यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रवर्तन दल कर्मचारी बता अवैध उगाही कर रहे दो युवक गिरफ्तार


🗒 सोमवार, नवंबर 22 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
प्रवर्तन दल कर्मचारी बता अवैध उगाही कर रहे दो युवक गिरफ्तार

बांदा, । देहात कोतवाली क्षेत्र के महोखर गांव में दो युवक खुद को बिजली विभाग के अधिकारी बताकर एक घर में पहुंचे और जांच के नाम पर उगाही शुरू कर दी। ग्रामीणों को संदेह हुआ तो बिजली विभाग के अधिकारियों को फोन कर दिया। एसडीओ व जेई मौके पर पहुंचे और कथित अधिकारियों को दबोच लिया। दोनों को पुलिस के हवाले कर दिया। धोखाधड़ी सहित कई धाराओं में दोनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जेल भेज दिया गया। महिला समेत छह लोगों से उगाही कर चुके हैं।बिजली विभाग में इस समय बकाएदारों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। वसूली की जा रही है। इसी का फायदा उठाकर कुछ लोग फर्जी अधिकारी बनकर उपभोक्ताओं से उगाही कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला देहात कोतवाली क्षेत्र के महोखर गांव में सामने आया। सजग ग्रामीणों ने उनका भंडाफोड़ कर दिया। विद्युत विभाग के अधिकारी बनकर लोगों को डरा-धमाकर उगाही करने वाले सोमवार को महोखर पहुंच गए। यहां केशकली के घर में विद्युत अधिकारी (प्रवर्तन दल)  बताया और बिजली चोरी करने की बात कहकर जेल भेजने की धमकी दी। तभी कुछ लोगों को इनके रवैए पर शक हुआ। ग्रामीणों ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को फोन से इसकी सूचना दी। उपखंड अधिकारी चिल्ला रोड रवि गौतम व जेई आनन-फानन मौके पर  पहुंचे और  वसूली कर रहे दो लोगों को मौके पर दबोच लिया। दोनों को देहात कोतवाली ले जाकर पुलिस के हवाले कर दिया। खुद को बिजली विभाग के अधिकारी बताने वालों ने अपने को आऊ (अतर्रा) व देहात कोतवाली के लामा गांव का निवासी बताया। यह भी बताया कि उनका एक गैंग है।  किसी न किसी गांव में जा कर फर्जी बिजली अधिकारी बताकर वसूली करते आ रहे हैं। अभी तक छह लोगों को शिकार बनाया है। गैंग का सरगरना आऊ गांव निवासी युवक को बताया। पुलिस दोनों से पूछताछ कर रही है। उधर, एसडीओ रवि गौतम ने बताया कि दोनों को पुलिस के हवाले कर दिया गया है। दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी आदि की तहरीर दी गई है। उधर, देहात कोतवाली प्रभारी बृजेश कुमार ने बताया कि मामले की तहरीर नहीं मिली है। दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।