यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बेटे की हत्या करने पर सेवानिवृत्त सीओ को जेल भेजा


🗒 सोमवार, अक्टूबर 04 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बेटे की हत्या करने पर सेवानिवृत्त सीओ को जेल भेजा

बागपत, । जितेंद्र राणा की गैर इरादतन हत्या के केस को पुलिस ने हत्या की धारा में तरमीम कर लिया है। पकड़े गए आरोपित पिता सेवानिवृत्त सीओ को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया। वहीं घटना में प्रयुक्त बंदूक का लाईसेंस निरस्तीकरण की कार्रवाई शुरू की गई।ग्राम दाहा में सेवानिवृत्त सीओ विनोद कुमार राणा ने अपने बेटे जितेंद्र राणा की रविवार रात शराब पीने को लेकर हुए विवाद में लाइसेंसी 12 बोर की बंदूक से गोली मारकर हत्या कर दी थी। उनकी पत्नी बिनेश देवी की तहरीर पर पुलिस ने आरोपित विनोद राणा के खिलाफ गैर इरादतन की हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया था। वहीं जितेंद्र राणा के ससुरालीजन पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने लगे थे। उनकी मांग थी कि पुलिस ने सही धारा में केस दर्ज नहीं किया है। जितेंद्र के ससुर सहदेव सिंह ने लिखित में शिकायत की है कि उनकी बेटी रेनू चौधरी (जितेंद्र की पत्नी) के सामने दामाद को गोली मारी गई है। हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज किया जाए। इस शिकायत को पुलिस ने केस की विवेचना में शामिल किया।दोघट थाना प्रभारी बिरजाराम का कहना है कि विवेचना के आधार पर केस को हत्या की धारा में तरमीम किया गया है। आरोपित सेवानिवृत्त सीओ विनोद राणा को गिरफ्तार कर घटना में प्रयुक्त बंदूक, 22 कारतूस व एक खोखा बरामद किया गया है। आरोपित को सोमवार को अदालत में पेश किया। उनको न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया। बंदूक के लाइसेंस निरस्तीकरण के संबंध में रिपोर्ट बनाकर जल्द ही उच्चाधिकारियों के पास भेज दी जाएगी।जितेंद्र शराब के नशे में घर पर पहुंचकर गाली-गलौज करने लगा था। डांटने पर जितेंद्र ने अपनी माता बिनेश देवी को कुर्सी उठाकर मार दी थी। इससे गुस्साएं पिता सेवानिवृत्त सीओ विनोद राणा ने अपने बेटे को लाइसेंस बंदूक से ठोड़ी पर गोली मार दी थी। वहीं बिनेश ने मुकदमा दर्ज कराया कि बेटा जितेंद्र राणा शराब पीकर घर पहुंचकर उनके साथ गाली-गलौज तथा मारपीट करने लगा था। पति के समझाने के बाद भी बेटा नहीं माना और गाली-गलौज कर घर में रखी बंदूक उठाकर ले आया था। बीच-बचाव में बंदूक से चली गोली जितेंद्र को लग गई थी।