यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अलीगढ़ में जीजा ने फांसी लगाकर दी थी जान


🗒 शनिवार, अगस्त 28 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अलीगढ़ में जीजा ने फांसी लगाकर दी थी जान

अलीगढ़ : थाना बन्नादेवी क्षेत्र के सारसौल स्थित पटाखे वाली गली में आत्महत्या करने वाले जीजा ने फांसी लगाकर जान दी थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जयप्रकाश की मौत का कारण हैंगिग (खुदकुशी) आया है। वहीं साली मीरा की मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। इसके लिए उसका विसरा जांच के लिए सुरक्षित किया गया है। जयप्रकाश के भी विषाक्त खाने की आशंका है। ऐसे में उसके विसरा की भी जांच होगी।पटाखा वाली गली निवासी 45 वर्षीय जयप्रकाश के नगला मुरारी निवासी साली 38 वर्षीय मीरा पत्नी चंद्रपाल से करीब पांच साल से प्रेम संबंध थे। दोनों के परिवार को जानकारी हुई। कई बार टोका-टाकी हुई। वहीं शुक्रवार को मीरा पहले जयप्रकाश के घर पहुंची, जहां दोनों ने आत्महत्या कर ली। जयप्रकाश का शव फंदे पर झूलता मिला था, जबकि मीरा बेड पर पड़ी थी। पुलिस को कमरे में सल्फास के दो पाउच भी मिले थे। ऐसे में आशंका थी कि दोनों ने विषाक्त का सेवन किया है। इसके लिए शनिवार को पोस्टमार्टम हुआ। सीओ मोहसिन खान ने बताया कि प्रेम प्रसंग में दोनों ने अपनी जान दी है। पोस्टमार्टम में स्पष्ट हुआ है कि जयप्रकाश ने फांसी लगाकर जान दी थी। महिला की मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका। वहीं दोनों के विषाक्त खाने की आशंका है। ऐसे में दोनों के विसरा जांच के लिए सुरक्षित कर लिए गए हैं। सीओ के अनुसार कमरे में दो पंखे लगे हैं। ऐसे में दोनों ने पंखे से झूलने की तैयारी कर रखी थी। जयप्रकाश ने चारपाई पर चढ़कर फंदा लगाया था, बेड पर पड़ी मीरा के पास ही एक ड्रम रखा था, जिसके ऊपर दूसरे पंखे में भी फंदा लगा था। हो सकता है कि मीरा को विषाक्त का असर जल्दी हो गया हो। उन्होंने बताया कि जयप्रकाश और चंद्रपाल के घर के बीच करीब दो किलोमीटर की दूरी है। अक्सर मौका मिलने पर दोनों एक-दूसरे से मिलते थे। इसे लेकर मीरा का चंद्रपाल से, जबकि जयप्रकाश का उसकी पत्नी से झगड़ा होता था। पुलिस के मुताबिक, इसी बात से आहत होकर दोनों ने आत्महत्या करने का फैसला किया होगा।