यहां पर इससे पहले भी फ्लाईओवर बनाने वाली कंपनी एफआईआर दर्ज हो चुकी है। पिछले दिनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य भी इसका निरीक्षण करने पहुंचे थे। डिप्टी सीएम ने यहां पर काम की धीमी गति को देखते हुए इसे जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश भी दिया था। वाराणसी कैंट स्टेशन के सामने निर्माणाधीन पुल के दो बीम के गिरने से कल 15 लोगों की मौत हो गई, लेकिन हादसे की वजह लापरवाही और प्रशासनिक चूक भी है।

अखिलेश यादव सरकार में एक अक्टूबर 2015 को चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर के विस्तारीकरण का शिलान्यास हुआ और निर्माण शुरू किया गया। तब से लेकर आज तक इस फ्लाईओवर का निर्माण विवादों में ही रहा। अखिलेश राज में भी कई बार इसकी डीपीआर बदली गई। इसके बाद 2017 में योगी आदित्यनाथ सरकार आई तो काम जल्द पूरा करने के निर्देश दिए गए। फ्लाईओवर का निर्माण कार्य मार्च 2019 में पूरा होना था, लेकिन एक बार फिर अधिकारियों ने वहां पर काफी वाहनों के दबाव का हवाला देकर अक्टूबर 2019 तक काम को पूरा करने की मियांद बढ़ाने की मांग की।

पिछले दिनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य भी इसका निरीक्षण करने पहुंचे थे। डिप्टी सीएम ने काम की धीमी गति को देखते हुए इसे जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश भी दिया था।

वाराणसी में 1710 मीटर लंबे इस फ्लाईओवर का निर्माण 30 महीने में पूरा होना था, लेकिन आज तक इस फ्लाईओवर का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका है। इस काम को अक्टूबर 2019 में पूरा होना है। फ्लाईओवर प्रोजेक्ट की लागत 77.41 करोड़ रुपए है, जिसके अंतर्गत 63 पिलर बनने हैं, लेकिन करीब तीन साल बाद भी फ्लाईओवर विस्तारीकरण के तहत 45 पिलर ही अभी तक तैयार हो सके हैं। प्रोजेक्ट समयावधि बढऩे के बाद सेतु निर्माण निगम के गाजीपुर इकाई इस पर काम कर रही थी

कई बार प्रशासन को चेताया गया, गत 19 फरवरी को यूपी सेतु निगम के परियोजना प्रबंधक के खिलाफ सिगरा थाने में लापरवाही बरतने के लिए एफआइआर दर्ज हो चुकी थी। काम में लापरवाही, अराजकतापूर्वक कार्य करने, ट्रैफिक वालंटियर्स की तैनाती नहीं करने का आरोप लगाया गया था। अगर उस समय ही अफसरों ने इसका संज्ञान लिया होता तो यह हादसा नहीं होता। फ्लाईओवर के निर्माण को लेकर कई बार प्रशासन को भी चेताया गया था। बताया गया था कि इस पुल का निर्माण रूट डाइवर्ट करके कराई जाए वरना हादसा हो सकता है, लेकिन हर समय इस मार्ग पर आवाजाही के बावजूद फ्लाईओवर के निर्माण के दौरान रूट डाइवर्ट नहीं किया गया। जानकारों की मानें तो जहां इस तरह का निर्माण होता है उस पूरे इलाके को सील कर दिया जाता है। निर्माण क्षेत्र से चार-चार फीट दाएं और बाएं बैरीकेडिंग की जाती है। लाल झंडे और लाइट लगाई जाती है, लेकिन इस मामले में ऐसा नहीं था. जब कल हादसा हुआ तो वहां भारी ट्रैफिक था।

यूपी सेतु निगम के निलंबित परियोजना अधिकारी केआर सूदन ने बताया कि निर्धारित अवधि में काम पूरा करने का दबाव है। वाहनों को डाइवर्ट करने के लिए कई बार जिला प्रशासन और यातायात पुलिस से कहा गया। यहां काफी संकरा रास्ता होने की वजह से वहां काम चुनौती भरा है। इस घटना का कारण अभी समझ में नहीं आ रहा है।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी के सुभासपा विधायक ने कहा मुख्यमंत्री जी जिंदा हूं, मगर बहुत शर्मिदा हूं

» फ्लाईओवर हादसे के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, भ्रष्टाचारियों को सीधे बर्खास्त करें

» वाराणसी शहर को नो ट्रिपिंग जोन घोषित करने की कवायद जोरों पर

» बनारस व गाजीपुर के दो बेटे छत्तीसगढ़ नक्सली हमले में शहीद, जवानों के घर मातम

» वाराणसी मे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी सेंट्रल जेल में किया आजाद की प्रतिमा का अनावरण

 

नवीन समाचार व लेख

» बांदा जिले मे UP के पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह के घर में ही पड़ गई डकैती

» गोरखपुर पुलिस ने छापेमारी में प्रिंटिंग प्रेस से जब्त किए ब्रांडेड शराब के नकली रैपर

» वाराणसी के सुभासपा विधायक ने कहा मुख्यमंत्री जी जिंदा हूं, मगर बहुत शर्मिदा हूं

» बहराइच जिले में दहेज में बाइक नहीं मिलने पर पत्नी को पीटकर कोमा में पहुंचाया

» अलीगढ़ के थाना टप्पल इलाके मे छैमार गैंग का सरगना भीका पुलिस मुठभेड़ में ढेर, 100 से अधिक हत्याओं में था वांछित