फांसी के फंदे से लटकता मिला ब्यूटी पार्लर संचालिका का शव

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

फांसी के फंदे से लटकता मिला ब्यूटी पार्लर संचालिका का शव


🗒 सोमवार, मार्च 08 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
फांसी के फंदे से लटकता मिला ब्यूटी पार्लर संचालिका का शव

औरैया ,। औरैया जनपद के अजीतमल में कोतवाली के बाबरपुर कस्बा के मोहल्ला नवीन नगर में ब्यूटी पार्लर की दुकान 22 वर्षीय संचालिका का शव सोमवार को दुकान की छत पर संदिग्ध परिस्थितियों में लटकता मिला। जब स्वजन उसका शव फांसी के फंदे से लटकता देखा तो हड़कंप मच गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दरवाजे का शीशा तोड़कर शव को बाहर निकाला। मृतका के पिता ने उसकी पुत्री की ओर से खुदकुशी किए जाने की तहरीर दी है।मोहल्ला नवीन नगर निवासी रामगोपाल कुशवाहा की सबसे छोटी पुत्री 22 वर्षीय राधा कुशवाहा अजीतमल स्थित जनता महाविद्यालय में बीएड की छात्रा थी। घर के पास ही मोहल्ले में एक दुकान को किराए पर लेकर ब्यूटी पार्लर की दुकान किए हुए थी। सोमवार सुबह वह अपनी अंक तालिका लेने कॉलेज गई थी। वहां से अंकतालिका लेकर अपनी दुकान पर आ गई। दोपहर को राधा की मां दुकान पर पहुंची, तो दुकान के कमरे में दरवाजे के शीशों में से पुत्री राधा को छत के कुंडे से फांसी से लटकता देखा। शोर मचाने पर काफी लोग एकत्र हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजे का शीशा तोड़कर उसे फंदे से नीचे उतारा। तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। स्वजन ने अज्ञात कारणों से खुदकुशी कर लिए जाने और मामले की जांच कराए जाने की बात कही है। अभी तक मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है। कोतवाली निरीक्षक विनोद कुमार शुक्ला ने बताया कि राधा के पिता रामगोपाल की ओर से तहरीर मिली है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारण स्पष्ट हो सकेंगे।मृतका राधा की बड़ी बहन विमला, अनीता, रीता, कुसमा व भाई ज्ञान सिंह की शादी हो चुकी है। राधा ब्यूटी पार्लर की दुकान संचालित कर अपने पिता रामगोपाल व मां लज्जावती के साथ रहकर परिवार का भरण पोषण कर रही थी। राधा के शव पर बिलखते हुए मां कह रही थी कि पढ़ाई में अच्छे नंबर न आने से उसने जीवनलीला समाप्त कर ली। वहीं पिता रामगोपाल ने बताया कि कॉलेज से आने के बाद राधा के साथ घटना घटित हो गई। एक महीने पहले अपनी ब्यूटी पार्लर की दुकान की कमाई से उसने प्लाट भी खरीदा था। कैसे हो गया सब, पता ही नहीं। इस पुत्री के हाथ पीले करने थे। लेकिन किस्मत में शायद ये नहीं लिखा था।