स्वस्थ जीवन के लिए आवश्यक है अंकुरित अनाज

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

स्वस्थ जीवन के लिए आवश्यक है अंकुरित अनाज


🗒 बुधवार, सितंबर 30 2020
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
स्वस्थ जीवन के लिए आवश्यक है अंकुरित अनाज

बांदाः अंकुरित अनाज सुबह खाने से शरीर में प्रोटीन की कमी नहीं होती है जरूरी पोषक तत्व मिलते है। अंकुरित होने पर अनाज में पाया जाने वाला स्टार्च, ग्लूकोज, फ्रक्टोज और माल्टोज शर्करा में बदल जाता है। इससे अनाज का स्वाद बढने के साथ पोषक तत्वों और पाचक गुणों में भी वृद्वि होती है।
लखनऊ के निजी चिकित्सालय शुष्मा हॉस्पिटल में कार्य कर रही डाईटिशियन पोयम द्विवेदी ने बताया कि स्प्राउट्स को अंकुरित अनाज के नाम से जाना जाता है। यह अनाज या फलियों के अंकुरित बीज होते है। जिन्हें पौष्टिक आहार में शामिल किया गया है। सुबह के समय इन्हें खाने से शरीर में प्रोटीन की कमी नहीं होती और जरूरी पोषक तत्व मिलते है। स्प्राउट्स पोषक तत्वों से भरपूर होते है। इनमें अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। कहा कि अंकुरण प्रक्रिया आमतौर पर कई घंटों तक अनाज या बीजों को भिगोने से शुरू होती है। अंकुरित होने पर अनाज में पाया जाने वाला स्टार्च, ग्लूकोज, फ्रक्टोज और माल्टोज शर्करा में बदल जाता है। इससे न केवल अनाज का स्वाद बढता है बल्कि इसके पोषक तत्वों और पाचक गुणों में भी वृद्वि होती है। अंकुरित आहार में क्लोरोफिल, विटामिन ए, बी, सी, डी और के भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो कि कैल्शियम, फास्फोरस, पोटेशियम, मैग्नीशियम, आयरन जैसे खनिजों, लवणों का बेहतर स्रोत है। अंकुरित अनाज में फाइबर, फोलेट, ओमेगा-3, फैटी एसिड भी पाया जाता है। इनमें खासतौर से विटामिन सी, बी कांपलेक्स, थायमिन, राइबोप्लेविन और नायसिन की मात्रा दोगुनी हो जाती है। बताया कि सेम, मटर, बादाम, मूली के बीज, अल्फाल्फा, कद्दू, तिल, सूरजमुखी के बीजों, ब्रसेल्स, मूंग दाल, चना, मेथी, सोयाबीन और क्विनोआ अंकुरित अनाज की श्रेणी में आते है। अंकुरित अनाज खाने के फायदें बताते हुए उन्होंने कहा कि वनज कम करने वालों को अपने भोजन में अंकुरित आहार अवश्य शामिल करना चाहिए। इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। जिसे खाने के बाद पेट काफी देर तक भरा रहता है और अतिरिक्त कैलोरी लेने से बचता है। अंकुरित अनाज में कैलोनी की मात्रा बहुत ही कम होती है। इसीलिए यह वनज घटाने में कारगर होता है। कहा कि आंखों, बेहतर पाचन तंत्र, इम्युनिटी पावर बढाने तथा त्वचा तथा बालों की समस्या से जूझ रहे लोगों के साथ दिल के रोगों से जूझ रहे बीमारों को अंकुरित अनाज का सेवन अवश्य करना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने चेताया कि ज्यादा स्प्राउटस खा लेने से पेट में ऐंठन और दस्त जैसी समस्याओं का सामना करना पड सकता है। कहा कि गैसट्रिटाइटिस, डायरिया, गैस्ट्रिक, अल्सर या पैंक्रियाटाइटिस के रोगियों को अंकुरित अनाज के सेवन से बचना चाहिए।

बांदा से अन्य समाचार व लेख

» बाँदा-जिला अस्पताल में हुआ स्वच्छता अभियान कार्यक्रम का आयोजन

» बाँदा-सपा प्रत्याशी की जीत का मनाया जश्न

» बाँदा-विद्यालय प्रबंधक समिति का गठन

» बाँदा-व्यापारी नेता का बीमारी से निधन

» बाँदा-रोड किनारे खड़े युवक को ट्रक ने रौंदा, मौत

 

नवीन समाचार व लेख

» योगीराज में दलित हो रहे प्रताड़ित, कार्यकर्ता उठाएं आवाज - प्रियंका वाड्रा

» रायबरेली में Acid से भरे टैंकर में भिड़ी DCM, सड़क पर फैला तेजाब

» UP की पुलिस तिलोई विधायक मयंकेश्वर शरण सिंह को तलाशने में नाकाम, SP अमेठी को चेतावनी

» लखनऊ में मनमाना किराया वसूल रहे प्राइवेट एंबुलेंस चालक, छापेमारी में 14 गाड़ियां सीज

» भाजपा ने औवैसी को दी मात, 48 सीटों पर दर्ज की जीत, टीआरएस रही सबसे आगे