यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बांदा -दो ट्रेनों में आए 3600 मजदूर रोडवेज से भेजा गया उनको उनके गंतव्य तक


🗒 शुक्रवार, मई 22 2020
🖋 अरबिद कुमार श्रीवास्तव, ब्यूरो बाँदा

3600 प्रवासी मजदूरों को लेकर दो ट्रेनें पहुँची बाँदा

 बांदा -दो ट्रेनों में आए 3600 मजदूर रोडवेज से भेजा गया उनको उनके गंतव्य तक

प्रतिदिन हजरों की तादात में आते हैं जनपद में प्रवासी मजदू२

बांदा

देश में फैली महामारी को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लॉक डाउन का एलान किया था ।वर्तमान में लॉक डाउन का चौथा चरण चल रहा है। जिसके चलते लोगों को काफी छूट भी मिली है और साथ ही बाहरी प्रदेशों में फंसे प्रवासी मजदूरों के आवागमन की व्यवस्था भी शासन के द्वारा की गई है। जिसके तहत जनपद में लगातार प्रवासी मजदूरों से भरी श्रमिक ट्रेनें आ रही हैं।आज पूरे दिन में दो ट्रेनें आई हैं जिनमे लगभग 3600 प्रवासी मजदूरों को बाहरी प्रदेशों से लाया गया है।बाहर से आये इन सभी प्रवासियों का स्टेशन पर ही स्क्रीनिंग की जाएगी। और उसके बाद उन्हें उनके ग्रह जनपदों तक भेजने का काम किया जाएगा

बताते चलें कि देश के विभिन्न प्रदेशों में रोजगार की तलाश में गए मजदूरों को लॉक डाउन की वजह से भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था जिसको देखते हुए ।देश के प्रधानमंत्री ने सभी प्रदेश की सरकारों को आदेशित करते हुए कहा था कि जोभी मजदूर काम की तलाश में आये थे और लॉक डाउन की वजह से फंस गए थे उन सभी को ट्रेनों के माध्यम से उनके ग्रह जनपदों तक पहुचने का काम किया जाए। जिसके चलते बाँदा जनपद में अभी तक लगभग एक दर्जन ट्रेनें आ चुकी हैं । जिनमे हजारों प्रवासी मजदूर अपने अपने गृह जनपद तक पहुच चुका है आज भी गुजरात के सूरत शहर व गोवा के मडगांव से ट्रेन आयी है जिसमे लगभग 3600 प्रवासी मजदूर जनपद में आये हैं। इन सभी मजदूरों का स्टेशन परिसर में ही थर्मल स्क्रीनिंग की जाती है इसके बाद सभी को परिवहन विभाग की बसों की सहायता से उनके ग्रह जनपद तक छोड़ने का काम किया जाता है

वहीं पूरी जानकारी देते हुए सदर तहसीलदार अवधेश निगम ने बताया कि आज दो ट्रेनें आईं हैं जिनमे 3600 श्रमिक आये हैं। सभी का स्टेशन पर ही चेकअप किया जा रहा है।उसके बाद सभी को बसों के माध्यम से उनके ग्रह जनपद तक छोड़ने का काम किया जाएगा ।इसके अलावा ये सभी मजदूर जब अपने जनपद व गांव पहुचेंगे तो वहां के बने कोरेंटाइन सेंटर में 14 दिन के लिए कोरेन्टीन कर दिया जाएगा।

बांदा से अन्य समाचार व लेख

» बांदा -बबेरु समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एक फार्मासिस्ट एक नर्स के भरोसे मरीज हो रहे हैं परेशान

» आस्था कहे या अंधविश्वास नाबालिक ने पूजा पाठ के बाद मंदिर में चढ़ाई जीभ

» डीआईजी दीपक कुमार ने आतंकवाद निरोधी दिवस पर पुलिस कर्मियों को दिलाई शपथ

» लेखपाल अमीन संघ ने डीएम को दिया ज्ञापन न्याय नहीं मिला तो करेंगे कार्य बहिष्कार

» बुंदेलखंड के किसानों को बीज में भी भारी छूट

 

नवीन समाचार व लेख

» बांदा -बबेरु समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एक फार्मासिस्ट एक नर्स के भरोसे मरीज हो रहे हैं परेशान

» विकासभवन मे हंगामा जिला कार्यक्रम अधिकारी पर लगाया महिला अधिकारी ने छेड़छाड़ का आरोप

» राजनाथ सिंह बोले, आर्थिक पैकेज और सुधारों से अर्थव्यवस्था के बदलेंगे हालत

» शिक्षा मित्रों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार से मांगा जवाब, 14 जुलाई को फिर होगी सुनवाई

» सोनिया गांधी के 'घर' में विधायक कांग्रेस के पर अंदाज बागी, पहले राकेश फिर अदिति ने खोला मोर्चा