यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जिला आजमगढ़ में मायावती और अखिलेश ने भाजपा पर साधा निशाना


🗒 बुधवार, मई 08 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

लालगंज और अाजमगढ़ लोकसभा सीट बुधवार दोपहर बाद 2.15 बजे सपा मुखिया अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे। मुलायम सिंह यादव के स्‍थान पर इस बार सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव स्‍वयं चुनावी मैदान में हैं। आजमगढ़ से भाजपा के प्रत्‍याशी दिनेश लाल यादव निरहुआ चुनावी मैदान में सपा प्रमुख के लिए चुनौती पेश कर रहे हैं। वहीं जिले की दूसरी लोकसभा सीट लालगंज की गठबंधन प्रत्याशी संगीता आजाद भी चुनावी मैदान में हैं। आजमगढ़ की जनसभा को संबोधित करते हुए बसपा मुखिया मायावती ने आजमगढ से अखिलेश यादव के साथ ही लालगंज से बसपा की महिला प्रत्याशी संगीता आजाद को भी जिताने की अपील की। कहा कि आजमगढ सदर लोकसभा सीट से फूट डालो राज करो की नीति के तहत निरहुआ को प्रत्याशी बनाया है। मुझे अपने कार्यकर्ताओं पर भरोसा है कि आप सभी अखिलेश यादव को यहां से जिताएंगे। प्रदेश में पांच चरणों के वोट पड चुके हैं। जिसकी अच्छी रिपोर्ट गठबंधन के पक्ष में मिल रही है। इस बार चुनाव में यहां हमारे लोग नमो नमो की छुटटी करेंगे। 

जिला आजमगढ़ में मायावती और अखिलेश ने भाजपा पर साधा निशाना

भाजपा को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि संस्कृति और सभ्यता पर तंज कस रहे हैं। सपा बसपा गठबंधन से सदियों से उपेक्षितों को न्याय का मौका मिलेगा। यहां दलितों व पिछडों को नौकरी में जो अधिकार मिले हैं वह डा. आंबेडकर की है। आंबेडकर के प्रयासों से लोगों को कानूनी अधिकार मिले हैं लेकिन इसका पूरा लाभ लोगों को नहीं मिल पा रहा है। पहली सरकार कांग्रेस सरकार की बनी तो बाबा आंबेडकर कानून मंत्री बने थे। उसी समय उन्होंने लाभ लोगों को न मिलने की बात उठाई थी। बहुजन समाजपार्टी का गठन होने के बाद पार्टी लगातार दलितों आदिवासियों और पिछडों को लाभ दिलाने का प्रयास किया है। कांशी राम ने मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू करानी चाही मगर कांग्रेस ने सहयोग नहीं किया। हमें इसके लिए धरना प्रदर्शन करना पड़ा। 1989 में वीपी सिंह के नेतृत्व में सरकार बनी थी। भाजपा भी शामिल थी मगर बाहर से समर्थन दे रही थी। उस समय तीन सांसद पार्टी की ओर से थे। उस समय वीपी सिंह चाहते थे कि हम सरकार में शामिल हो जाए लेकिन हमारी शर्तें थीं। बाबा आंबेडकर ने देश का संविधान बनाया था लिहाजा भारत रत्न की उपाधि मांगी थी। दूसरी मांग थी पिछडे वर्ग के लिए मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू हो तो हम समर्थन करने को तैयार हैं।लेकिन भाजपा ने आरक्षण विरोधी मोर्चा बनाकर इसका विरोध कराया और वीपी सिंह की सरकार गिरा दी। आज अल्पसंख्यक सुरक्षित हैं जो बाबा साहेब की वजह से। बाबा आंबेडकर ने गरीबों मजदूरों के लिए संविधान में व्यवस्था की है। लेकिन पूंजीवादी लोग तैयार नहीं है लेकिन समाजवादी पार्टी के साथ आने से काम आसान हो जाएगा। इसी सोच के साथ तीन दलों का गठबंधन हुआ है। इससे भाजपा की नींद उठ गई है। पीएम ने गुजरात में अगड़ी जाति को ही पिछड़ी जाति में शामिल कर लिया है। सामाजिक महापरिवर्तन का गठबंधन किसी और राज्य में न बन जाए उससे भाजपा चिंतित है। राज्य में जो सरकार चल रही है उसमें भाई चारा का गठबंधन किया था उस समय कांग्रेस व बीजेपी की नींद उड़ गई थी। इसे तोडऩे के लिए भाजपा ने हथकंडे प्रयोग किए। 

आजमगढ़ की जनसभा को संबोधित करते हुए सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि पंडाल पूरा भरा हुआ है। आज के बाद जो संदेश गया है और जो लोग भूखे प्यासे और गर्मी में बैठे हैं वह जानते हैं कि आजमगढ और लालगंज से गठबंधन की विजय होगी। इस धरती की पहचान ही अलग है जो गंगा जमुनी संस्कृति है जो वह आजमगढ के लोगों में दिखाई देती है, यहां सभी मिलकर रहते हैं। चुनाव के बारे में जिसे जानकारी मिली होगी वह जानते हैं कि हर चरण में गठबंधन आगे जा रहा है। यहां के लोगों को छठवें चरण में वोट डालना है। आपसे इसलिए मदद मांगने आए हैं। यह देश को महा परिवर्तन के लिए ले जाने वाला महागठबंधन है। यह लोगों को सम्मान दिलाने वाला गठबंधन है। भाजपा को अपना वादा याद नहीं है। किसानों की आय नहीं बढ़ पा रही है। हमारे किसान इंतजार करते रहे कि खुशहाली आएगी लेकिन खाद की बोरी में पांच किलो की चोरी हो गई। नौकरी रोजगार की उम्मीद थी मगर सरकार ने नोटबंदी और जीएसटी से नौकरी खत्म हो गई। करोड़ों नौकरी की बात कही थी मगर व्यापार भी ठप है। मेक इन इंडिया से भारत में चीजें नहीं बन रही बल्कि अपने लोगों को लाइसेंस देकर चीन को आगे बढ़ा रहे हैं। अखिलेश ने चाय वाला और चौकीदार का हवाला देते हुए पुरानी बातों को दोहराया। बाबा मुख्‍यमंत्री कहते हैं कि संविधान न होता तो मैं गाय-भैंस चरा रहा होता, मैं कहता हूं कि यदि संविधान न होता तो बाबा भी मठ में घंटा बजा रहे होते। इन्‍होंने अपनी सरकार नफरत और धोखे की नींव पर रखा है। अंग्रेजों की तरह भाजपा हमें और आपको बांटना चाहती है। आजमगढ़ से समाजवादी रिश्‍ता बहुत पुराना है, यहां की जनता  पर हमें पूरा भरोसा है कि परिणाम ऐतिहासिक आएगा। काम करने के मामले में सपा और बसपा ने आगे बढ़कर काम किया है। सड़कों, मेडिकल कालेज और पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे के काम हमारी सरकार की ही देन है, अब दूसरी सरकार पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे का काम धीमा कर दिया है। पुराने प्रधानमंत्री फेल हो चुके हैं, देश काे नया प्रधानमंत्री चाहिए।

आजमगढ़ से अन्य समाचार व लेख

» आजमगढ़ में इलाहाबाद से गोरखपुर जा रही जनरथ बस खड़े ट्रक में भिड़ी, दो यात्रियों की हालत गंभीर

» जिला आजमगढ़ में रुपये मांगने पर कहासुनी के दौरान दो पक्षों में चले लाठी डंडे, कई लोग हुए घायल

» आजमगढ़ मे शराब की दुकान पर सो रहे सेल्समैन की संदिग्ध हालत में मौत

» आजमगढ़ से प्रतिबंधित संगठन सिमी का निवर्तमान अध्यक्ष गिरफ्तार

» जिलाआजमगढ़ में पुलिस फोर्स के साथ डीएम व एसपी ने जेल में मारा छापा, बंदियों की भी सघन तलाशी

 

नवीन समाचार व लेख

» लग्जरी गाड़ियों से घूमकर चोरी करने वाले गिरोह का बंथरा पुलिस ने किया पर्दाफाश

» आगरा के नुनिहाई की जूता फैक्‍ट्री में आग, लाखों का हुआ नुकसान

» क्राइम ब्रांच की टीम ने हथियारों की फैक्ट्री पकड़ी चार गिरफ्तार

» बुलंदशहर में येस बैंक की शाखा में भीषण आग, लाखों का कैश भी आया चपेट में

» राजधानी मे जमीन का रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर रुपये ऐंठे