यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बांदा-अरबों की सरकारी जमीन को भू-माफियाओं ने लगाया ठिकाने


🗒 शनिवार, नवंबर 21 2020
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
बांदा-अरबों की सरकारी जमीन को भू-माफियाओं ने लगाया ठिकाने


क्रासरःसरकारी मशीनरी की मिली भगत दिया अवैध काम हो अंजाम
बांदा। प्रदेश की योेगी सरकार में भू-माफियाओं का जलवा कायम है। शहर की बेशकीमती सरकारी जमीनें आज भी भू-माफियाओं को के कब्जे में हैं। भू-माफियाओं द्वारा अधिकांश हिस्से को गैरकानूनी ढंग से बेचा भी जा चुका है। इतना ही नहीं भुमाफियाओं द्वारा कब्जाई गई सरकारी जमीन को बेचे जाने का सिलसिला अब भी जारी है। सरकारी मशीनरी और भूमाफियाओं के गढजोड़ से काले कारनामे का ये सिलसिला आज भी अनवरत जारी है।
आपको बताते चलेें कि सरकारी मशीनरी की मिली भगत के चलते सरकारी अभिलेखों में हेरेाफेरी के चलते ये खेल लंबे समय से खेला जा रहा है। एक सरकारी कर्मचारी बहुत पहले ही ये कारनामे को अंजाम दे चुका है। जिसमें उसने एक तालाब को अभिलेखों में हेरेाफेरी करके प्लाटिंग के द्वारा माफियाओं ने बेंच डाला है। सूत्रों के अनुसार छोटी बाजार स्थित गाटा संख्या 4342 रकता 116.17 वर्ग मीटर, इसी गाटे का रकबा 0.0167 वर्ग मीटर सहित कई अन्य मुहल्लों में भी 32 सरकारी भूखण्डों को बेचा गया है। जानकारी के अनुसार सभी गाटे तालाब व तालाब के फसली में दर्ज हैं। अरबों रूपये की इस सरकारी सम्पत्ति को बेचने का काम सरकारी मशीनरी की मिली भगत के चलते भू-माफियाओं द्वारा किया गया है।

बांदा से अन्य समाचार व लेख

» बांदा -तिहरे हत्याकांड में पन्द्रह नामजद और नौ आरोपी गिरफ्तार छै आरोपी फरार

» बांदा-अरबों की सरकारी जमीन को भू-माफियाओं ने लगाया ठिकाने

» बांदा-छात्रों पर भारी पड़ रहा विद्यालय का तुगलकी फरमान

» बांदा-मीडिया प्रभारी ने छोड़ी जनअधिकारी पार्टी

» बांदा-छात्र ने संभाली गिरवां थाने की कमान

 

नवीन समाचार व लेख

» महोबा-भगवान इन्द्र पहुंचे गोवर्धन नाथ जू महाराज से क्षमा याचना करने

» महोबा-पालिकाध्यक्ष ने दिखाई मानवता, सर्दी से कांप रही महिला को ओढ़ाया कंबल

» महोबा-पीएम कृषि सिंचाई योजना अन्नदाताओ के लिए अत्यंत लाभकारी: डीएम

» बांदा -तिहरे हत्याकांड में पन्द्रह नामजद और नौ आरोपी गिरफ्तार छै आरोपी फरार

» बांदा-अरबों की सरकारी जमीन को भू-माफियाओं ने लगाया ठिकाने