यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पुलिस मुठभेड़ में दो अंतरराज्यीय लुटेरे गिरफ्तार


🗒 शनिवार, अप्रैल 02 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पुलिस मुठभेड़ में दो अंतरराज्यीय लुटेरे गिरफ्तार

बांदा, । लूट की घटना को अंजाम देने के लिए बाइक से जा रहे दो लुटेरों की एसओजी व थाने की संयुक्त टीम से मुठभेड़ हो गई। दोनों ओर से गोलियां चलने में दो लुटेरे घायल हो गए। उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बाइक व दो तमंचों, कारतूसों के साथ नकदी बरामद हुई है। एसपी अभिनंदन समेत अस्पताल में भारी पुलिस बल मौजूद रहा है।अतर्रा थाना क्षेत्र के कस्बे में अपराधियों की धरपकड़ के लिए एसओजी प्रभारी मंयक चंदेल व अतर्रा थाना प्रभारी हरिशरण सिंह शनिवार दोपहर संयुक्त रूप से चेकिंग कर रहे थे। उन्हें मुखबिर से सूचना मिली थी कि दो लुटेरे बाइक से किसी को लूटने के फिराक में बदौसा रोड की ओर जा रहे है। जिसमें संयुक्त टीम ने बाइक में सवार दोनों लुटेरों को रेलवे क्रासिंग के पास घेर लिया। खुद को घिरा देखकर अंतर राज्यीय लुटेरे 33 वर्षीय रामसिंह पुत्र मंगल सिंह व 30 वर्षीय शनि सिंह पुत्र वीर सिंह निवासीगण ग्राम कचनपुर थाना चंदला जिला छतरपुर मध्यप्रदेश ने पुलिस पर तमंचों से फायर करना शुरू कर दिया। जवाब में संयुक्त टीम ने भी गोली चलाई। जिसमें एक गोली शनि के बांये पैर में घुटने के नीचे से रगड़कर निकली। जबकि दूसरी गोली पैर में धंस गई।इसी तरह आरोपित राम सिंह के दाहिने पैर में घुटने के नीचे गोली लगी। गोली लगने के बाद दोनों लुटेरे घायल होकर जमीन में गिर गए। जिन्हें संयुक्त टीम ने उठाकर जिला अस्पताल में भर्ती कराया। उनके पास से पुलिस को दो तमंचों के साथ तीन जिंदा कारतूस व दो खोखे जहां बरामद हुए हैं। वहीं घायल आरोपित के पास से लूट के 27 हजार 100 रुपये व राम सिंह के पास से 29 हजार 50 रुपये मिले हैं। मामले की जानकारी होने पर एसपी अभिनंदन, सीओ सिटी राकेश कुमार सिंह, शहर कोतवाली निरीक्षक राजेंद्र सिंह राजावत व कई चौकी इंचार्ज अस्पताल में मौजूद रहे।एसपी ने बताया कि पकड़े गए अंतर राज्यीय गैंग के दोनों लुटेरों का अन्य जिलों से भी आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है। बदौसा में इन्होंने आठ मार्च को बैंक से पेंशन के एक लाख रुपये निकालकर ई रिक्शे से घर जा रही महिला को तमंचे के बल पर लूटा था। इसके अलावा अतर्रा व नरैनी में उन्होंने अन्य लूट की घटनाओं को भी अंजाम दिया है। पूछने पर आरोपितों ने बताया कि यूपी में घटना करने के बाद आरोपित मध्यप्रदेश भाग जाते रहे हैं। इसी तरह वहां से घटना करने के बाद यूपी में वह आते रहे हैं।