यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आजमगढ़ में प्रशासन ने गिराया हत्‍यारोपित का घर, लखनऊ में अजीत की हत्‍या का जरायम से जुड़ा तार


🗒 गुरुवार, जनवरी 07 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
आजमगढ़ में प्रशासन ने गिराया हत्‍यारोपित का घर, लखनऊ में अजीत की हत्‍या का जरायम से जुड़ा तार

आजमगढ़, । यूं तो लखनऊ में बुधवार की रात मारे गए मऊ जिले के मोहम्मदाबाद गोहना कोतवाली के देवसीपुर गांव निवासी अजीत सिंह के गुनहगारों को पुलिस ही ढूंढ़ पाएगी, लेकिन पुलिस ने जरायम की पुरानी कुंडली के आधार पर छानबीन तेज कर दी है। इसमें वर्ष 2019 में ध्रुव कुमार सिंह उर्फ कुंटू सिंह ने अजीत के पास 15 लाख रुपये मांगने के लिए अपने लोगों को भेजा था। उस समय हाथापाई के बाद विवाद भी हुआ था, जिसके बाद अजीत ने कुंटू समेत चार के खिलाफ केस दर्ज कराई तो पुलिस छानबीन में जुट गई थी।अजीत सिंह 26 मार्च को आजमगढ़ के दीवानी कचहरी में किसी मुकदमे की तारीख पर आया था। उसी दौरान तीन लोगों ने अजीत को घेर लिया और 15 लाख रुपये की डिमांड कर डाली। यह भी कहा कि कुंटू ने भेजा है, रुपये दो या फिर उनसे मुलाकात कर लो पेशी पर आए हैं। पुलिस डायरी में दर्ज केस के मुताबिक अजीत के शोर मचाने पर आरोपित भाग गए।कोतवाली में अजीत की तहरीर पर शिव प्रकाश उर्फ प्रकाश निवासी खुझिया थाना मुबारकपुर आजमगढ़, रामविजय सिंह निवासी भदीड़ थाना मुहम्मदाबाद मऊ, संजय यादव निवासी जिगरसंडी थाना जहानागंज, ध्रुव सिंह उर्फ कुंटू सिंह निवासी अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। पुलिस उस मुकदमे की जांच पूरी कर चार्जशीट लगा चुकी है। डीआइजी सुभाष चंद्र दुबे ने बताया कि छानबीन के बाद गैंगस्टर की कार्रवाई भी की गई है। फिलहाल चारोंं आरोपित जिला कारागार में निरुद्ध हैं।अब सगड़ी स्थित कुख्यात ध्रुव कुमार सिंह उर्फ कुंटू सिंह का मकान गिराया जाएगा। इसकी कवायद तो बहुत पहले शुरू हो गई थी। लेकिन लखनऊ में अजीत सिंह की हत्या के बाद कुंटू सिंह का फिर से नाम सामने आने पर प्रशासन अलर्ट हो गया। डीएम राजेश कुमार व एसपी सुधीर कुमार सिंह मौके पर पहुंच गए। कुंटू सिंह के तीन मंजिल मकान के पास भारी फोर्स तैनात है। जेसीबी मशीन मंगा ली गई। प्रशासन ने एक माह पूर्व मकान को सीज कर दिया था। उसके बाद से ही मकान के गिराए जाने के कयास लगाए जा रहे थे।