यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रियंका वाड्रा 29 अप्रैल को वाराणसी से करेंगी नामांकन, मुख्यालय से घोषणा का इंतजार


🗒 गुरुवार, अप्रैल 25 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देने के लिए अंतत: कांग्रेस की महासचिव और पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका वाड्रा चुनावी मैदान में उतरने जा रही हैं। आगामी 29 अप्रैल को वाराणसी संसदीय सीट से उनके नामांकन की तैयारी पार्टी स्‍तर पर हो रही। हालांकि, इस बाबत आधिकारिक घोषणा 27 अप्रैल को दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय से हो सकती है। इसके संकेत बुधवार को स्थानीय पार्टी संगठन को मिले हैं। मुख्यालय से एक वरिष्ठ नेता ने फोन कर स्थानीय संगठन की तैयारियों की समीक्षा भी की है। मुख्यालय से आए फोन पर संगठन की तैयारियों को बिंदुवार प्रस्तुत किया गया। भरोसा दिया गया कि कांग्रेस संगठन की तैयारी जमीनी स्तर पर है। जिलाध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा ने प्रियंका वाड्रा के चुनावी मैदान में उतरने की पुष्टि तो नहीं की लेकिन वाराणसी से नामांकन को लेकर इन्कार भी नहीं किया। राष्ट्रीय सचिव बाजीराव खड़े, राष्ट्रीय कोआर्डिनेटरराहुल त्रिपाठी, पूर्व विधायक अजय राय ने गांव-गांव भ्रमण शुरू कर दिया है। 2014 लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रत्‍याशी रहे अजय राय ने प्रियंका के बनारस के चुनाव मैदान में उतरने की प्रबल संभावना बताई है। मोदी सुनामी रोकने की तैयारी पार्टी से मिल रही जानकारी के अनुसार पीएम मोदी की सुनामी को रोकने के लिए प्रियंका वाड्रा पूरी तैयारी से चुनाव मैदान में उतर रही हैं।

प्रियंका वाड्रा 29 अप्रैल को वाराणसी से करेंगी नामांकन, मुख्यालय से घोषणा का इंतजार

मोदी की तरह दर्शन-पूजन के बाद नामांकन करने की योजना बन रही। काल भैरव मंदिर से दर्शन-पूजन कर नामांकन के लिए निकलने की बात की जा रही है। दो दिन रुक कर साधेंगी पूर्वाचल पूरे पूर्वाचल समेत बिहार तक कांग्रेस की लहर बनाने को प्रियंका दो दिनी प्रवास पर बनारस आ सकती हैं। एक दिन पहले वे नामांकन की तैयारियों के साथ ही बुनकरों, प्रबुद्धजनों समेत अन्य से मुलाकात कर सकती हैं। चुनाव लड़ने को लेकर प्रियंका वाड्रा का कहना है कि पार्टी की इच्छा पर वाराणसी ही नहीं देश के किसी भी लोस सीट से चुनाव लड़ने को तैयार हैं। काफी समय से कायम है सस्पेंस कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने वाराणसी से प्रियंका के चुनाव लड़ने को लेकर इन्कार नहीं किया है।उन्होंने सस्पेंस कायम रखने की बात कहते हुए वाराणसी में प्रियंका पर दांव खेलने को हवा दी है। अमेठी से कांग्रेस एमएलसी दीपक सिंह ने 19 अप्रैल को बयान दिया था कि प्रियंका वाराणसी से चुनाव लड़ेंगी। इसके लिए बहुत जल्द वाराणसी में डेरा जमा लेंगी। वर्ष 2019 का होगा महामुकाबला प्रियंका वाड्रा के वाराणसी से चुनाव मैदान में उतरने पर वर्ष 2019 का यह महामुकाबला होगा। पीएम मोदी की जीत का खाका भाजपा बुन चुकी है। जिसके तहत भाजपा ने सात लाख मतों के अंतर से जीत का लक्ष्य रखा है। कांग्रेस ने हार व जीत के लक्ष्य को जनता पर छोड़ते हुए कड़ी टक्कर देने का मन बनाया है।जानकारों की मानें तो इस मुकाबले का पूरे पूर्वाचल व बिहार तक व्यापक असर होगा। पार्टी के थिंक टैंक का मानना है कि नरेंद्र मोदी के सामने मजबूती से लड़ाई पूरे देश में कांग्रेस को सशक्त ही करेगी। रिसर्च टीम ने साधे जातीय समीकरण प्रियंका वाड्रा को मैदान में उतरने से पूर्व कांग्रेस ने तैयारी की है। पार्टी की रिसर्च टीम ने बारीकी से जातीय समीकरण साधा है। पार्टी के अनुसार वैश्य समाज से जुड़े मतदाता 3.25 लाख हैं। वहीं करीब तीन लाख मुस्लिम, ढाई लाख ब्राह्मण, दो लाख पटेल, डेढ़ लाख यादव, सवा लाख भूमिहार, एक लाख राजपूत, 80 हजार चौरसिया, 80 हजार दलित और 70 हजार अन्य पिछड़ी जातियां बताई जा रही हैं। प्रियंका को लेकर भाजपा सतर्क प्रियंका वाड्रा को लेकर भाजपा भी सतर्क हो चुकी है। चुनावी मुकाबले की बाजी अपने पक्ष में करने के लिए वह कांग्रेस को डैमेज करने की रणनीति में जुट गई है।एक ओर प्रियंका पर चुनावी हमला बोलने के लिए उनके पुराने वीडियो फुटेज को हथियार बनाया जा रहा है, जिसमें प्रियंका ने गले की माला पूर्व पीएम लालबहादुर शास्त्री को पहना दी थी। दूसरे, संगठन के पूर्व विधायक को भी तोड़ने की फिराक में भाजपा लगी है जिसका कोड वर्ड अपनों की घर वापसी बताया जा रहा है। हालांकि कांग्रेस संगठन किसी प्रकार की टूट की आशंका को सिरे से नकार रहा है साथ ही पूर्वांचल में कांग्रेस की वापसी के लिए पार्टी सक्रियता से जुट गई है।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» जिला वाराणसी में कर्ज में डूबे पिता ने अपनी तीन बेटियों के साथ जहर खाकर दे दी जान

» वाराणसी मे पीएम के गोद लिए गांव में लगा पोस्टर - 'यह चौकीदारों का गांव है, चोरों का आना वर्जित है'

» पीएम मोदी की हत्या की सुपारी के मामले में दर्ज होगा मामला तेज बहादुर की मुश्किल बढ़ी

» 50 करोड़ दो, 72 घंटे में मरवा दूंगा मोदी को; जाम छलकाते बर्खास्त BSF जवान तेज बहादुर का Video Viral

» वाराणसी से तेज बहादुर यादव नामांकन को लेकर पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

 

नवीन समाचार व लेख

» जाजमऊ के बालू घाट स्थित अगरबत्ती फैक्ट्री में ब्वायलर फटने से लगी भीषण आग, पांच कर्मी झुलसे

» राजधानी में फर्जी आर्मी अफसर बनकर दारोगा पुत्र करता था जालसाजी, साइबर क्राइम ने किया अरेस्ट

» आइएसआइ एजेंट मोहम्मद वकास पाकिस्तान वापस भेजे गए

» UP के आजमगढ़ में पूर्व मंत्री दुर्गा प्रसाद की गाड़ी पर पथराव, भदोही में भाजपा विधायक ने PO को पीटा

» स्वास्थ्य विभाग और ''नासी'' द्वारा थारू क्षेत्र में स्वास्थ्य एवं स्वक्षता कार्यक्रम आयोजित