यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बलिया में दबंगों ने पुलिस के सामने ही शुरू कर दी फायरिंग, पूरे गांव में दहशत


🗒 गुरुवार, अक्टूबर 15 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बलिया में दबंगों ने पुलिस के सामने ही शुरू कर दी फायरिंग, पूरे गांव में दहशत

बलिया, रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर में  गुरुवार को सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान आवंटन को लेकर विवाद हो गया। इस दौरान एक पक्ष की ओर से की गई फायरिंग में गोली लगने से जयप्रकाश उर्फ गामा पाल (46 वर्ष ) की मौत हो गई। जय प्रकाश दुर्जनपुर पुरानी बस्ती के रहने वाले हैं। बवाल के दौरान चले ईंट पत्थर में चार महिलाएं समेत आधा दर्जन लोग घायल हो गए। दबंगों ने पुलिस के सामने ही फायरिंग शुरू कर दी। इससे पूरे गांव में दहशत फैल गया। घटना के बाद गांव तनाव व्‍याप्‍त है। तनाव को देखते हुए मौके पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। इस मामले में मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह डब्लू को बताया जा रहा है।गांव के पंचायत भवन के बाहर टेंट लगाकर हनुमानगंज व दुर्जनपुर गांव के लिए एक-एक कोटे की दुकान आवंटन के लिए चार समूहों ने आवेदन किया था। दुर्जनपुर के दुकान के लिए मां सायर जगदंबा और शिव शक्ति स्वयं सहायता समूह के बीच वोटिंग की नौबत आ गई। वहां मौजूद एसडीएम सुरेश कुमार पाल व सीओ चंद्रद्रकेश सिंह ने कहा कि वोटिंग वही व्यक्ति कर सकता है जिसके पास आधारकार्ड अथवा अन्य पहचान पत्र होगा। इसमें एक पक्ष के लोग आधार कार्ड लेकर आए थे लेकिन दूसरे पक्ष के लोग कोई पहचान पत्र लेकर नहीं आए थे। इसी बात को लेकर बैठक में हंगामा शुरु हो गया।हालात बिगड़ते देख एसडीएम के निर्देश पर बीडीओ बैरिया गजेंद्र प्रताप सिंह ने बैठक की कार्रवाई  स्थगित कर दी। इसके बाद सभी अधिकारी बैरिया के लिए निकल गए। इस पर एक पक्ष के लोग प्रशासन के विरोध में नारेबाजी करने लगे। देखते ही देखते गाली गलौज, मारपीट और ईंट पत्थर एक- दूसरे पर चलने लगे। इसी दौरान एक तरफ से असलहे से फायरिंग शुरु हो गई। इसमें जयप्रकाश पाल को चार गोलियां लगीं और वह जमीन पर गिरकर छटपटाने लगे। उन्हें तत्काल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सोनबरसा पहुंचाया गया, जहां इलाज के दौरान चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर में गुरुवार को कोटे की दुकान के आवंटन को लेकर हुई फायरिंग व विवाद के बाद से हालात बेहद तनावपूर्ण हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। उन्होंने घटना का संज्ञान लेते हुए वहां मौजूद एसडीएम, सीओ व पुलिस के जवानों को निलंबित करने का आदेश दिया है। इस मामले में अधिकारियों की भूमिका की भी जांच करने को कहा है। सुरक्षा के मद्देनजर फोर्स की तैनाती कर दी गई है।ग्रामीणों के अनुसार दुर्जनपुर गांव में दुकान के आवंटन को लेकर दो समूह के लोग जुटे थे। एसडीएम सुरेश कुमार पाल व सीओ चंद्रकेश सिंह के वोटिंग कराने के फैसले के बाद स्थिति बिगड़ गई। मौके पर हालात बिगड़ते देख एसडीएम के निर्देश पर बीडीओ बैरिया गजेंद्र प्रताप सिंह ने बैठक की कार्रवाई स्थगित कर दी। इसके बाद सभी अधिकारी बैरिया के लिए निकल गए। इस पर एक पक्ष के लोग प्रशासन के विरोध में नारेबाजी करने लगे। देखते ही देखते गाली गलौज, मारपीट और ईंट पत्थर एक- दूसरे पर चलने लगे। इसी दौरान एक तरफ से असलहे से फायरिंग शुरू हो गई। फायरिंग में जयप्रकाश पाल को चार गोलियां लगीं और वह जमीन पर गिरकर छटपटाने लगे। उन्हें तत्काल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सोनबरसा पहुंचाया गया, जहां इलाज के दौरान चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

बलिया से अन्य समाचार व लेख

» बलिया में मां-बहन की भाइयों ने ही कर दी थी हत्या

» बलिया में मां-बेटी हत्याकांड की जांच को अहिरौली गांव पहुंचे डीआइजी, तीन नामजद आरोपित हिरासत में

» बलिया में बदमाशों ने गला रेतकर कारोबारी को मार डाला

» बलिया में सिर कूंच कर मां-बेटी की हत्या, चारपाई पर मिला दोनों का शव

» बलिया में धारदार हथियार से गैर समुदाय के युवक ने किशोरी का गला रेता

 

नवीन समाचार व लेख

» कार हादसे में हाईकोर्ट के अधिवक्ता की मौत, सहायक रजिस्ट्रार भी हुए गंभीर जख्मी

» प्रधानमंत्री के वाराणसी आगमन का समय बदला, अब दो घंटे पहले शुरू होगा दौरा

» प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति नियुक्त

» प्रतिबंधित संगठन एसएफजे ने की किसान आंदोलन को साढ़े सात करोड़ देने की घोषणा

» कानपुर में एसबीआइ शाखा के ग्राहक शातिर तरीके से उड़ा देते थे रकम