यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

इलेक्ट्रोनिक डिवाइस से धमाका करने वाला शातिर गिरफ्तार


🗒 बुधवार, जून 01 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
इलेक्ट्रोनिक डिवाइस से धमाका करने वाला शातिर गिरफ्तार

बागपत, । बिजरौल गांव में पड़ोसी के दरवाजे पर इलेक्ट्रोनिक डिवाइस (बम) से धमाका कर युवक को घायल करने वाले शातिर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का दावा है कि 10वीं फेल आरोपित व्यक्ति ने यू-ट्यूब पर वीडियो देखकर इलेक्ट्रोनिक डिवाइस बनाकर धमाका किया था। उसका मकसद धमाका करके पड़ोसी को सिखाना था कि उसे पता ही न चले कि यह धमाका (विस्फोट) किसने किया है और दहशत भी फैलाई जा सके।इंस्‍पेक्टर एमएस गिल ने बताया कि बिजरौल में लगभग 15-16 साल से कामेश पत्नी नरेंद्र और रणवीर पुत्र प्रकाश के परिवार के बीच पड़ोसी होने के कारण घरेलू मेलजोल व रुपयों का लेनदेन था। किसी बात को लेकर दोनों परिवारों के बीच मतभेद हो गए थे, जिसके बाद विवाद बढ़ गया था। रणवीर ने विवाद को सुलझाने का प्रयास किया, लेकिन मनमुटाव बरकरार रहा। इसी बात से क्षुब्ध होकर रणवीर ने कामेश के परिवार को सबक सिखाने की ठान ली। उसने यह तय किया कि वह ऐसा काम करेगा कि उसकी साजिश भी सफल हो जाए और किसी को कानोकान खबर भी न हो।रणवीर के मन में नई तकनीक से बदला लेने का विचार आया, तो उसने कामेश के दरवाजे पर बम विस्फोट करने की साजिश रची। इसके लिए उसने यू-ट्यूब का सहारा लिया और जानकार लोगों से भी बम बनाने के बारे में पूछा। यू-ट्यूब पर रणवीर को वह वीडियो मिल गया, जिसमें इलेक्ट्रोनिक डिवाइस से विस्फोट किया जा सकता था। इसी को देखकर रणवीर ने बाजार से पोटाश, गंधक, वायर, सेल आदि सामान खरीदा और खेत में जाकर इलेक्ट्रोनिक डिवाइस बना ली। साजिश विफल न हो, इसके लिए उसने डिवाइस से एक-दो बार खेत पर विस्फोट करके देखा। इसमें वह सफल हो गया।इंस्पेक्टर ने बताया कि रणवीर ने 26 मई की रात इलेक्ट्रोनिक डिवाइस को कामेश के घर के दरवाजे पर रखकर उसके ऊपर ईंट रख दी ताकि कोई अंदर या बाहर से दरवाजा खोले तो विस्फोट हो जाए। 27 मई की सुबह कामेश के बेटे गौतम ने अंदर से दरवाजा खोला, तो डिवाइस में धमाका हो गया। लोहे का दरवाजा क्षतिग्रस्त होने के साथ ही गौतम भी घायल हो गया। घटना का मुकदमा कामेश ने रणवीर के खिलाफ दर्ज कराया था। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया जहां से उसे जिला कारागार भेज दिया। मुकदमे में विस्फोट पदार्थ अधिनियम की धारा 2/3 की बढ़ोतरी कर ली।