यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बांदा में छेड़खानी की शिकार हुई किशोरी ने लोगों के तानों से क्षुब्ध होकर फंदा लगाकर दी जान


🗒 बुधवार, अक्टूबर 14 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बांदा में छेड़खानी की शिकार हुई किशोरी ने लोगों के तानों से क्षुब्ध होकर फंदा लगाकर दी जान

बांदा, एक माह पहले छेडख़ानी का शिकार हुई किशोरी ने स्वजन द्वारा आरोपितों से समझौता किए जाने से आहत होकर जान दे दी। घटना चिल्ला थाना क्षेत्र के एक गांव की है। हालांकि स्वजन ने पुलिस को बताया कि उसके करीबी एक रिश्तेदार परेशान करते थे, जिससे आहत होकर उसने जान दी है। थानेदार का कहना है कि जांच की जा रही है।चिल्ला थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी किशोरी के साथ सितंबर माह में उस समय छेडख़ानी की गई थी, जब वह सहेली के साथ जा रही थी। मामला थाने तक पहुंचा तो दबंगों ने दबाव बनाकर समझौता करने पर मजबूर कर दिया। ग्रामीण बताते हैं कि बाद में छात्रा को अपमानित भी होना पड़ा था। स्वजन ने छेडख़ानी के मामले में समझौता कर लिया। यह बात किशोरी को बहुत खटकी थी, उसने अपनी सहेलियों से इसका दर्द भी बयां किया था। इधर, राह चलते उसे ताने भी सुनने पड़ रहे थे। जिससे आहत होकर उसने अपनी जिंदगी ही समाप्त कर ली।स्वजन ने बताया कि मंगलवार रात सभी अपने कमरे में चले गए। देर रात किशोरी ने पंखे के कुंडे से दुपट्टा बांध फांसी लगा ली। रात में ही स्वजन को इसकी भनक लग गई और सूचना पर पुलिस पहुंची। थानेदार चिल्ला रामाश्रय सिंह ने बताया कि कुंडी तोड़ शव उतार कागजी कार्रवाई की गई। मृतका के भाई ने बताया कि उसके रिश्तेदार बहन को आए दिन परेशान करते थे, जिससे आहत होकर उसने फांसी लगाई है। वह तीन भाइयों में अकेली बहन थी। हर ङ्क्षबदु पर जांच की जा रही है।