यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी मे पीएम मोदी ने कहा- हमारी सरकार महिला सशक्तिकरण पर पूरी तरह से समर्पित


🗒 शुक्रवार, मार्च 08 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी को श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर से गंगा नदी के बीच बीच 40 हजार वर्गमीटर का कॉरिडोर तोहफा देने के बाद पंडित दीनदयाल हस्तकला संकुल पहुंचे। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर यहां उनके साथ राज्यपाल राम नाईक व सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी राष्ट्रीय आजीविका सम्मेलन में शामिल स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने पीएम मोदी के साथ संवाद किया। इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने इनको संबोधित किया। 

वाराणसी मे पीएम मोदी ने कहा- हमारी सरकार महिला सशक्तिकरण पर पूरी तरह से समर्पित

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारी सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए पूरी तरह से समर्पित है। जन्म से लेकर जीवन के हर चरण में बेटियों और बहनों की रक्षा, सुरक्षा और सशक्तिकरण के लिए तमाम योजनाएं आज चल रही हैं। उन्होंने कहा कि सौभाग्य से आज मुझे भी माता अहिल्याबाई के संकल्प के साथ, काशी के लाखों जनों और देश के करोड़ों लोगों की भावनाओं के साथ खुद को जोडऩे का मौका मिला है। थोड़ी देर पहले ही बाबा के दिव्य प्रांगण को भव्य स्वरूप देने के काम का शुभारंभ किया गया है। आज महिला सशक्तिकरण के लिए समर्पित दिन है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के इस अवसर पर मैं आप सभी को, देश की हर बेटी, हर बहन को नमन करता हूं। आप सभी नए भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। आपकी सक्रिय भागीदारी और आशीर्वाद नए भारत के नए संस्कार गढऩे में अहम हैं।राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत स्वयं सहायता समूह को पीएम ने संबोधित करते हुए कहा कि भारत माता की जय, मैं सबसे पहले बात प्रारंभ करने से पूर्व जयकारा चाहता हूं। वीर जवानों को हौसला और ताकत मिल जाए। यह आशीर्वाद बनकर जाएगा। सभी बहनें और कुछ कुछ भाई। यूपी के अलग अलग कोने से यहां पधारी कर्मशील बहनों का मैं वंदन करता हूं, अभिनंदन करता हूं और काशी के सांसद के रूप में आपका स्वागत भी करता हूं। आज कार्यक्रम में आप अकेले नहीं हैं। मुझे बताया गया कि पूरे हिंदुस्तान में 75 हजार महिलाएं भी देश भर से इस कार्यक्रम से जुड़ी हुई हैं। हजारों कामन सर्विस सेंटर पर महिलाएं कार्यक्रम देख रही हैं। मंत्री और मुख्यमंत्री भी मौजूद हैं उनका स्वागत और वंदन करता हूं। आज महिला सशक्तिकरण के लिए पूरे विश्व में उत्साह पैदा करता है। आप सभी को देश की हर बेटी और बहन और माताओं को नमन करता हूं। आप सभी नए भारत के निर्माण में भूमिका निभा रहे हैं। आपके सक्रिय भागीदारी से नए भारत और संस्कार भरने में अहम हैं। सुखद है कि महिला सशक्तिकरण ग्रामीण अर्थ व्यवस्था में सुनिश्चित करने वाला कार्यक्रम मेरी काशी में हो रहा है। यह काशी अपने आप में महिला सशक्तिकरण का प्रतीक है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मां गंगा भी हैं और धारण करने वाले महादेव भी हैं। यही काशी है जिसने देश को झांसी की रानी दी, जिन्होंने गुलामी की बेड़ी में जकड़े देश को चेतना दी। अहिल्या बाई होल्कर ने वर्तमान काशी विश्वनाथ को नया स्वरूप दिया। आज मुझे भी काशी के लाखों और देश के करोडों लोगों के भावनाओं के साथ खुद को जोडऩे का सौभाग्य मिला। काशी विश्वनाथ में प्रांगण को भव्य स्वरूप देने के लिए शुभारंभ किया। हजारों साल के बाद अब भव्यता का रंग रंग जाएगा। अब आप सभी बहनों के बीच आपके श्रम को नमन करने का मौका मिला है। आपके प्रयासों के परिणाम ने आप सबका विश्वास जगाया है। दो बहनों ने तो इसे सच करके दिखाया है। हजारों लाखों बहनों की भी ऐसी ही सफल और प्रेरक कहानी है। सरकार महिला शसक्तिकरण को पूरी तरह से समर्पित है। रक्षा और सुरक्षा के लिए योजनाएं चल रही हैं। प्रसूता के लिए मदद, मुफ्त टीकाकरण, बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ जैसी योजनाओं के साथ बलात्कारियों को फांसी की सजा का प्रावधान हम सुनिश्चित कर रहे हैं। हालांकि कई मुद्दों पर राजनीति ऊपर आ जाती है। विदेशों से लड़के शादी के लिए आते हैं और विदेश जाने के बाद बेटियों की हालत खराब हो जाती है। ऐसा कानून आया है कि विदेश में शादी करने जाते हैं और धोखा होता है तो धोखा देने वाले बच नहीं पाएंगे। महिलाएं गांव में हों या शहर में कारोबार के लिए मौका मिलेगा। उनके लिए फैसला लिया गया है। बडे देशों में ऐसा कानून नहीं है। मां बच्चे के साथ छह माह गुजारेगी, अब नौकरी नहीं करना होगा। नियमों में बदला गया है। क्रेच की व्यवस्था वर्किंग प्लेस में होगी।प्रधानमंत्री ने कहा कि पीएम आवास भी महिलाओं को समर्पित है। देश में सब संपत्ति पति के नाम पर होने की परंपरा रही है। पति नहीं रहा तो बेटे के नाम पर। मां के नाम पर कुछ नहीं रहता था। हमने कानून बनाया कि अवास मिला तो नाम महिला का होगा। संयुक्त पटटे और खनन की भी अनुमति मिली। अब खनन में भी महिलाएं आ गई हैं। अब भारतीय सैन्य सेवा के कई क्षेत्रों में महिलाओं को स्थाई कमीशन मिलेगा। सेना का पराक्रम होता है तो बेटियों को भी लगता है कि मौका मिले तो हम भी काम करेंगे। वह भी हमारी सेना के लिए गर्व करती हैं। आज भारत में बेटियां फाइटर जेट उड़ा रही हैं तो नाव से विश्व की परिक्रमा भी कर रही हैं। भोपाल से बिलासपुर की ट्रेन और काशी एयरपोर्ट का संचालन आज बहनें कर रही हैं। आज सुबह ही महिलाओं के नेतृत्व में गंगा स्वच्छता के लिए महिलाओं ने लोगों को जागरुक किया है। महिलाओं की स्वयं सहायता समूह निजी तौर पर गांव और भारत के जीवन को आधार देने में जुटी हैं। आप जो काम कर रही हैं उससे देश को भी समृद्धि की ओर ले जा रही हैं। ऐसा कोई क्षेत्र नहीं जिसमें महिलाओं का योगदान न हो। महिलाओं से बात करने का मौका मिला तो उनका मनोबल बढ़ा दिखा। महिलाओं का आत्मविश्वास देख कर प्रसन्नता हुई। स्वावलंबन और शसक्तिकरण नए भाव में प्रवेश करने जा रही है। मिट्टी में जान डालने वाले साथियों को उपकरण दिए गए हैं, मधुमक्खी पालन से लेकर कई योजनाओं का लाभ आज दिया गया है। इन सभी सुविधाओं के लिए बधाई। गांव में स्वरोजगार के लिए आजीविका मिशन सरकार ने चलाया है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत से गरीबी दूर करने के लिए व्यापक अभियान चल रहा है। सेल्फ हेल्प ग्रुप को आजीविका मिशन के लिए लोन लेना आसान हुआ है। 23 हजार करोड़ का पहले लोन मिलता था। चार साल में यह रकम 44 हजार करोड़ हो गई। पूरे पांच साल में दो लाख करोड़ की सहायता स्वयं सहायता समूहों को मिली है। आपको जानकर खुशी होगी कि यह अभियान देश के लगभग सवा छह सौ जिलों में फैल चुका है। छह करोड़ बहने और छह करोड़ परिवार सेल्फ हेल्प ग्रुपों से जुड़े हैं। आने वाले समय में और भी गरीब परिवारों को इससे जोड़ा जाएगा। मैं गुजरात में सीएम था, नया था तो वहां कुछ बहनों ने मिलने के लिए समय मांगा तो पता चला कि वहां पंचायत के चुनाव में एक भी पुरुष नहीं जीता था। तो गांव वालों ने तय किया कि पुरुष चुनाव नहीं लड़ेगा। वहां की प्रधान पांचवें तक पढ़ी थी। बोली यह पहली पंचायत है जिसमें सभी महिलाएं हैं। मैने पूछा कि गांव का क्या करेंगी तो उन लोगों ने बताया कि हम ऐसा कुछ करना चाहते हैं कि गांव में कोई गरीब न रहे। सोचिए ऐसे में क्या इस देश में गरीबी बच पाएगी। उन महिलाओं का संकल्प मेरे लिए प्रेरणा है। वर्ष 2022 में भारत की आजादी के 75 साल होंगे। हम अभियान को ताकतवर बनाएंगे क्या आप ऐसे निर्णय कर सकते हैं, आप करिए मैं आपके साथ हूं। यूपी में भी एक करोड़ गरीब परिवारों को सेल्फ हेल्प ग्रुप से जोडा जा रहा है। गरीब, वंचित, शोषित और जनजाति समाज को भी ग्रुप से जोडऩा है। अभियान को व्यापक विस्तार देना है। आपकी सक्रियता पर यह होना है।स्कूल में पढने वाले बच्चों को सोलर लैंप देने की मुहिम शुरु की है। महिलाएं स्वयं सहायता समूह बनाकर सोलर लैंप बेच रही हैं। 34 लाख सोलर लैंप देना है। इन लैंप को बनाने और जोडऩे की विशेष जिम्मेदारी समूह को दी गई है। अभी तक 12 लाख सोलर लैंप बच्चों तक पहुंच गए हैं। अब लैंप नहीं उज्जवल भविष्य की रोशनी गांवों को जा रही है। आपने लैंप देकर बच्चे को प्रेरणा और ताकत दी है। अब तक छह करोड़ रुपये की आमदनी इस ग्रुप को हुई है। हमारी सरकार ग्रामीण इलाकों में कौशल विकास पर भी काम कर रही है। 31 लाख से ज्यादा कौशल विकास महिलाओं का किया गया है। पशु पालन की नई तकनीक पर 90 हजार बहनों को ट्रेनिंग दी जा रही है। इससे यकीनन लोगों की आय में वृद्धि तय है। पशु पालन क्षेत्र में भी महिलाएं हैं, किसान क्रेडिट कार्ड पशुपालन में भी मिलेगा। काशी में डेरी उद्योग को बढ़ावा देने के लिए अमूल और पराग डेरी लगाई गई है। देश भर में 15 करोड़ मुद्रा लोन में 11 करोड़ लोन महिलाओं को मिला यूपी में 80 फीसद लोन महिला को मिला है। रिटेल चेन में महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप में भी महिलाओं को जोड़ा गया है। कोई टेंडर नहीं होगा, कम पैसे होंगे तो उत्पाद सरकार खरीद लेगी। आपके प्रोडक्ट का दायरा बढेगा। अखबार के वेस्ट का यूज हो रहा है। बहनें अपने कूड़ा कचरा वेस्ट से बेस्ट उत्पाद बनाया जा रहा है। मोटरसाइकिल पर चक्र बनाकर पुरानी साडिय़ों से रस्सी बना रहे हैं। कूड़ा कचरे से अच्छी चीजें बना सकते हैं। अभियान चलाना होगा। हमारे यहां यूरिया की नीम कोटिंग हो रही है। नीम की फली से तेल बनाकर बहनें बेचने लगी हैं। नए क्षेत्रों में भी जाना होगा। मेडिकल, हास्पिटैलिटी में भी मरीज को घर का खाना दिया जा रहा है। मरीज के साथ लोगों को भी सुविधा होती है। कई शहरों में लड़के लडकियां रहते हैं। स्वयं सहायता समूह कामन किचन से कमाई भी कर रहे हैं। नए क्षेत्र विकसित हो रहे हैं। इन्हें बढ़ावा देना है। सीधी मदद एक करोड़ से अधिक परिवार को मिल चुकी है। जिनको नहीं मिली तो उनको शीघ्र मिलने वाली है। बुढ़ापे में शरीर काम नहीं कर पाता तो उनके लिए पेंशन योजना है। आपको 18 से 40 की उम्र में योजना से जुड़ें तो 100 जमा करें तो उतनी रकम लोगों को मिलेगा। आपके साठ साल बाद जब तक जिएंगे आपको लाभ मिलेगा। एक फार्म भरने के बाद एक बाद पैसे देने होंगे और गारंटी बन जाएगी। बहनें इसका फायदा उठाएं ताकि बुढ़ापे में सम्मान से जी सकें। महिलाओं का स्वभाव है परिवार की सोचती हैं। खाने की चीज बनाएंगी तो परिवार को खिलाती हैं। खुद बीमार हों तो भी अपनी चिंता नहीं करती। अब मुझे स्थिति बदलती है तो उनके लिए आयुष्मान योजना है। सरकार जनहित की योजनाओं पर काम कर रही है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी को वैश्विक मानचित्र पर लाने और भारत को आर्थिक समृद्धि और सामरिक ताकत का अहसास कराने वाले पीएम मोदी काशी आए हैं उनका हार्दिक स्वागत। काशी हम सबकी आध्यात्मिक नगरी है वैश्विक मानचित्र पर काशी को ले जाने के लिए पीएम ने जो बीड़ा उठाया। इस दौरान अनेक राष्ट्राध्यक्षों का दौरा हुआ। विकास के नए प्रतिमान बनाए हैं। पीएम ने काशी आगमन के समय कहा था मुझे मां गंगा ने बुलाया है। मुझे बाबा विश्वनाथ ने बुलाया है। सैकड़ों वर्ष से गंगा अविरलता निर्मलता के लिए तड़प रही थीं। पीएम ने इसके लिए नया आयाम दिया। कुंभ का सफल आयोजन हुआ उसमें नमामि गंगे का बडा योगदान था। आज काशी व दुनिया के अंदर भारत की संस्कृति के लिए गौरव का दिन है। यहां लगभग तीन सौ वर्षों के बाद विश्वनाथ की सुंदरीकरण का शुभारंभ हुआ है। याद कीजिए तीन सौ वर्षों तक किसी को फुर्सत नहीं थी। आजादी के बाद भी किसी ने नहीं सुधि ली। गांधी ने भी गलियों पर टिप्पणी की थी। गंदगी को लेकर भी उन्होंने कहा था। जिस प्रकार से काशी विश्वनाथ को सोमनाथ के भांति ही आगे बढाने का काम किया है। सैकडों वर्षों से काशी ही नहीं पूरी दुनिया के सनातन हिंदू इंतजार कर रहे थे। आपके साथ पीएम संवाद करने आए हैं।महिलाओं को महिला दिवस की बधाई। पीएम ने मातृ शक्ति को सम्मान दिया है। पीएम ने उपहारों से मिली धनराशि गुजरात की कन्याओं की शिक्षा के लिए दान कर दिया। गुजरात के सरकारी कर्मियों के कन्याओं के लिए स्वयं के सेविंग को दान दिया। पीएम ने पीएम के तौर पर मिले उपहारों की राशि से मां गंगा के नमामि गंगे मिशन को दान दिया है। हम गौरवान्वित हैं अपने नेता पर जिन्हें सियोल पीस पुरस्कार मिला उसे भी उन्होंने मां गंगा को दान कर दिया। संगम में आस्था की डुबकी लगाई और स्वच्छताकर्मियों के पैर धुलकर उनका भी सम्मान किया है। स्वयं की बचत का हिस्सा भी पीएम ने उनको दिया हो। योजनाओं के माध्यम से पीएम मोदी ने मातृ शक्ति का सम्मान किया है।

काशी विश्वनाथ परिसर के पास सभास्थल पर लोगों को संबोधित करने के बाद रेड जोन में मंदिर दफ्तर के पास ही भूमि पूजन कर काशी की प्राचीन वैदिक रीति से सस्वर वेद मंत्रों के बीच विधि-विधान पूर्वक पांच शिलाएं रख कर शिलान्यास किया।श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर न्यास परिषद के अध्यक्ष आचार्य पं. अशोक द्विवेदी के निर्देशन में दो-दो वैदिक विद्वान पूजन-अनुष्ठान के विधान पूरे कराएं तो इस दौरान 11 वैदिक विद्वानों ने मंत्रोच्चार किया। पीएम ने कॉरिडोर निर्माण का शिलापट्ट करने के साथ ही भवनों के ध्वस्तीकरण के दौरान मिले देवालयों को भी शीश झुकाया और नमन किया। वहीं कॉरिडोर से ही मां गंगा को भी उन्होंने नमन किया। इस लिहाज से क्षेत्र में आने वाले देवालयों की मरम्मत, रंगाई -सफाई कर फूलों से शिखर तक सजाए गए थे। पीएम नरेंद्र मोदी ने कॉरिडोर उदघाटन के दौरान लोगों को संबोधित भी किया। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आप सभी रंगभरी एकादशी और होली मनाइए। मेरा सौभाग्य है। जिन सपनों से अरसे से संजोया था। राजनीति में नहीं था तब भी यहां आता था। कई बार आया लेकिन नजर आता कि कुछ करना चाहिए। लेकिन पता नहीं शायद भोले बाबा ने तय किया होगा कि बेटे बातें बहुत करते हो आओ यहां करके दिखाओ। आज बाबा के आदेश से सपना साकार होने का शुभारंभ हो रहा है। काशी विश्वनाथ धाम भोले बाबा के मुक्ति का पर्व है। चारों ओर दीवारों से बाबा को सांस लेने में दिक्कत थी। अगल बगल कई मकानों ने घेरा था। बाबा के भक्तों को अब विशालता की अनुभूति होगी। सरकारी मुलाजिम कई देखे हैं।पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार कोई काम दे तो मुलाजिम प्रयास भी करते हैं लेकिन योगी जी ने जो टीम लगाई है वह भक्ति भाव और सेवा भाव से दिनरात काम पूरा करने के लिए लगी है। सबको साथ लेना समझाना, विरोधी और झूठ फैलाने वालों को भी समझाना। राजनीति का रंग न लगे यह भी अफसरों की टोली ने किया है। उनको अनेक अभिनंदन और धन्यवाद। मकानों के मालिकों को तैयार किया। करीब तीन सौ प्रापर्टी को जिस प्रकार सहयोग दिया। अपनी इस जगह हो छोडकर बाबा के चरणों में समर्पित कर दी। यह काम लोगों ने किया है उनका भी सांसद के रूप में आभार और अभिनंदन करता हूं कि उन्होंने अपना काम मानकर पूरा किया। कितने सदियों से यह स्थान दुश्मनों के निशाने पर रहा। कितनी बार ध्वस्त हुआ अस्तित्व विहीन रहा। यह क्रम सदियों से चलता रहा। महात्मा गांधी जब आए तो उनके मन में भी पीडा रही। उन्होंने बीएचयू में भी अपनी पीडा व्यक्त की थी। उनकी बात को अब सौ साल होने जा रहे।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि अहिल्या देवी ने सदियों के बाद इसके पुनरुद्धार का बीडा उठाया था। तब उसे रूप मिला। अगर आप सोमनाथ जाएंगे तो सोमनाथ में भी बडी भूमिका निभाई थी। लेकिन उसको भी ढाई सौ साल बीत गए। मैं हैरान हूं जब इतने सारी इमारतों को तोडना शुरू किया तो चालीस मंदिरों को लोगों ने कब्जा कर रखा था। भोले बाबा ने चेतना जगाई। चालीस के करीब ऐसे ऐतिहासिक पुरातत्वीय मंदिर मिले जो अजूबा लगेगा कि यह काम कैसे हो गया। लोग दबाते गए आज उन मंदिरों के मुक्ति का भी नंबर आ गया। दशकों बाद इस बार शानदार शिवरात्रि मनाई गई। आप सोशल मीडिया में देखिए परिसर की तस्वीरें। एक सपना था मॉडल और फिल्म देख रहे हैं। बाबा का सीधा गंगा से संपर्क हो गया है। यह काशी विश्वनाथ महादेव भोले बाबा का स्थान है। काशी आने का मूल कारण यहां आने का उददेश्य है।पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि मंदिरों की रक्षा कैसे हो उसकी आत्मा को बरकरार रखते हुए आधुनिक व्यवस्था हो इसका बहुत अच्छा मिलन दिख रहा है। यह पूरा परिसर के रूप में मिलेगा। यह धाम मां गंगा से जोडेगा। इससे काशी को नई पहचान मिलेगी। ढाई सौ साल बाद मेरे ही हाथ लिखी थी। मैं आया नहीं मुझे बुलाया है। मुझे बुलावा ऐसे ही कामों के लिए था। मेरा संकल्प मजबूत हुआ है। यह काशी नहीं देश से जुडा है।बीएचयू से आग्रह है कि केस स्टडी करना चाहिए। काशी हिंदू यूनिवर्सिटी इस पर रिसर्च भी करे। ताकि दुनिया को पता चले कैसे लोगों के सहयोग से यह काम हुआ। शास्त्रों के मुताबिक कामों का पूरा पालन किया गया। ताकि आस्था पर खरोच न आए। यह नव चेतना का केंद्र बनेगा। सामाजिक चेतना का यह केंद्र बनेगा। योगी सरकार को। मुझे राज्य सरकार का सहयोग मिला होता तो हम उद्घाटन कर रहे होते। उन सुविधाओं को सरकार की वजह से पूरा करने का अवसर मिला है। हम लोगों को चालीस मंदिर मिले उनको भी उसी प्रकार संभालेंगे। उसकी भी चीजें पुरातत्व महत्व को बीएचयू भी संभाले। काशी का महत्व बढेगा। बाबा के चरणों में सिर झुकाकर नमन करता हूं। हर हर महादेव

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी को पीएम नरेंद्र मोदी एक बार फ‍िर कल देने आ रहे सौगात

» वाराणसी पुलिस ने रेडलाइट एरिया में छापेमारी कर युवती को कराया मुक्‍त, हिरासत में कई लोग

» पीएम मोदी आठ मार्च को बनारस आ सकते हैं श्रीकाशी विश्वनाथ कारिडोर साज-सज्जा शुरू

» वाराणसी के रामनगर में मुठभेड़ के दौरान 25 हजार का इनामी अंतरप्रांतीय डकैत घायल, गिरफ्तार

» जिला वाराणसी में सीवर टैंक की सफाई करने उतरे दो मजदूरों ने दम तोड़ा, खोजबीन के बाद मिले शव

 

नवीन समाचार व लेख

» अखिलेश यादव ने कहा आखिरी बार कर रहे हैं उद्घाटन का शौक पूरा

» राजधानी के हजरतगंज कोतवाली में मची खलबली : कोई बल्ली लेकर भागा, तो कोई कूड़े पर डालने लगा मैट

» राजधानी लखनऊ में मेट्रो का नया युग, PM मोदी ने कानपुर से रिमोट का बटन दबाकर किया रवाना

» लखनऊ में मंत्री नितिन गडकरी ने कहा जल परिवहन विकसित किया जाए तो गंगा बनेगी यूपी का ग्रोथ इंजन

» कानपुर मे पीएम मोदी ने कहा सिरफिरे लोगों ने कश्मीरी भाइयों के साथ हरकत की, सरकार ने कार्रवाई की