यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

UP STF ने इनामी समेत साइबर गैंग के तीन सदस्य दबोचे


🗒 गुरुवार, जून 17 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
UP STF ने इनामी समेत साइबर गैंग के तीन सदस्य दबोचे

आगरा,। आगरा, लखनऊ और आंध्र प्रदेंश समेत कई राज्यों में 450 लोगों के साथ करीब एक करोड़ाें रुपये की धोखाधड़ी करने वाले साइबर गैंग के इनामी समेत तीन आरोपिताें को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है। गैग से एसटीएफ ने 7182 लोगों का डाटा बरामद किया है।एसटीएएफ ने इस साल 26 जनवरी को साइबर गैंग का पर्दाफाश किया था। जो फर्जी कंपनी बनाकर लोगों के खातों से करोड़़ों रुपये की धोखाधड़ी करके निकाल चुका था। गिरोह के सरगना सौरभ भारद्वाज समेत चार आरोपितों को जेल भेजा गया था। उनसे मिली जानकारी के बाद 26 फरवरी को एसटीएफ ने गिरोह को लोगों के क्रेडिट कार्ड का डाटा बेचने वाले इनामी शिल्पी समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया था। इसी गिरोह को क्रेडिट कार्ड का डाटा बेचने वाले नदीम अहमद निवासी गली नंबर तीन संगम विहार, वजीराबाद दिल्ली का नाम सामने आया था। आरोपित नदीम पर 20 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था।एसटीएफ नोएडा ने बुधवार को इनामी नदीम के अलावा दो अन्य आरोपितों सिद्धार्थ देवनाथ निवासी गोविंदपुरी कालका जी दिल्ली और पुनीत लाखा निवासी ओल्ड स्लैम क्वार्टर पश्चिमीपुरी, पंजाबी बाग दिल्ली को गिरफ्तार किया। पुलिस ने नदीम को संगम विहार और बाकी दोनों आरोपितों को सूरजपुर थाना क्षेत्र से दबोचा। एसटीएफ की पूछताछ में आरोपित नदीम ने बताया कि इंटर पास है। वह पूर्व में मोनिका के साथ एक कंपनी में काम कर चुका है। वहां पर उसकी मुलाकात आस मोहम्मद से हुई थी। बाद में नौकरी छोड़कर वह एसबीआइ में टीम लीडर बन गया। यहां पर उसकी मुलाकात सुलेमान से हुई थी।सुलेमान ग्राहकों के क्रेडिट कार्ड का डाटा निकालकर नदीम और मोनिका को बेचता था। कुछ समय बाद नदीम ने नौकरी छोडकर अपना काम करने लगा। इसी दौरान उसे एक बैंक के क्रेडिट कार्ड ग्राहकों का डाटा एकत्रित करने का काम मिला। इस काम के दौरान ही पुनीत लाखा और सिद्धार्थ उसके संपर्क में आए। वह दोनों ग्राहकों के क्रेडिट कार्ड डाटा उसे देने लगे। वह यह डाटा गिरोह को सौंप देता था। एसटीएफ ने आरोपित नदीम से 7182 लोगों के क्रेडिट कार्ड का डाटा बरामद किया है। गिरोह इनमें से 450 लोगाें को अपना शिकार बनाकर उनसे करीब एक करोड़ रुपये की धोखाधड़ी कर चुका है।

अलीगढ़ से अन्य समाचार व लेख

» गाड़ी पार्किंग का विरोध करने पर दुकान में घुसकर मारपीट

» अधिवक्ता को मिली धमकी, पांच लाख दे दो नहीं जान से मार दूंगा

» गेंहू की चोरी के आरोप में 22वर्षीय युवक की गला दबाकर हत्या

» अलीगढ़ में शटर काटकर दुकान से लाखों का सामान चोरी

» अलीगढ़ में करंट से युवक की मौत