यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

7 दिन पहले साइकिल खरीद साइकिल चलाकर अपने गांव आया था संदिग्ध परिस्थितियों में लगाई फांसी


🗒 शुक्रवार, मई 22 2020
🖋 अरबिद कुमार श्रीवास्तव, ब्यूरो बाँदा

बांदा

 7 दिन पहले साइकिल खरीद साइकिल चलाकर अपने गांव आया था संदिग्ध परिस्थितियों में लगाई फांसी

देश और दुनिया में फैली कोरोना वायरस संक्रमण के बाद भारत में भी वैश्विक महामारी को देखते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में लांक डाउन कर दिया है।सभी तरह के कल खाने उघोग घंधे बद हो गयें थे। देश मेँ जो जहां था वही रह गया। देश भर में प्रवासी मजदूरों के सामने रोजी रोटी कमाने की गम्भीर समस्या पैदा हो गयी थी। जब तक प्रवासी मजदूरों के पैसा रुपया था उनका काम चलता रहा। पैसा खत्म के बाद देश के कोने कोने में प्रवासी मजदूर अपने घर वापस लौट रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने भी ट्रेनें और बसें लगाकर प्रवासी मजदूरों को वापस बुला रही है। कुछ प्रवासी मजदूर बिना सरकार और प्रशासनिक मदद के पैदल और साइकिलों से अपने घर गंतव्य स्थान तक पहुंच रहे हैं।तमाम हादसों के साथ अब बांदा जनपद के पसदेश में काम कर रहे प्रवासी मजदूर ने अपने पास पैसा कब होने के बाद उसने अपने घर से पैसा मांगा कर साइकिल खरीदी और दोस्तों के साथ महाराष्ट्र से साइकिल चला कर आए एक प्रवासी श्रमिक की आत्महत्या करने की घटना सामने आई है।मामला बांदा जनपद के कमासिन थाना क्षेत्र के मुसीबां गांव से सामने आया है। जहां पर महाराष्ट्र से अभी 7 दिनों पहले लौटे सुनील (उम्र 19 वर्ष) पुत्र राज करण पाल  अभी 7 दिनों पहले अपने घर लौटा था। प्राथमिक जांच के बाद सुनील को कोरेनटाइम किया गया था। हालांकि परदेश से लौटने के बाद अज्ञात कारणों के चलते सुनील ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। घटना की जानकारी के बाद परिजनों में कोहराम मचा हुआ है सूचना के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच कर शव को कब्जे में ले पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।मृतक युवक के दोस्त शिवकरन ने बताया कि हम पांच लोग महाराष्ट से साइकिल चलाकर अपने घर लौटने के लिये मजबूर हो गए थे। जिस स्टील फैक्ट्री में काम कर रहे थे। वहां पर ना तो पिछला वेतन मिला था। ना तो खाने-पीने व्यवस्थाये हो रही थी। जिससे हम लोग परेशान हो गए थे। मजबूरी में हम सभी लोगों को घर वापस आना पड़ा और घर वापस आने के बाद संजय मानसिक रूप से आर्थिक स्थिति से परेशान था। और खर्चे के लिए भी पैसे नहीं थे यही वजह हो सकती है इसके आत्महत्या करने की।अपर पुलिस अधीक्षक एलबीके पाल ने बताया कि पुलिस को जैसे ही जानकारी मिली पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और पुलिस आगे की कार्रवाई और जांच कर रही है।

बांदा से अन्य समाचार व लेख

» बांदा -दो ट्रेनों में आए 3600 मजदूर रोडवेज से भेजा गया उनको उनके गंतव्य तक

» बांदा -बबेरु समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एक फार्मासिस्ट एक नर्स के भरोसे मरीज हो रहे हैं परेशान

» आस्था कहे या अंधविश्वास नाबालिक ने पूजा पाठ के बाद मंदिर में चढ़ाई जीभ

» डीआईजी दीपक कुमार ने आतंकवाद निरोधी दिवस पर पुलिस कर्मियों को दिलाई शपथ

» लेखपाल अमीन संघ ने डीएम को दिया ज्ञापन न्याय नहीं मिला तो करेंगे कार्य बहिष्कार

 

नवीन समाचार व लेख

» 7 दिन पहले साइकिल खरीद साइकिल चलाकर अपने गांव आया था संदिग्ध परिस्थितियों में लगाई फांसी

» अलीगढ़,डॉक्टरों ने पुष्प वर्षा कर किया श्याम जी का स्वागत

» सपा नेता मोहम्मद उस्मान खान ने लॉक डाउन के दौरान गरीबों को ईद किट के नाम से वितरित किया राशन।

» अलीगढ़ के थाना गोंडा क्षेत्र के गांव नगला पहाड़ी में बम्बा के सहारे पेड़ पर व्यक्ति का शव फाँसी के फंदे पर झूलता हुआ मिला

» बांदा -दो ट्रेनों में आए 3600 मजदूर रोडवेज से भेजा गया उनको उनके गंतव्य तक