यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अलीगढ़ में अवैध तरीके से रह रहा बांग्लादेशी रोहिंग्या पकड़ा


🗒 सोमवार, जुलाई 19 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अलीगढ़ में अवैध तरीके से रह रहा बांग्लादेशी रोहिंग्या पकड़ा

अलीगढ़, ।  कोतवाली नगर पुलिस ने अवैध रूप से रह रहे रोहिंग्या बांग्लादेशी लति फुर्ररहमान को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक, आरोपित करीब 10 साल से भारत में अवैध तरीके से रह रहा है। काफी साल पंजाब में भी रह चुका है। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ विदेशी अधिनियम में मुकदमा दर्ज करके जेल भेज दिया है।सीओ प्रथम राघवेंद्र सिंह ने बताया कि बीते दिनों एटीएस की कार्रवाई के बाद रोहिंग्या का सत्यापन करवाया जा रहा था। इसी बीच जानकारी मिली थी कि मखदूम नगर में एक व्यक्ति बिना पासपोर्ट के रह रहा है। इस पर इंस्पेक्टर धीरेंद्र मोहन शर्मा की टीम ने आरोपित बांग्लादेश के जिला कोक्स बाजार के थाना ठिगनाप के गांव खंजर पाड़ा निवासी लति फुर्ररहमान को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित ने पूछताछ में बताया है कि करीब 10 साल पहले दलाल की मदद से बार्डर पार करके भारत आया था। यहां अलीगढ़ में आकर रहने लगा। फिर पंजाब में चला गया। वहां एक मीट फैक्र्टी में काम किया। कुछ दिनों पहले ही अलीगढ़ आया था। आरोपित को जेल भेज दिया है। साथ ही दूतावास से संपर्क करके आरोपित का सत्यापन करवाया जा रहा है।रोरावर थाना क्षेत्र के चमरौला गांव में भी एक महिला के अवैध रूप से रहने की सूचना मिली थी। इस पर थाना रोरावर पुलिस ने महिला को हिरासत में लिया है। इसका नाम अमरुल निशा है। महिला बांग्लादेश की रहने वाली है। इससे पूछताछ की जा रही है।

अलीगढ़ से अन्य समाचार व लेख

» हवा भरते में कंप्रेशर फटा, साइकिल मिस्त्री की मौत

» हत्‍या के आरोप में प्रधान पुत्र को पुलिस ने भेजा जेल

» अलीगढ़ में दादी-दादी ने किया था बच्ची का कत्ल

» लालच देकर महिला से जेवरात, नगदी ठग ले गया युवक

» टप्पल क्षेत्र में गला दबाकर की गई बच्ची की हत्या

 

नवीन समाचार व लेख

» थानेे में पहुंच गैंगस्टर बोला, कभी नहीं करूंगा अपराध

» खेलने के बहाने बच्चे को घर से बुलाकर सामूहिक कुकर्म

» सीएम योगी आद‍ित्‍यनाथ से म‍िले सि‍ंगापुर के उच्चायुक्त

» भारत बंद का सपा समर्थन में तो व‍िरोध में उतरेंगे व्यापारी

» गुरुकुल, मदरसा, मिशनरी और वैदिक स्कूल के लिए समान शिक्षा संहिता की मांग