यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी मे प्रेमिका के तानों से जेएचवी मॉल में खूनी खेल की चढ़ी सनक, पूछताछ में हुआ उजागर


🗒 शुक्रवार, नवंबर 02 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

जेएचवी में बुधवार को दो दिन पहले हुई अंधाधुंध फायरिंग में दो बेकसूर मारे गए जबकि दो अब भी अस्पताल में अपना उपचार करा रहे हैं। जेएचवी हत्याकांड का सबब बना प्रेमिका का अपने प्रेमी का लानत-मलानत करना। प्रेमिका के ताने व प्रशांत के साथियों से पिटने के बाद आलोक बदले की आग में जल रहा था और उसने अपने दो साथियों के साथ दुस्साहसिक वारदात को अंजाम दे डाला। 

वाराणसी मे प्रेमिका के तानों से जेएचवी मॉल में खूनी खेल की चढ़ी सनक, पूछताछ में हुआ उजागर

एसएसपी और क्राइम ब्रांच की टीम ने रोहित से कई राउंड पूछताछ की। पूछताछ में यह सामने आया कि काशी विद्यापीठ के छात्र आलोक की प्रेमिका जेपी मेहता कालेज रोड स्थित एक शो-रूम में काम करती है। उसकी छोटी बहन प्रशांत के साथ जेएचवी में प्यूमा के स्टोर में काम करती थी। आरोप है कि एक महीने पहले प्रशांत के कहने पर ही आलोक की प्रेमिका की छोटी बहन को नौकरी से निकाल दिया गया था। आलोक ने कई बार उसकी नौकरी लगवाने की कोशिश की। इस चक्कर में आलोक ने प्रशांत को पीटा भी था। इस बीच प्रेमिका ने आलोक को काफी ताने दिए।प्रेमिका के धिक्कारे जाने से आलोक साथियों संग वारदात से तीन दिन पहले नदेसर पहुंचा था प्रशांत को सबक सिखाने लेकिन दांव उलटा पड़ गया। प्रशांत ने अपने मित्रों के साथ मिलकर आलोक को ही पीट दिया। प्रेमिका को जब आलोक के मार खाने की बात पता चली तो उसने आलोक की और लानत-मलानत कर दी। पिटाई के बाद प्रेमिका के भला-बुरा कहने से आलोक के मने में बदले की आग और भड़क गई और उसने प्रशांत को रास्ते से ही हटाने की योजना बना डाली।

आलोक के जन्मदिन की रात साजिश रची गई कि रोहित मॉल में ही रहेगा। वह उन लोगों को पहले असलहे के साथ प्रवेश कराएगा। वहां आलोक को देखते ही प्रशांत इधर-उधर होगा तो रोहित उसे किसी तरह समझाते हुए बाहर ले आएगा और मौका देखकर उसे गोली मार देंगे। साजिश के तहत बुधवार को आलोक, कुंदन व ऋषभ जेएचवी पहुंचे। रोहित ने बिना सिक्योरिटी चेक कराए उन्हें मॉल में प्रवेश दिला दिया। प्रशांत को जैसे ही आलोक के आने की जानकारी हुई वह मॉल के एक स्टोर में जाकर छिप गया। इस बीच आलोक व उसके साथी हिमांशु पांडेय को असलहा सटाकर ले जाने लगे कि मॉल विभिन्न स्टोर पर काम करने वाले कर्मचारी जुट गए। हाथापायी में आलोक घिर गया और कर्मचारियों ने उसके हाथ से पिस्टल छीन ली। उधर, आलोक को घिरा देखकर ऋषभ व कुंदन ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। फायरिंग की जद में आकर सुनील और गोपी की मौत हो गई जबकि चंदन व विशाल जख्मी हो गए। 

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी मे BHU कुलपति से मिलने से रोका गया तो मुकदमा वापस करने को धरने पर बैठे छात्र

» प्रगतिशील समाजवादी पार्टी प्रमुख शिवपाल सिंह वाराणसी पहुंचे कहा सीबीआई के दबाव में मिले सपा बसपा

» वाराणसी मे सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने कहा दो दर्जनों पार्टियों से गठबंधन करने वाली पार्टी दो दलों के गठबंधन से डरी

» पी. चिदंबरम कांग्रेस घोषणा-पत्र पर कार्यकर्ताओं संग मंथन करने वाराणसी पहुंचे

» वाराणसी मे तीन करोड़ की हेरोइन बरामद, नेपाल से बनारस में विदेशी पर्यटकों को करते थे सप्लाई

 

नवीन समाचार व लेख

» वृन्दावन के दिग्गज क्रिकेटरों के बीच आज से शुरू होगा क्रिकेट टूर्नामेंट

» मेरठ पुलिस ने बुलंदशहर हिंसा में शहीद हुए इंस्पेक्टर सुबोध के परिवार को दिए 70 लाख

» मेरठ मे चंद्रशेखर ने कहा- हमें मत छेड़ना, कपड़े की तरह फाड़ देंगे

» जिला जौनपुर में शारदा सहायक नहर में पुलिया तोडकर ट्रक गिरने से दो गंभीर रूप से घायल

» गाजीपुर जिले में ऑनलाइन धोखाधड़ी के शिकार युवक ने खुद को आग के हवाले कर दे दी अपनी जान