एसआईटी जांच से मचा हड़कंप/ मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने चार बाबुओं के पटल में क्या परिवर्तन

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

एसआईटी जांच से मचा हड़कंप/ मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने चार बाबुओं के पटल में क्या परिवर्तन


🗒 शनिवार, मार्च 13 2021
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
एसआईटी जांच से मचा हड़कंप/ मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने चार बाबुओं के पटल में क्या परिवर्तन


बलरामपुर( डॉ संजय शुक्ला पथिक)--- स्वास्थ्य विभाग में हुई अनियमितताओं की एसआईटी जांच शुरू होते ही हड़कंप मच गया है। जांच में सहयोग न करने वाले 4 लिपिकों का मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने तत्काल प्रभाव से पटेल बदल दिया है। यही नहीं इन लिपिकों के कमरों में दूसरा ताला भी जड़ दिया गया है। ऐसा अभिलेखों की हेराफेरी की आशंका को देखते हुए किया गया है। जांच में कई बाबुओं पर गाज गिरना तय माना जा रहा है।
गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत दवाओं व उपकरणों की खरीद व आपूर्ति तथा मेंटेनेंस अधिकारियों में करोड़ों रुपए के घोटाले की शिकायत की गई थी पूर्णविराम श्रावस्ती जनपद के भिनगा से बसपा विधायक असलम वाहिनी ने पूरे मंडल में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत हुए घोटाले का मामला विधानसभा में उठाया था। शासन ने इसे गंभीरता से लेते हुए मामले में एसआईटी जांच का आदेश दिया है। बीते दिनों एसआईटी जांच के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी बलरामपुर के दफ्तर पहुंची थी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार टीम ने संबंधित लिपिक को से जरूरी अभिलेख उपलब्ध कराने को कहा था। बार-बार रिमाइंडर के बाद भी अभिलेख न मिलने पर टीम ने शासन को पत्र लिखा। एसआईटी के पत्र पर स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारी हरकत में आ गए। अधिकारियों ने इस बाबत नवागत मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विजय बहादुर सिंह को कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के लेखाकार पंकज त्रिपाठी एसीएमओ स्टोर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन डीके पांडे यशो स्टोर के मालिक जगदीश सिंह को तत्काल प्रभाव से उनके पटेल से हटा दिया है। यही नहीं पंकज त्रिपाठी के कमरे में मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने दूसरा ताला भी जुड़वा दिया है। अभिलेखों में कोई हेराफेरी ना हो इसके लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने ताला लगवाने की बात कही है। के के मालवीय तथा डीके पांडे के काम सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र उतरौला के चीफ फार्मासिस्ट त्रिपाठी देखेंगे। जगदीश सिंह का प्रभाव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तुलसीपुर के वरिष्ठ सहायक ज्ञानचंद को सौंपा गया है। के के मालवी अब पोस्टमार्टम हाउस से संबंधित काम देखेंगे। अवकाश पर होने के कारण पंकज त्रिपाठी को अभी कोई काम नहीं सौंपा गया है। लिपिकों के पटल परिवर्तन से राजनीतिक गलियारों में भी हलचल तेज हो गई है। कुछ रसूखदार लोग लिपिकों की पैरवी करने में जुट गए हैं। वहीं इस जांच से संबंधित संयुक्त जिला चिकित्सालय के लिपिक अजय श्रीवास्तव का पटेल बदलने के बारे में सीएमएस नानक ने बताया कि कार्यालय में कोई अन्य लिपिक ना होने के कारण अजय श्रीवास्तव का पटल अभी परिवर्तित किया जाना संभव नहीं है।