यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बेचने आया था पिस्टल और कारतूस , गिरफ्तार


🗒 शनिवार, अप्रैल 30 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बेचने आया था पिस्टल और कारतूस , गिरफ्तार

आगरा, । सिकंदरा क्षेत्र का असलाह सप्लायर जीआसी मैदान के पास शनिवार सुबह पिस्टल की डिलीवरी देने पहुंचा था। डिलीवरी से पहले पुलिस ने उसे दबोच लिया। उसके पास से एक पिस्टल और प्रतिबंधित बोर के दो कारतूस बरामद हुए हैं। पूछताछ में शातिर ने खरीददार के साथ ही उसे सप्लाई देने वाले युवक का नाम भी बताया है। पुलिस उनके बारे में जानकारी जुटा रही है।लोहामंडी थाना पुलिस की टीम शनिवार तड़के अशोक नगर में गश्त कर रही थी।तभी असलाह सप्लायर के जीआसी मैदान के पास खड़े होने की जानकारी हुई। इंस्पेक्टर लोहामंडी देवेंद्र शंकर पांडेय ने बताया कि पुलिस टीम ने युवक को मंदिर के पास से गिरफ्तार कर लिया। उसकी तलाशी में एक .32 बोर की पिस्टल और प्रतिबंधित बोर 5.56 बोर के दो कारतूस बरामद हुए।गिरफ्तार युवक सिकंदरा के गैलाना निवासी विक्रम है। उसने पूछताछ में बताया कि वह पिस्टल गैलाना निवासी पवन से खरीदकर लाया था। खंदौली निवासी जितेंद्र को वह जीआइसी मैदान के पास डिलीवरी देने आया था। विक्रम के खिलाफ आयुध अधिनियम की धारा 25 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। उसके द्वारा दी गई जानकारी का सत्यापन किया जा रहा है।विक्रम ने पुलिस को बताया है कि वह पवन से 15 हजार रुनये में पिस्टल खरीदता था। इस पिस्टल को वह 25 हजार रुपये में बेच देता था। उसने अभी तक पुलिस की पूछताछ में केवल पूर्व में एक पिस्टल बेचने की बात स्वीकार की है।वह पिस्टल भी उसने खंदौली निवासी जितेंद्र को ही बेची थी।सप्लायर विक्रम से 5.56 बोर के दो कारतूस बरामद हुए हैं। ये कारतूस इंसास रायफल में इस्तेमाल होते हैं। अब इस बोर की पिस्टल भी बनाई जाने लगी हैं। ये कारतूस शातिर के पास कहां से आए? इस सवाल का अभी तक जवाब नहीं मिला है।