पत्नी की डिलीवरी के लिए नहीं थे रुपये, डकैती की वारदात को दिया अंजाम

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पत्नी की डिलीवरी के लिए नहीं थे रुपये, डकैती की वारदात को दिया अंजाम


🗒 रविवार, अक्टूबर 31 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पत्नी की डिलीवरी के लिए नहीं थे रुपये, डकैती की वारदात को दिया अंजाम

बागपत। दोघट थाना क्षेत्र के आजमपुर मुलसम गांव में 23 अक्टूबर की रात डकैती की वारदात का राजफाश कर पुलिस ने छह में चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। चारों आरोपित रिश्तेदार हैं। पुलिस ने आरोपितों के पास से तीनों मवेशियों की बिक्री के 19 हजार रुपये बरामद किए। वारदात को अंजाम इसलिए दिया गया था कि मुख्य आरोपित को अपनी पत्नी की डिलीवरी के लिए रुपयों की आवश्यकता थी।इंस्पेक्टर बिरजाराम ने बताया कि रविवार को सूचना पर पुलिस ने बरनावा रोड स्थित संस्कार फार्म हाउस के पास से गौरव उर्फ छोटू पुत्र नरेश व उसके भाई देव निवासी आजाद नगर, बड़ौत के अलावा विकास पुत्र भूषण व नरेश उर्फ काटा पुत्र वेदपाल निवासी आजमपुर मुलसम को गिरफ्तार किया है। विकास और नरेश गौरव के रिश्ते में साले हैं। गौरव ने बताया कि 10-15 दिन में उसकी पत्नी को डिलीवरी होनी थी इसलिए उसे रुपयों की आवश्यकता थी। उसने अपने साले विकास व नरेश उर्फ काटा से रैकी कराने कराई और उसके बाद अपने भाई देव के अलावा बादल व अनुज से सलाह करने के बाद आजमपुर मुलसम गांव में चोरी करने की योजना बनाई। बादल आजमपुर मुलसम का रहने वाला है जो अपने मामा के गांव बसी में रहता है। बादल की दोस्ती बसी के अनुज से है।गौरव ने बताया कि 23 अक्टूबर की रात वह देव, अनुज, बादल, विकास व नरेश के साथ पिकअप और बाइक पर आजमपुर मुलसम गांव में पहुंचा। उसका भाई देव गांव के बाहर पिकअप लेकर खड़ा हो गया, जबकि अन्य गांव के बाहरी हिस्से में धर्मपाल के घेर में घुस गए। वहां से एक कटिया व दो भैंस चोरी करने लगे। इसी दौरान आहट सुनकर धर्मपाल जाग गया। उसने बादल के साथ मिलकर धर्मपाल के हाथ रस्सी से बांध दिए और कमरे में बंद कर दिया। उसके बाद दीवार काटकर तीनों मवेशी चोरी कर ले गए। सभी ने तीनों मवेशियों को पिकअप में लाद लिया। विकास व नरेश तो बाइक से गांव वापस चले गए जबकि वह अपने भाई देव, अनुज व बादल के साथ पिकअप में तीनों मवेशी लेकर बड़ौत पशु पैठ में आ गया। सुबह पैठ लगने से पहले से ही एक व्यापारी को तीनों मवेशी 40 हजार रुपए में बेच दिए।गौरव ने बताया कि 40 हजार रुपयों में से 20 हजार रुपए बादल व अनुज को दे दिए। 20 हजार रुपयों में से तीन-तीन हजार रुपए अपने साले विकास, नरेश और अपने भाई देव को दिए गए। 11 हजार रुपए उसने अपने पास रख लिए। पुलिस ने 10 हजार रुपए उससे व तीन-तीन हजार रुपए विकास, नरेश और देव से बरामद कर लिए। आरोपितों के पास से तमंचा, बाइक व पिकअप बरामद कर ली गई है।