यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

परिवार को धोखे में रख नहर में फेंक दिया नवजात का शव


🗒 शुक्रवार, फरवरी 11 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
परिवार को धोखे में रख नहर में फेंक दिया नवजात का शव

औरैया, । शुक्रवार को दिबियापुर थाना क्षेत्र के एक अस्पताल में प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत हो गई। झोलाछाप द्वारा प्रसूता का आपरेशन किया गया था। मौत की बात स्वजन को नहीं बताई। नवजात के शव को पास की नहर में फेंक दिया। काफी जद्दोजहद के बाद पत्नी व जन्मे बच्चे की मौत का पता लगने पर पति ने पुलिस को सूचना दी। फेंके गए शव की तलाश में पुलिस ने हाथ पांव मारना शुरू किया। क्लीनिक पर दबिश दी जहां ताला लगा मिला।अजीतमल कोतवाली क्षेत्र के खुशहालपुर गांव निवासी विक्रम सिंह पुत्र स्व. अशोक कुमार 10 फरवरी को प्रसव पीड़ा होने पर पत्नी सोनी देवी को दिबियापुर कस्बा के ककराही रोड समीप एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया था। देर रात झोलाछाप की ओर से आपरेशन किए जाने की बात कही गई। इसके लिए 50 हजार रुपये जमा कराया गया। कुछ देर बाद एक लाख रुपये की और मांग की। जिस पर स्वजन की ओर से हामी भरी गई। आपरेशन होने पर जच्चा-बच्चा दोनों को स्वस्थ बताया गया। पत्नी व नवजात से मिलने की इच्छा विक्रम ने जाहिर की तो इन्कार कर दिया गया। इस पर संदेह हुआ। शुक्रवार की दोपहर बाद उसे पत्नी व बच्चे की मौत की जानकारी हुई। इस पर वह बेसुध हो गया। पुलिस को पूरा मामला बताया। पत्नी का शव सौंपे जाने के बाद अस्पताल को बंद कर स्टाफ भाग निकला।वहीं, पहुंची पुलिस ने पत्नी के शव को कब्जे में लिया। जानकारी पर पता चला कि नवजात के शव को पास की नहर में फेंक दिया गया। इस पर पहुंचे सिपाहियों व स्वजन के होश उड़ गए। पत्नी का शव कब्जे में लेकर पंचनामा भरवाया गया। इसके बाद उसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा। प्रभारी निरीक्षक विकास राय का कहना है कि मृतका के पति की ओर से तहरीर दी गई है। जांच के तहत कार्रवाई की जाएगी। अस्पताल का लाइसेंस था या अवैध तरीके से संचालित हो रहा था, इसका पता लगाया जाएगा। नवजात का शव तलाशने का कार्य किया जा रहा है।