यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बनारस व गाजीपुर के दो बेटे छत्तीसगढ़ नक्सली हमले में शहीद, जवानों के घर मातम


🗒 रविवार, मई 20 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

पूर्वांचल के शहीदों के हार में दो और नगीने जुड़ गए। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में रविवार को हुए नक्सली विस्फोट में बनारस के बड़ागांव के बसनी दल्लूपुर निवासी छत्तीसगढ़ आम्र्ड फोर्स (सीएएफ) के जवान रविनाथ सिंह पटेल (23) व शादियाबाद (गाजीपुर) थानाक्षेत्र के बरईपारा गांव के अर्जुन राजभर (35) शहीद हो गए। यह खबर सुनते ही शहीदों के गांव में मातम छा गया।

बनारस व गाजीपुर के दो बेटे छत्तीसगढ़ नक्सली हमले में शहीद, जवानों के घर मातम

शहीद रवि के परिवार में दोपहर को फोन कॉल आई। सबसे छोटी बहन को सीएफ के अफसरों ने बताया कि उनका भाई शहीद हो गया है। यह सुनते ही वह सदमे में आ गई। कुछ देर रोने के बाद उसने बूढ़े मां-बाप को इस बारे में बताना चाहा लेकिन, कहीं अनहोनी न हो जाए, इसके डर से बस इतना बताया कि भाई का एक्सीडेंट हो गया है। सोमवार को उसे गांव लाया जा रहा है।

पिता सत्य प्रकाश पटेल व मां अनीता को शक हुआ कि बेटी क्यों रो रही है, हालांकि पूछने पर उसने समझा लिया। सोमवार को जब शहीद का शव गांव आएगा तो किस तरह बूढ़े मां-बाप को संभाला जाएगा, यह शायद परिवारवालों को भी नहीं पता। शहीद रवि दो भाई व एक बहन में दूसरे नंबर के थे। वर्ष 2013 में वह सेना में भर्ती हुए थे। अभी उनकी शादी नहीं हुई थी। दो माह पहले ही गांव आए रवि मई के अंत में भी गांव आने वाले थे।

उधर, अर्जुन राजभर के शहीद होने की खबर मिलते ही उनके पिता बलिराम राजभर व माता रमावती देवी पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। घरवालों को अर्जुन का पार्थिव शरीर घर आने का इंतजार है। अर्जुन राजभर पांच भाइयों में चौथे नंबर पर थे। शेष चारो भाई मुंबई में रहकर फूल-माला का कारोबार करते हैं। उनकी एक बहन भी है जिसका विवाह हो चुका है। नक्सलियों के विस्फोट में छह जवान शहीद हुए, जबकि अर्जुन गंभीर रूप से घायल हो गए।

बाद में इलाज के दौरान उनकी भी मौत हो गई। इसकी सूचना पहले मुंबई में रह रहे भाइयों को मिली, फिर उन्होंने घर फोन कर माता-पिता को सूचना दी। अर्जुन अभी पिछले 20 अप्रैल को 15 दिन की छुट्टी बिताकर ड्यूटी पर गए थे। इस बार वह अपने परिवार को भी साथ ले गए थे। परिवार में पत्नी सुनीता देवी के साथ तीन बच्चे कविता (12), अभय (10) व अजय (8) हैं।  

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी के सुभासपा विधायक ने कहा मुख्यमंत्री जी जिंदा हूं, मगर बहुत शर्मिदा हूं

» फ्लाईओवर हादसे के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, भ्रष्टाचारियों को सीधे बर्खास्त करें

» वाराणसी शहर को नो ट्रिपिंग जोन घोषित करने की कवायद जोरों पर

» वाराणसी मे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी सेंट्रल जेल में किया आजाद की प्रतिमा का अनावरण

» आज रात वाराणसी हादसे का करेंगे स्थलीय निरीक्षण मुख्यमंत्री योगी अादित्यनाथ, सुबह समीक्षा

 

नवीन समाचार व लेख

» लखनऊ में निपाह वायरस से दहशत, सीधे फेफड़ों व तंत्रिका तंत्र पर करता है अटैक

» फिर भाजपा के दो और विधायकों से मांगी गई रंगदारी, मामले के खुलासे के लिए डीजीपी ने बनाई SIT

» सत्ता में न रहने के बावजूद हर जिले में यूपी बोर्ड के 11-11 टापर्स को लैपटॉप देगी सपा

» लखीमपुर खीरी जिले मे दबंग प्रधान ने बिजलीकर्मियों को जान से मारने की धमकी दी

» बांदा जिले मे UP के पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह के घर में ही पड़ गई डकैती