यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

शराबी पति को महिला ने बांक से काट डाला पति


🗒 शनिवार, मई 14 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
शराबी पति को महिला ने बांक से काट डाला पति

आगरा,  । शराबी पति ने नशे की लत पूरी करने को घर के बर्तन तक बेच दिए थे। आए दिन पत्नी से मारपीट करता था। शुक्रवार रात को शराब पीकर पत्नी से मारपीट की। इसके बाद पत्नी ने घर में रखे बांक से पति के सिर और चेहरे पर कई वार किए। लहूलुहान होकर वह गिर पड़ा। इसके बाद स्वजन उसे एसएन इमरजेंसी ले गए। देर रात उसकी मौत हो गई। पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज कर पत्नी को गिरफ्तार कर लिया।घटना बसई जगनेर के गांव गुगामद की है। यहां रहने वाला 40 वर्षीय देवेंद्र बेरोजगार था। उसके भाई ओमी ने बताया कि वह शराब पीने का आदी था। शराब पीने के बाद उसका पत्नी गिरजा से झगड़ा होता था। शराब के लिए देवेंद्र ने अपने घर के बर्तन व अन्य सामान भी बेच दिया था। उनके तीन बच्चे विशाल (11), श्याम (8) सोनम (6) वर्ष हैं। गिरजा मेहनत करके और गांव के लोगों मदद से किसी तरह परिवार का खर्च चला रही थी। शुक्रवार रात को देवेंद्र शराब पीकर घर आया। वह और शराब पीने को गिरजा से रुपये मांग रहा था। इसको लेकर दोनों के बीच विवाद हुआ। देवेंद्र ने गिरजा से मारपीट कर दी। इसके बाद गुस्से में गिरजा ने घर में रखे बांक से उसके सिर और चेहरे पर कई वार किए। वह लहूलुहान होकर गिर पड़ा। जानकारी पर ताऊ के पुत्र ओमी पहले उसे थाना बसई जगनेर ले गए। वहां से मजरूबी चिट्ठी लेकर वे उसे एसएन इमरजेंसी ले गए। रात एक बजे उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। घटना के बाद गिरजा घर से फरार हो गई थी। उसके तीनों बच्चे घर में ही थे। सीओ महेश कुमार का कहना है कि देवेंद्र के भाई ओमी की तहरीर पर गिरजा के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। देवेंद्र और गिरजा के तीन बच्चे हैं। घटना के समय भी वे घर में ही थी। मगर, वे कुछ भी बोल नहीं रहे हैं। घटना के बाद वे सहमे हुए हैं। ग्रामीणों का कहना है कि देवेंद्र अपने बच्चों और पत्नी पर बोझ बना हुआ था। वह कुछ कमाता नहीं था। घर के सामान को बेचकर शराब पी लेता था। किसी तरह गिरजा लोगों ने मदद लेकर बच्चों के लिए निवाले का इंतजाम कर पाती थी। अब देवेंद्र की हत्या में गिरजा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। ग्रामीणों का कहना था कि उसके जेल जाने के बाद बच्चों का कोई सहारा नहीं है। उनका क्या होगा? यही सवाल सभी ग्रामीणों को परेशान कर रहा था। कुछ ग्रामीणों ने थाने पहुंचकर पुलिस से गिरजा को छोड़ने का आग्रह भी किया।