यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आजमगढ़ में कोरोनावायरस के संक्रमण से बचाव के लिए 40 कुंतल मछलियां मरीं भय से नहीं हुई बिक्री


🗒 शुक्रवार, मार्च 27 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
आजमगढ़ में कोरोनावायरस के संक्रमण से बचाव के लिए 40 कुंतल मछलियां मरीं भय से नहीं हुई बिक्री

कोरोनावायरस के संक्रमण से बचाव के लिए चल रहे लॉकडाउन से मछली कारोबार भी बंद हो गया है। प्रतिदिन लभग आठ से दस लाख रुपये का कारोबार ठप गया है। वहीं, बिक्री बंद होने के कारण सिधारी मछली मार्केट में लगभग सात लाख रुपये की 40 कुंतल मछलियां मर गईं। जिन्हें प्रशासन से संज्ञान में लेते हुए तमसा नदी के किनारे एक बाग में डिस्पोज करा दिया।सिधारी स्थित मछली मार्केट में प्रतिदिन लगभग चार ट्रक मछली हैदराबाद से आती है। जिसकी कीमत लगभग आठ से 10 लाख रुपये होती है। जनता कफ्र्यू और उसके बाद लॉकडाउन घोषित होने के बाद मछली मंडी में बंदी हो गई। मछलियों के मरने की जानकारी होते ही एडीएम प्रशासन नरेंद्र ङ्क्षसह ने इओ डा. शुभनाथ प्रसाद को व्यवस्थित तरीके से डिस्पोज करने का निर्देश दिया। मंडया वार्ड के सभासद मुखराम निषाद की देख-रेख में सफाई इंस्पेक्टर महेंद्र यादव ने नदी किनारे 15 मीटर गहरे और 20 मीटर लंबे गड्ढे में मरी मछलियों को डालकर उसके ऊपर ब्लीङ्क्षचग पाउडर डालकर डिस्पोज कराया। जिससे इस संकट की घड़ी में किसी प्रकार की महामारी न फैले।