यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

रिटायर्ड दारोगा के इकलौते बेटे की गोली मारकर हत्या


🗒 शनिवार, सितंबर 18 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
रिटायर्ड दारोगा के इकलौते बेटे की गोली मारकर हत्या

बागपत, । सीआइएसएफ के रिटायर्ड दारोगा के इकलौते बेटे की सीने में गोली मारकर हत्या कर दी गई। पास में 315 बोर का तमंचा और मृतक की जेब से एक कारतूस मिला। मुकदमा दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।ग्राम बिहारीपुर निवासी चौधरी नरेशपाल सिंह सीआइएसएफ से रिटायर्ड दारोगा हैं। वह परिवार के साथ गांव में रहते है। उनका इकलौता बेटा रोहिन (30) शुक्रवार सुबह 11 बजे घर से बिना बताए कहीं चला गया था। शनिवार सुबह नौ बजे उनके भाई चौधरी देवेंद्र सिंह के खेत में पहुंचे तो सीने में गोली लगा रोहिन का शव नाली में पड़ा मिला। क्षेत्र में सनसनी फैल गई। गांव में शोक पसरा है। एसपी नीरज कुमार जादौन, एएसपी मनीष कुमार मिश्र व कोतवाली प्रभारी अजय शर्मा मौके पर पहुंचे और शव पोस्टमार्टम को भेजा। पास में 315 बोर का एक तमंचा पड़ा था। मृतक की जेब में 315 बोर का कारतूस मिला। तमंचे में 315 बोर का खोखा फंसा मिला। कान में मोबाइल के ईयर फोन लगे थे। पुलिस ने सारी वस्तुएं कब्जे में ले लीं। नरेशपाल ने कोतवाली में अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। परिवार वालों के मुताबिक, रोहिन स्नातक उत्तीर्ण तथा अविवाहित था। सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा था। उसकी एक बहन है, जो शादीशुदा है।रोहिन के ताऊ चौधरी हरपाल सिंह का कहना है कि रोहिन घर से बाइक पर गया था। थोड़ी देर बाद वापस घर लौटा और बाइक खड़ी करके पैदल सरूरपुर की ओर चला गया। वह कहां और किसके पास गया, इसकी जानकारी नहीं है। उनकी किसी से रंजिश भी नहीं है।तहरीर के आधार पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। जांच चल रही है। केस का जल्द राजफाश किया जाएगा।