यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जेल प्रोटोकॉल के अनुसार माफिया ने की सांसद भाई से बात, पेशी में कोर्ट से लगाई थी गुहार


🗒 सोमवार, मई 31 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
जेल प्रोटोकॉल के अनुसार माफिया ने की सांसद भाई से बात, पेशी में कोर्ट से लगाई थी गुहार

बांदा, वर्चुअल पेशी में न्यायालय से गुहार लगाने के बाद जेल प्रशासन ने माफिया मुख्तार अंसारी की पांच मिनट तक उसके भाई से मोबाइल फोन पर बात कराई। हालांकि, उसके दिए दूसरे नंबर पर उसकी बात अभी नहीं हो सकी है। मंडल कारागार में निरुद्ध माफिया मुख्तार अंसारी ने मऊ कोर्ट में पिछली वर्चुअल पेशी के दौरान जेल मैनुअल के अनुसार, फोन पर वकील व स्वजन से बात कराने की मांग की थी। इसको लेकर जेल प्रशासन ने मुख्तार से दो मोबाइल नंबर मांगे थे। उसके दिए दोनों नंबरों को सिस्टम में फीड किया गया। उनका सत्यापन कराया गया है। जेल सूत्रों के मुताबिक, सोमवार को माफिया की करीब पांच मिनट तक बड़े भाई बसपा सांसद अफजाल अंसारी से बात हुई है। बातचीत के दौरान सीसीटीवी कैमरों की निगरानी भी होती रही। उनके वकील दारोगा सिंह व पत्नी अफशां अंसारी से अभी बात नहीं हो सकी है। माफिया ने वकील व पत्नी से भी बात करने की अपील की थी। जेलर पीके त्रिपाठी ने बताया कि दो नंबर दर्ज किए गए थे। उनमें एक बेसिक टेलीफोन नंबर और दूसरा मोबाइल फोन नंबर था। जेल नियमावली के अनुसार, एक दिन में सिर्फ एक ही नंबर में पांच मिनट तक बात करने की छूट रहती है। इसलिए दूसरे नंबर पर बात नहीं कराई गई है। उल्लेखनीय है कि न्यायालय के आदेश पर माफिया को सात अप्रैल को पंजाब की रूपनगर जेल से बांदा जेल स्थानांतरित किया गया था। उसके बाद से ही वह यहां निरुद्ध है। चित्रकूट जिला कारागार में गैंगवार और मुठभेड़ मामले की जांच कर रहे डीआइजी जेल संजीव त्रिपाठी ने सोमवार को बांदा मंडल कारागार में कई घंटे रहकर पड़ताल की। बैरकों की तलाशी कराई। साथ ही माफिया मुख्तार की सुरक्षा व्यवस्था समेत अन्य पहलुओं पर चर्चा कर उससे बात भी की। जेल पीके त्रिपाठी ने डीआइजी के निरीक्षण की पुष्टि की।