यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पुलिस की तेजी से दुराचारी को मिली बाईस वर्ष की सजा


🗒 शुक्रवार, सितंबर 30 2022
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
पुलिस की तेजी से दुराचारी को मिली बाईस वर्ष की सजा

एसपी ने पुलिस टीम की को किया सम्मानित

 मात्र 24 दिनों में ही न्यायालय ने सुनाया फैसला

बांदा। शासन की मंशा के अनुरूप महिला सुरक्षा एवं सशक्तिकरण हेतु चलाये जा रहे मिशन शक्ति अभियान के क्रम में पुलिस अधीक्षक अभिनंदन द्वारा महिला संबंधी अपराधों में संलिप्त अभियुक्तों को त्वरित एवं कड़ी सजा दिलाए जाने हेतु आदेश निर्देश जारी किए जारी किए गए थे। जिसके तहत अपर पुलिस अधीक्षक लक्ष्मी निवास मिश्र व क्षेत्राधिकारी नरैनी नितिन कुमार के द्वारा बांदा पुलिस को बड़ी सफलता मिली। जिसमें थाना नरैनी क्षेत्र में 22 जुलाई को 04 वर्षीय मासूम के साथ हुई दुष्कर्म की घटना में त्वरित विवेचना एवं प्रभवी पैरवी के माध्यम से नामजद अभियुक्त को न्यायलय द्वारा 22 वर्ष के कठोर कारावास एवं जुर्मानें की सजा दिलाई गई । 

गौरतलब हो कि 22 जुलाई 22 को थाना नरैनी क्षेत्र के रहने वाले एक व्यक्ति ने थाना नरैनी पर शिकायत दर्ज करायी थी कि फरीद पुत्र इस्लाम नि0 शांतिनगर कस्बा व थाना नरैनी, उसकी 04 वर्षीय पुत्री को टाफी देने के बहाने अपने घर ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया । जब बच्ची घर लौटी तो वह खून से लथपथ थी और रो-रो कर सारी बात बताई । शिकायत का संज्ञान लेते हुए तत्काल थाना नरैनी पर आरोपी के विरुद्ध पोक्सो एक्ट पंजीकृत किया गया जिसकी विवेचना प्रभारी निरीक्षक नरैनी मनोज कुमार शुक्ला द्वारा की जा रही थी । विवेचक द्वारा त्वरित एवं प्रभावी विवेचना करते हुए तकनीकि एवं वैज्ञानिक आदि माध्यमों का प्रयोग करते हुए प्रभावी साक्ष्य संकलित कर अभियोग पंजीकरण के मात्र 06 दिवस के भीतर आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल किया गया । जिसमें न्यायालय द्वारा 05 सितम्बर को अभियुक्त पर आरोप चार्ज किया गया तथा 9 सितम्बर से 23 सितम्बर तक मामले का ट्रायल किया गया । विशेष अभियोजक कमल सिंह गौतम द्वारा न्यायालय में प्रभावी पैरवी की गई साथ ही कोर्ट मोहर्रिर आरक्षी गोविन्द दास, महिला आरक्षी तनिषा व पैरोकार आरक्षी शैलेन्द्र कुमार सिंह की कड़ी मेहनत से बेहद मात्र 24 दिवस में अभियुक्त को सजा दिलाई गई । न्यायालय द्वारा अभियुक्त को दोषी मानते हुए 22 वर्ष के कठोर कारावास व 40 हजार रुपये जुर्मानें की सजा से दण्डित किया गया । पुलिस अधीक्षक बांदा द्वारा पूरी टीम को इस सराहनीय कार्य के लिए सम्मानित किया गया ।

बांदा से अन्य समाचार व लेख

» डंपर की टक्कर से टेंपो दुकान में घुसकर पलटा, दो की मौत

» हिस्ट्रीशीटर का शव फंदे पर लटका मिला

» दो बाइकों की भिड़ंत में युवक की मौतttt

» बीओ पीआरडी को एंटीकरप्शन टीम ने सात हजार रिश्वत लेते पकड़ा

» चौकीदार की हत्या कर 50 हजार लूटे

 

नवीन समाचार व लेख

» मजिस्ट्रीरियल जांच सम्बन्धी साक्ष्य/बयान 07 से 22 अक्टूबर के मध्य तक दें

» आगामी पर्वों पर मिलावटी खाद्य एवं पेय पदार्थों के विक्रय पर प्रभावी रोकथाम के लिए 22 नमूनें प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजे गये

» जिला पर्यटन एवं संस्कृति परिषद रायबरेली के सदस्य के लिए करें आवेदन

» डीएम ने बड़े मूल्य के बैनामों का किया स्थलीय निरीक्षण

» मां भगवती की पूजा करने से जीवन में उत्साह एवं ऊर्जा का संचार होता है