यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

चाचा ने भतीजी की गला घोंटकर कर दी हत्या, तीन गिरफ्तार


🗒 बुधवार, फरवरी 23 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
चाचा ने भतीजी की गला घोंटकर कर दी हत्या, तीन गिरफ्तार

औरैया, । मत अलग-अलग होने के चलते युवक से बातचीत न करने का दवाब काम नहीं आया था चाचा ने अपने भाइयों के साथ मिलकर किशोरी को मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद नामजद के खिलाफ तहरीर देकर हत्या का आरोप लगाया। 15 फरवरी को दिबियापुर थाना क्षेत्र अंतर्गत गांव सेहुद में घटित हुई इस घटना का राजफाश बुधवार को पुलिस ने किया। इसमें चार आरोपितों को पकड़ा गया है जबकि एक की तलाश की जा रही है। मामला आनर किलिंग का है। जिसमें किशोरी की रस्सी से गला घोंटकर हत्या की गई थी। दिबियापुर थाना क्षेत्र के गांव सेहूद निवासी गुलप्शा पुत्री फरियाज का शव बोरे से कसा हुआ घर से कुछ दूर पर कुएं में मिला था। स्वजन की ओर से पुलिस को सूचना दी गई थी। इसके बाद कुएं से शव बाहर निकाल पोस्टमार्टम को भेजा गया। मृतका के चाचा यासीन पुत्र मोहम्मद शफी ने गांव निवासी एक किशोर पर भतीजी की हत्या का आरोप लगाया था। पुलिस ने पूछताछ की तो उसने आरोप को गलत ठहराया। इसके अलावा किशोरी के स्वजन पर संदेह होने की बात कही थी। जिस आधार पर पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू किया। साक्ष्य हाथ लगे तो पूरा मामला सामने आ गया। कड़ाई से पूछा तो चाचा ने कहा कि किशोर से उसकी भतीजी मोबाइल फोन पर बात करती थी। उनके बीच नजदीकी होने की जानकारी मिली। धर्म अलग होने से समझाने का प्रयास किया लेकिन नहीं मानी तो भाइयों को साथ लेकर रस्सी से उसका गला कस दिया और बोरे में शव भरकर कुएं में फेंक दिया था। पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा ने बताया कि स्पेशल आपरेशन ग्रुप व क्षेत्राधिकारी सदर सुरेंद्र नाथ यादव के नेतृत्व में टीमें राजफाश के लिए लगी थी। मोबाइल फोन से हुई बातचीत को ट्रेस किए जाने पर पूरा मामला दूध का दूध व पानी का पानी हो गया। 23 फरवरी को मृतका के दो चाचा और पिता को पकड़ा गया। निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त बोरा व रस्सी बरामद किया गया। पकड़े गए आरोपितों में फरियाज, यासीन व इशरार है। अनवार फरार है। जिसे पकडऩे के लिए दबिश दी जा रही है।मृतका के चाचा व मुख्य आरोपित यासीन ने पुलिस को बताया कि गांव के ही रहने वाले किशोर से वारदात से पूर्व रात में मोबाइल फोन से भतीजी की बात कराई। इसके बाद भतीजी की गला घोंटकर हत्या कर दी। गुमराह करने के लिए मोबाइल फोन पुलिस को दिया गया। जिसे किशोर ने ही उसकी भतीजी को दिया था।