यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मेरा गाँव मेरी धरोहर के अंतर्गत ग्राम पंचायतों के सांस्कृतिक धरोहरों का किया जाएगा सर्वे


🗒 शुक्रवार, अप्रैल 29 2022
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
मेरा गाँव मेरी धरोहर के अंतर्गत ग्राम पंचायतों के सांस्कृतिक धरोहरों का किया जाएगा सर्वे


क्रासरःविकास भवन में हुआ सीएससी संचालकों को प्रशिक्षण
बांदा।गाँव की सांस्कृतिक धरोहर की सूचना को अब मोबाइल में कैद किया जायेगा। जिसके लिये भारत सरकार के सांस्कृतिक मंत्रालय और सीएससी के मध्य पिछले दिनों अनुबन्ध किया जा चुका है। जनपद बाँदा में इस योजना का ट्रायल भी किया जा चुका है पाईलेट सर्वे के दौरान जिले के कुछ पंचायतो में सीएससी कर्मी के द्वारा सर्वे का कार्य किया भी जा चुका है।
जनपद के सभी गाँवों की सांस्कृतिक सूचना विशेष मोबाईल ऐप के जरिये एकत्र का काम कामन सर्विस सेंटर सीएससी संचालकों द्वारा सर्वे कर किया जाना है जिसके क्रम में आज विकास भवन सभागार में सीएससी संचालको का प्रशिक्षण आज कराया गया। जिसके बाद संचालको द्वारा इस कार्य को किया जाना है।
यह कार्य देश में पहली बार किया जा रहा है जिसको भारत सरकार द्वारा मेरा गाँव मेरी धरोहर नाम दिया गया है।
इस योजना के तहत जिला बाँदा के विकास भवन सभागार में सीएससी संचालको को ट्रेनिंग करायी गयी
सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार के अंतर्गत सीएससी कॉमन सर्विस सेंटर और केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्रालय भारत सरकार के साझा सहयोग से पहली बार यह कार्य किया जा रहा है, जिसको मेरा गाँव मेरी धरोहर नाम दिया गया है। शब्द से सीधा आशय है कि गाँव की विरासत इस सर्वे के दौरान 9 विशेष बातों को दर्ज किया जाना है।
सांस्कृतिक धरोहर/ मेरा गाँव मेरी धरोहर
सांस्कृतिक शब्द से सीधा मतलब ही कि कोई ऐसी चीज जिसमे कुछ विशेष हो ,या वह पुरानी हो सरकार ऐसी सभी चीजो को इकठ्ठा कर इन चीजो कि प्रति लोगो का ध्यान आकर्षित करना चाहती है इसमे गाव के नागरिको के सहयोग से गाँव ,ब्लाक ,जिले विशेष बनाती है उसकी खासियत को दर्ज किया जायेगा साथ ही उस से सम्बंधित फोटो ,विडियो और उसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी भी अपलोड किये जायेगे उसको मोबाइल ऐप के माध्यम से दर्ज किया जाना है

ये जानकारी होगी दर्ज
इस सर्वे के दौरान गाँव के लोगो से कुछ जानकारी ले कर दर्ज करना है जिसमे गाव कि खास पहचान क्या है , गाँव कि खास सांस्कृतिक पहचान ,गाव के प्रसिद्ध स्थान ,प्रसिद्ध किवदंती ,प्रसिद्ध व्यक्ति ,विशेष पकवान ,विशेष आभूषण ,विशेष कपडे आदि के बारे में जानकारी दर्ज कि जानी है इन सभी से सम्बंधित जानकारी ,फोटो,विडियो आदि चीजे ऐप पर दर्ज कि जाएगी। जिला प्रबंधक ध्रुव कुमार ने बताया कि मेरा गाँव मेरी धरोहर के तहत आम व्यक्ति ग्राम के पुराने धरोहरों के बारे में नही जानते है अथवा पुराने धरोहर व इमारत, धार्मिक स्थल विलुप्त होने के कगार में है। उन सारे स्थलों चीजो, कलाकारी आदि का संयोजन एप्प में किया जाएगा, जिसको एक क्लिक से सारी जानकारी ले कर उनको देख सकते है। उक्त अवसर पर जिला प्रबन्धक मोहम्मद ज़की ध्रुव कुमार व जिला कोऑर्डिनेटर अनिल कुमार ने बताया कि जनपद के हर ग्राम पंचायत व ग्रामों में इस योजना के अंतर्गत सर्वे किया जाना है जिसमे उसी ग्राम के सम्वन्धित डीजिटल सेवा केंद्र संचालक द्वारा सर्वे किया जाना है, इस कार्य को जनपद में जल्द आरम्भ किया जाएगा।

 

 

 

 

बांदा से अन्य समाचार व लेख

» डंपर की टक्कर से टेंपो दुकान में घुसकर पलटा, दो की मौत

» हिस्ट्रीशीटर का शव फंदे पर लटका मिला

» दो बाइकों की भिड़ंत में युवक की मौतttt

» बीओ पीआरडी को एंटीकरप्शन टीम ने सात हजार रिश्वत लेते पकड़ा

» चौकीदार की हत्या कर 50 हजार लूटे

 

नवीन समाचार व लेख

» यूपी लोकसभा चुनाव की सभी सीटो में फहरेगा भाजपा का परचम: केशव प्रसाद मौर्य

» महोबिया पान किसानो को योजनाओ से जोड़कर करे लाभान्वित: केशव प्रसाद मौर्य

» लखनऊ मेट्रो में जल्द नजर आएंगे UPSSF के जवान

» इस बार नहीं अटकेगा 17 OBC जातियों को आरक्षण - संजय निषाद

» अपनी चिंता करें, बीजेपी के संपर्क में सपा के विधायक - भूपेंद्र चौधरी