यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वाराणसी के लंका पर प्रियंका के रोड शो में उमड़ी कांग्रेसियों की भीड़


🗒 बुधवार, मई 15 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का रोड शो बुधवार की शाम से शुरू होगा। इस मेगा शो को ऐतिहासिक बनाने के लिए कांग्रेस संगठन ने दिन-रात एक कर दिया है। शाम पांच बजे से लंका स्थित सिंह द्वार से रोड शो शुरु होने जा रहा है जो रविदास गेट, अस्सी, भदैनी, सोनारपुरा होते हुए गोदौलिया तक पहुंचेगा। इसमें पांच साल का जनता का दर्द बताती झांकियां भी होंगी। रोड शो के समापन के बाद प्रियंका गांधी श्रीकाशी विश्वनाथ व बाबा काल भैरव मंदिर में दर्शन-पूजन करेंगी। रोड शो से पूर्व शाम होते ही सोनारपुरा पर कांग्रेस पदाधिकारियों के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं का हुजूम उमड़ पड़ा।मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र शिवाला में मुस्लिमों की भीड़ रोड शो का स्‍वागत करेगी। पूर्व राष्ट्रीय महासचिव मोहन प्रकाश के भदैनी स्थित आवास के सामने पुराने कांग्रेसियाें की जुटान प्रियंका गांधी के स्वागत के लिए हो चुकी है। वहीं रास्‍ते में दंडी सन्यासी भी प्रियंका को आशीर्वाद देंगे। 

वाराणसी के लंका पर प्रियंका के रोड शो में उमड़ी कांग्रेसियों की भीड़

प्रियंका गांधी के रोड शो से पहले लंका गेट के पास भाजपा कार्यकर्ता की कांग्रेसियों ने पिटाई कर दी। पूरा मामला रोड शो के शुरुआत की जगह लंका चौराहे की है। यहां पर कांग्रेसी कार्यकर्ता 'चौकीदार चोर है' के नारे लगा रहे थे। नारे पर भाजपा कार्यकर्ता चंद्रशेखर ने गुस्‍से में प्रियंका और राबर्ट वाड्रा के खिलाफ अपशब्द कहा तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उसे जमकर पीट दिया। विवाद बढ़ता देखकर लंका पुलिस उसे थाने ले गई। पेशे से अधिवक्‍ता भाजपा कार्यकर्ता संग मारपीट किए जाने से कुछ देर तक कार्यक्रम स्‍थल पर विवाद की स्थित‍ि बनी रही। जिस रूट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रोड शो हुआ था उसी रूट पर प्रियंका के रोड शो का रास्‍ता भी चुना गया है। कांग्रेस संगठन इसे पीएम मोदी को चुनौती पेश करने के तौर पर देख रहा है। इसी रणनीति पर तैयारी भी हो रही है। संगठन के पदाधिकारी दावा कर रहे हैं कि मोदी के रोड शो से किसी भी स्तर पर प्रियंका का रोड शो कमतर नहीं होगा। रोड शो की थीम गंगा-जमुनी तहजीब पर आधारित है। रास्ते में झांकियां भी होंगी जो किसी नारे विशेष पर आधारित रहेंगी। मसलन, मैं दुखियारी-नोटबंदी की मारी, बंद करो धर्म का व्यापार-काशी नहीं सहेगा अत्याचार, मैं कर्जदार किसान, मेरा व्यापार-नहीं सहेगा जीएसटी की मार आदि की झांकियां प्रस्तुत की जाएंगी। रोड शो के दौरान प्रियंका गांधी लंका पर पं. मालवीय व मैदागिन पर राजीव गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगी। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के कार्यक्रम को लेकर बदलाव किया गया है। जहां पहले 15 मई को बनारस आगमन पर एक दिन प्रवास की बात संगठन की ओर से की जा रही थी, वहीं अब देर रात प्रियंका गांधी दिल्ली लौट जाएंगी। मीडिया प्रभारी प्रो. सतीश राय ने बताया कि प्रियंका गांधी दोहपर डेढ़ बजे विमान से बाबतपुर स्थित शास्त्री एयरपोर्ट आकर 1.35 बजे सलेमपुर के लिए प्रस्थान करेंगी। वहां सभा संबोधित करने के बाद दोपहर 3.30 बजे बाबतपुर एयरपोर्ट लौटेंगी, जहां एक घंटे का समय रिजर्व रखा गया है। बाबतपुर से 4.35 बजे प्रस्थान कर वह काशी हिन्दू विश्वविद्यालय आएंगी, जहां सिंह द्वार स्थित मालवीय प्रतिमा स्थल से उनका रोड शो आरंभ होगा। इससे पहले लंका पर मौजूद लोगों को संक्षिप्त संदेश देंगी। संक्षिप्त संबोधन से संदेश दे सकती हैं। वहीं पूर्व विधायक व कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय का दावा है कि अन्य दलों की तरह प्रियंका गांधी के रोड शो में कोई बाहरी नहीं होगा। इसमें सिर्फ बनारस के लोग ही शामिल रहेंगे। इसके लिए गांव-गांव व शहर के हर मुहल्लों में कार्यकर्ता पहुंच रहे हैं और रोड शो में शामिल होने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं। 

इन प्रमुख स्‍थलों से गुजरेगा प्रियंका का रोड शो

1- लंका : लंका क्षेत्र प्राचीन काशी का महत्‍वपूर्ण स्‍थल है। प्राचीन रामलीला के दौरान इस क्षेत्र में लंका का निर्माण किया जाता था। इस वजह से रामलीला का यह प्रमुख स्‍थल लंका के नाम से ही पहचाना जाने लगा। इस वजह से आज भी यही पहचान क्षेत्र की बनी हुई है। यहीं पर महामना मदन मोहन मालवीय ने सर्वविद्या की राजधानी की कल्‍पना को मूर्तरुप दिया और काशी हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय की स्‍थापना की थी। लंका पर ही पं. महामना मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्‍यार्पण कर रोड शाे की शुरुआत प्रियंका गांधी करेंगी। 

2- अस्‍सी : काशी में असि घाट या अस्सी घाट महत्वपूर्ण प्राचीन घाटों में से एक माना जाता है। गंगा की धारा संग यह वाराणसी का पहला घाट माना जाता है। काशी की दक्षिणी सीमा पर गंगा और असि नदी के संगम को अस्‍सी घाट की मान्‍यता मिली थी। इस घाट का क्षेत्र भदैनीघाट तक विस्‍तृत था, मान्‍यता यह भी है कि गोस्‍वामी तुलसीदास जी ने इसी घाट पर एक गुफा में निवास कर राममचरित मानस के एक खंड की रचना करने के बाद 1680 में इसी घाट पर प्राण त्यागा था। 

3- शिवाला : शिवाला घाट की अपनी प्राचीन मान्‍यता है। यहां पर माता आनंदमयी का पुराना आश्रम भी मौजूद है। माता आनंदमयी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गुरु थीं और काशी में इसी आश्रम में रहती थीं। पीएम नरेंद्र मोदी इस आश्रम में 2014 में जीत हासिल करने के बाद दर्शन और पूजन के लिए जा चुके हैं। यहीं पर ही महिषा सुरमर्दिनी का प्राचीन मंदिर भी शामिल है जो नवरात्रि में लोगों की आस्‍था का प्रमुख केंद्र बना रहता है। 

4- भदैनी : मान्‍यता है कि रानी लक्ष्‍मी बाई का यहां बचपन बीता था, वह यहीं पैदा हुई थीं। यह क्षेत्र पेशवाओं का गढ माना जाता है। इस क्षेत्र में बंगाली, मद्रासी, पेशवा मराठी सहित दक्षिण भारतीय लोगों का निवास स्‍थान भी माना जाता है। 

5- हरिश्‍चंद्र घाट मार्ग : ऐसी मान्यता है कि सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र सत्य की रक्षा के लिए काशी के इस श्मशान घाट पर स्वयं ही बिके थे, इसी कारण इस घाट का नाम हरिश्चन्द्र घाट पड़ा। यह काशी के दो श्मशान घाटों में से एक है। इस घाट पर शवदाह कब से आरम्भ हुआ इसका कोई स्पष्ट उल्लेख नहीं है, इस घाट पर 15-16वीं शताब्दी के सती स्मारक इस बात के प्रमाण हैं कि उस समय यहाँ श्मशान घाट था।

6- सोनारपुरा : पुरनिए मानते हैं कि बंगाल से दो कारोबारी मदन कुमार मुखर्जी और सोना बाबू यहां काफी पुराने समय कारोबार के उददेश्‍य से आए और यहीं पर बस गए। उनके नाम से ही मदनपुरा और सोनारपुरा क्षेत्र आज भी बसा हुआ है। मदनपुरा में योगी श्यामा चरण लाहड़ी का पुराना आश्रम भी है। यहीं प्राचीन दुर्गा मंदिर है जो 250 साल पुराना है। यहीं तीन प्राचीन कालेज सीएम ऐंग्लो बंगाली स्कूल, बंगाली टोला इंटर कालेज और दुर्गाचरण कन्या इंटर कालेज है। 

7- पांडेय हवेली : सोनारपुरा और मदनपुरा के बीच पांडेय हवेली क्षेत्र है। यहां पर तिलभांडेश्‍वर महादेव का प्राचीन मंदिर स्‍थापित है। वहीं दूसरी ओर सहस्रकाली मंदिर भी लोगों की आस्‍था का केंद्र है। यहां गंगा तट स्थित पांडेय घाट भी है जहां धार्मिक आयोजन नैत्यिक क्रम में होते हैं। यहां पर हिंदू और मुस्लिमों की मिश्रित आबादी निवास करती है। स्‍थानीय लोग परंपरागत कारोबार से जुडे हुए हैं। 

8- मदनपुरा : मदन कुमार मुखर्जी के नाम पर मदनपुरा क्षेत्र बसा हुआ माना जाता है। मदनपुरा क्षेत्र काशी में काफी पुराना माना जाता है। इस क्षेत्र में पुराने काशी की काफी मुस्लिम आबादी निवास करती है। यहां पर निवास करने वाली अधिकतर मुस्लिम आबादी कारोबार और लघु उद्यम से जुडी हुई है। यहां बुनकर और सजावटी सामानों का कारोबार करने वाले लंबे समय से काशी की अर्थव्‍यवस्‍था की रीढ बने हुए हैं। 

9- जंगमबाड़ी :  वाराणसी शहर की पहचान विश्वभर में अपने मंदिरों, मठों, आश्रमों के लिए रही है। काशी में मठों की परंपरा काफी पुरानी है। सबसे प्रचीन मठ की बात की जाये तो यह गौरव जंगमबाड़ी मठ को प्राप्त है। पहले इस मठ को हरिकेश आनंदवन नाम से जाना जाता था। जंगमबाड़ी अर्थात शिव को जानने वालों के रहने का स्थान। मठ के सभी पीठाधिपति शैव सम्प्रदाय के अनुयायी और उसके ज्ञाता होते हैं। काशी का यह अति प्रचीन मठ अपने आप में इतिहास के कुछ उस हिस्से को समेटे हुए है जिसकी तस्वीर अमूमन लोगों को देखने के लिए नहीं मिलती है। 

10- गोदौलिया : गोदौलिया क्षेत्र प्राचीन काशी का गंगा तट स्थित वह स्‍थान है जहां पुरानी काशी की बसावट है। गोदौलिया क्षेत्र में कई प्रमुख मंदिर स्‍थापित हैं साथ ही यहां काशी का पुराना दशाश्‍वमेध मार्केट भी मौजूद है जहां कपडों से लेकर धर्म आधारित दुकानों की बहुलता है। यह कभी शहर का पुराना बाजार हुआ करता था। दशाश्‍वमेध सहित कई प्रमुख घाटों पर जाने का रास्‍ता यहीं से हाेकर गुजरता है। बाबा दरबार का गेट भी इसी क्षेत्र में मौजूद है। प्राचीन मान्‍यताओं के अनुसार गुप्त गोदावरी नदी यहां से होकर बहती है। इसलिए इसका नाम अपभ्रंश हाेकर कालांतर में गोदौलिया के नाम से ही जाना जाने लगा।

वाराणसी से अन्य समाचार व लेख

» काशी में प्रियंका का रोड शो कल, सलेमपुर में जनसभा

» वाराणसी में कदमों से खिसक गई दूल्‍हे की दुनिया जब गुटखा खाने पर नाराज हो गई दुल्‍हनिया

» वाराणसी मे मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने बिरहा गायक पद्मश्री हीरा लाल यादव को दी श्रद्धांजलि

» जिला वाराणसी में पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे अतीक अहमद ने मैदान छोड़ा

» जिला वाराणसी में कर्ज में डूबे पिता ने अपनी तीन बेटियों के साथ जहर खाकर दे दी जान

 

नवीन समाचार व लेख

» लखनऊ के एलडीए में कार्यरत सहायक जनसूचना अधिकारी का बाबू घूस लेतेअरेस्ट

» मायावती ने कहा, जवानों की शहादत को भी भुना रही भाजपा

» उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा रायबरेली में अविश्वास प्रस्ताव पर खींचतान कांग्रेस में आपसी विरोध का नतीजा

» वाराणसी के लंका पर प्रियंका के रोड शो में उमड़ी कांग्रेसियों की भीड़

» बंगाल में चुनावी हिंसा की घटनाओं पर निर्वाचन आयोग की बैठक