यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बेटा ही निकला किसान का कातिल


🗒 मंगलवार, अक्टूबर 12 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बेटा ही निकला किसान का कातिल

आगरा, । शमसाबाद में किसान का हत्यारोपित बेटा ही निकला। रुपये न देने और बात न मानने पर उसने ही लोहे की रॉड से सिर में प्रहार कर किसान की हत्या की थी। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर 24 घंटे में ही हत्याकांड का पर्दाफाश कर दिया। हत्या में प्रयोग की गई रॉड भी बरामर कर ली है।शमसाबाद के नगला जामुनी निवासी 55 वर्षीय किसान लाखन सिंह की रविवार रात को हत्या कर दी गई थी। उनका शव सोमवार सुबह घर के बाहर चारपाई पर पड़ा मिला था। लाखन के सिर से खून निकल रहा था और गले में काला निशान था। स्वजन ने किसी से भी रंजिश होने से इन्कार किया था। लाखन के भाई विजय ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया। घटनास्थल पर मिले साक्ष्य कातिल के करीबी होने की ओर इशारा कर रहे थे। डॉग स्क्वाड भी शव मिलने के स्थान से लाखन के घर के एक कमरे में पहुंचा था। इस कमरे में लाखन का बड़ा बेटा सुल्तान सोया था। पुलिस ने शक के आधार पर लाखन सिंह के बड़े बेटे सुल्तान को हिरासत में ले लिया। इसके बाद पूछताछ की तो पूरा मामला खुल गया। पुलिस को पूछताछ में पता चला कि लाखन सिंह का बेटे सुल्तान से मनमुटाव चल रहा था। वे सुल्तान की बात नहीं मानते थे। अपने भाई विजय को अधिक तवज्जो देते थे। पिछले दिनों लाखन ने कोई जमीन बेची थी। इसके 16 लाख रुपये उनके पास आए थे। उन्होंने पूरे रुपये विजय को दे दिए थे। जबकि इसमें से विजय का हिस्से के आठ लाख रुपये ही थे। सुल्तान चाहता था कि आठ लाख रुपयों में से छह लाख रुपये बैंक का लोन चुका दिया जाए। मगर, लाखन सिंह ने ऐसा नहीं किया। विजय ने आठ लाख रुपये लाखन को वापस कर दिए थे। मगर, इनमें से सुल्तान को कुछ नहीं मिला था। इसी को लेकर उसका पिता से मनमुटाव चल रहा था। रविवार रात को उसने इसी के चलते लोहे की रॉड से पिता की हत्या कर दी।पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है।