यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

छत गिरने से दो बहनों समेत तीन लड़कियों की मौत


🗒 सोमवार, जनवरी 31 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
छत गिरने से दो बहनों समेत तीन लड़कियों की मौत

बागपत, । बालैनी के निर्माणाधीन टोल के निकट स्थित ईंट भट्ठे की झुग्गी की कच्ची छत गिरने से मलबे में दबकर तीन लड़कियों की दर्दनाक मौत हो गई। इनमें दो सगी बहनें हैैं। पुलिस ने हादसे की जांच शुरू कर दी है।बड़ौत कोतवाली क्षेत्र के जलालपुर गांव निवासी आरिफ ने बताया कि उनके पिता यामीन का सात साल पूर्व निधन हो गया था। वह आठ भाई-बहन हैं। दो भाई-बहनों का निकाह हो चुका है। माता संजीदा के साथ एक माह पूर्व भट्ठे पर ईट पथेर का कार्य करने आए थे। भट्ठे पर अभी कार्य शुरू नहीं हुआ है। सोमवार शाम साढ़े सात बजे भाभी नजराना झुग्गी के बाहर खाना बना रही थी। झुग्गी के अंदर दो बहन 15 वर्षीय शहराना, 12 वर्षीय सानिया और दो माह की भतीजी माहिरा थी। तभी अचानक झुग्गी की कच्ची छत भरभराकर गिर गई। मलबे में तीनों दब गई। चीख-पुकार सुनकर अन्य मजदूर दौड़ कर आ गए। उन्होंने मलबे से तीनों को निकाला, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। बालैनी थाना प्रभारी कौशलेंद्र सिंह ने बताया कि झुग्गी की कच्ची छत अचानक गिरने से तीनों लड़कियों की मौत हुई है। हादसे की जांच की जा रही है।ईंट भट्ठों पर मजदूरों की सुरक्षा-व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम नहीं है। बालैनी गांव के ईंट भट्ठे पर हुई यह घटना पहली नहीं है। फैजपुर-निनाना गांव के एक भट्ठे की दीवार गिरने से तीन मजदूरों की मौत हो गई थी। बालैनी क्षेत्र के एक भट्ठे की दीवार गिरने से दो मजदूरों की मौत हो चुकी है। लधवाड़ी गांव के एक भट्ठे की दीवार गिरने से एक मजदूर बुरी तरह से झुलस गया था।