यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

भाजपा विधायक ने षड़यंत्र के तहत मुझे फंसायाः मोहन साहू


🗒 शनिवार, अगस्त 28 2021
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
भाजपा विधायक ने षड़यंत्र के तहत मुझे फंसायाः मोहन साहू


क्रासरःपालिका चेयरमैन ने भाजपा नेत्री सहित भाजपा विधायक पर साधा निशाना
क्रासरःन्यायालय की शरण जाने की चेयरमैन ने कही बात

बांदा। नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष मोहन साहू ने अपने वित्तीय अधिकार उप्र शासन द्वारा सीज किये जाने को लेकर आज पत्रकार वार्ता करते हुए अपने आप को निर्दोष बताया है। उन्होेंने पूर्व नगर पालिका परिषद की चेयरमैन व भाजपा नेत्री विनोद जैन के कार्यकाल में लगभग तीस करोड का घोटाला हुआ जिसकी जांच आज तक पूरी नहीं हो सकी। जांच आज भी सीडियों की जेब में है उनके खिलाफ भाजपा शासन के 4 साल बाद भी जांच नहीं हुई क्योंकि वह भाजपा की चेयरमैन थी। पालिका के चेयरमैन मोहन साहू ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि तत्कालीन चेयरमैन विनोद जैन के ऊपर तमाम वित्तीय अनियमितताओं की शिकायत पर जांच शुरू हुई और आज तक जांच पूरी नहीं हुई उस समय उनके वित्तीय अधिकार सीज ने किए गए थे और प्रदेश में सत्तारूढ़ होते ही भाजपा ने जांच पूरी नहीं होने दी।जो अभी भी सीडीओ की जेब में है। उन्होंने अपने वित्तीय अधिकार सीज किए जाने पर सदर विधायक को निशाने में लेते कहा कि विधायक ने मुझे मतगणना के दौरान ही हराने की कोशिश की थी लेकिन ईमानदार आईएएस अधिकारियों ने इनके मंसूबे पूरे नहीं होने दिये और उसी खुन्नस के चलते उन्होंने नगरपालिका के कार्यों में कई बार व्यवधान उत्पन्न किए जो नगर के विकास के लिए बजट आता था उसमें भी हस्तक्षेप करने की कोशिश की। जब उसमें भी सफलता नहीं मिली शासन को झूठी शिकायतें भेजी। श्री साहू ने कहा कि मेरे ऊपर लगाए गए आरोपों में यह भी कहा गया है कि जो सड़के बनाई गई हैं उन्हें विकास प्राधिकरण से पास नही कराया गया।इसका जवाब विधायक जी दें कि उनकी पत्नी और जिला पंचायत अध्यक्ष सरिता द्विवेदी ने अपने कार्यकाल में जो सड़कें बनाई उन्हें कहां से पास कराया था।लोगों के फार्म हाउस तक सडकेे बनवाने में किसकी अनुमति ली गई थी। उन्होंने बिंदुवार आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि मेरे ऊपर आरोप है कि मैंने लोगों से पैसा लेकर नगर पालिका में मकान दर्ज किए, जिन छत्तीस व्यक्तियों का उल्लेख किया गया है उन सभी व्यक्तियों ने हलफनामा देकर कहा है कि उन्होंने मकान दर्ज कराने के एवज में किसी तरह का कोई पैसा नहीं दिया। उन्होंने इसी तरह सारे आरोपों को खारिज करते हुए कहां की मुझे न्यायालय पर भरोसा है और मैं उच्च न्यायालय जाऊंगा और न्याय की गुहार लगाऊंगा। मुझे आशा ही नहीं विश्वास है कि न्यायालय से जरूर राहत मिलेगी।यरमैन ने यह भी कहा कि मैंने पौने 4 साल नगर पालिका में रहकर जनता की सेवा की है और इस दौरान पूर्व के सभी अध्यक्षों की तुलना में शहर को साफ सुथरा रखने में किसी तरह की कसर नहीं छोड़ी है। मैंने जनता से वादा किया था कि शहर की सड़कों को गड्ढा मुक्त करूंगा उसके लिए भले ही मेरे वित्तीय अधिकार सीज हो गए हैं।लोगों से चंदा करके सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का वादा पूरा करूंगा।एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मेरे ऊपर षड्यंत्र के तहत कई मुकदमे दर्ज कराए गए और अभी भी मुकदमे दर्ज करने की साजिश की जा रही है जिसका जवाब 2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा और उसके विधायक को जनता देगी। इस मौके पर सपा जिलाध्यक्ष विजय करन यादव, सभासद बसंतू यादव, अंसार अहमद सिद्दीकी, सपा नेता इश्तियाक अली मुन्ना आदि मौजूद रहे।

 

 

 

बांदा से अन्य समाचार व लेख

» अमन हत्याकाण्डः इलाहाबाद हाईकोर्ट में रिट दायर करेंगी प्रियंका गांधी

» श्रम विभाग के भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्माण मजदूर यूनियन का प्रदर्शन

» पैलानी थाना पुलिस की दबंगई देखने को मिली महिला ने लगाया गंभीर आरोप

» मायके से पत्नी के ना आने से पति ने फांसी लगाकर दी जान

» ससुरालजनों ने दहेज की मांग पूरी ना होने पर महिला को घर से निकाला