यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जिला बाराबंकी जहरीली शराब कांड में अब तक 24 की मौत, वांछित मनीष की तलाश में पुलिस


🗒 रविवार, जून 02 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में जहरीली शराब कांड में एक और की मौत से मृतकों की संख्या 24 तक पहुंच चुकी है। उधर, जिला चिकित्सालय में भर्ती कराए गए सभी मरीज शनिवार को डिस्चार्ज कर दिए। वहीं, लखनऊ के केजीएमयू व बलरामपुर अस्पताल में 15 मरीज अभी भी भर्ती हैं। उन्हें रविवार तक छुट्टी मिलने की उम्मीद है। लखनऊ के ट्रामा सेंटर में भर्ती मोहम्मदपुर खाला थानाक्षेत्र के ग्राम भवानीपुर निवासी रजनीश जायसवाल पुत्र बालक राम (40)  की मौत हो गई। इसका भाई रानीगंज में देसी शराब की दुकान चलाता था। मृतक अपने फूफा हीरा लाल के यहां रहता था। फूफा के निधन के बाद संपत्ति का मालिक भी हो गया था, चूंकि फूफा के कोई औलाद नहीं थी। उसका भाई शिवम जायसवाल रानीगंज देसी शराब ठेके को संचालित करता था। जहां मिलावटी शराब बेची जाती थी। 28 मई की रात रजनीश ने भी अपने घर की बनाई मिलावटी शराब पी थी, हालात गंभीर होने पर ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था, जहां उसकी मौत शनिवार को हो गई। इसके बाद रजनीश का उसके पुस्तैनी गांव भवानीपुर में अंतिम संस्कार कर दिया गया। 

जिला बाराबंकी जहरीली शराब कांड में अब तक 24 की मौत, वांछित मनीष की तलाश में पुलिस

एडीएम संदीप कुमार गुप्ता ने बताया कि शनिवार को रानीगंज निवासी रजनीश पुत्र स्वर्गीय बालकराम की मौत हुई है जिसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट अभी प्राप्त नहीं हुई। रिपोर्ट के बाद आर्थिक सहायता की चेक दी जाएगी। एडीएम ने बताया कि मृतक चेतराम, सर्वेश व राजेश के बारे में सीएमओ की अध्यक्षता में गठित टीम की रिपोर्ट मिलने के बाद आश्रितों को सहायता दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता चेक दे दी गई है।रजनीश का भाई शिवम जायसवाल देसी ठेका चलाता था और देसी शराब में खुद की बनाई शराब की मिलावट करता था। यह भी नहीं था कि मिलावटी शराब रजनीश नहीं पीता था, वह रोजाना शराब पीकर ही सोता था। उसे क्या मालूम था कि उसकी बनाई मिलावटी शराब उसके अलावा 23 लोगों की और जान ले लेगी। मिलावटी शराब पीने से बीमार होकर जिला चिकित्सालय में भर्ती कराए गए सभी मरीज शनिवार को डिस्चार्ज कर दिए। लखनऊ के केजीएमयू व बलरामपुर अस्पताल में 15 मरीज अभी भी भर्ती हैं। उन्हें रविवार तक छुट्टी मिलने की उम्मीद है। एडीएम संदीप कुमार गुप्ता ने बताया कि शुक्रवार को 30 मरीज जिला चिकित्सालय से डिस्चार्ज के बाद पांच मरीज बचे थे, जिन्हें शनिवार को छुट्टी दे दी गई। लखनऊ में भी 15 मरीज ही बचे हैं जिनकी देखभाल की जा रही है। हालत ठीक है। वहीं, घटना के बाद से शासन के सख्त तेवर को देखते हुए पुलिस के हाथ-पांव फूले हुए हैं। उच्चाधिकारियों द्वारा की जा रही मॉनीटरिंग के चलते पुलिस अधीक्षक अजय कुमार साहनी स्वयं एक-एक बिंदु की पड़ताल कर रहे हैं। उन्होंने इस अवैध कारोबार के नेटवर्क को ध्वस्त करने की रणनीति भी तैयार कर ली है। शराब कांड के वांछित मनीष सिंह की गिरफ्तारी के साथ पुलिस कई अहम राज खोलने की तैयारी में है।

.पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस प्रकरण में परोक्ष या अपरोक्ष भूमिका निभाने वालों को कार्रवाई की जद में लाया जाएगा। प्रकरण में वांछित चल रहे मनीष सिंह की गिरफ्तारी के लिए टीमें मुस्तैद हैं। सीतापुर, गोंडा, बहराइच व अन्य पड़ोसी जनपदों की पुलिस से संपर्क स्थापित किया जा रहा है। कई अहम सुराग मिले है। जल्द ही आरोपित पुलिस के शिकंजे में होगा। मामले में पुलिस ने शराब की दुकान के अनुज्ञापी (लाइसेंस धारक) बहराइच निवासी दानवीर सिंह, शिवम जायसवाल, सुनील कुमार, पीतांबर और पप्पू को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है।उधर, रामनगर क्षेत्र में मिलावटी शराब पीने से हुई मौतों के बाद शराब बंदी की मांग ने तेजी पकड़ी है। शनिवार को राष्ट्रीय भारतीय अखंड पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जिला गन्ना कार्यालय में धरना देकर शराब बंदी की मांग का मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन डीएम को दिया। ज्ञापन में कहा गया है कि निरंतर शराब से हो रही मौतों के चलते शराब बंदी करने की जरूरत है। रामनगर क्षेत्र में 24 लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वाले गरीब व मजदूर परिवारों के थे, जिनकी मौत के बाद अब उनके परिवार के भरण-पोषण का संकट हो गया है। बता दें, 11 जनवरी 2018 को जिले के देवा और रामनगर क्षेत्र में 24 घंटे के अंदर 11 लोगों की मौत हुई थी। सभी को पेट दर्द व उल्टी-दस्त की शिकायत पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। प्रथमदृष्टया मौतों का कारण शराब अथवा स्प्रिट का सेवन बताया जा रहा था। बारांबंकी के गांव सलारपुर में दावत करने वाले राम नरेश के पिता अर्जुन को पुलिस ने हिरासत में लिया गया था। मरने वालों में देवा थाना क्षेत्र के मुनियापुरवा निवासी कमलेश (26) पुत्र बैरागी, ग्राम रीवां रतनपुर निवासी उमेश (22) पुत्र राम हरख, सलारपुर गांव निवासी सत्यनाम (30) पुत्र मेढ़ीलाल, ग्राम ढिढोरा मजरे सलारपुर निवासी राकेश (40) पुत्र नौमीलाल, मुनियापुरवा मजरे ताजपुर निवासी रामफल (27) पुत्र बैरागी, कचहरान निवासी मुन्ना बाल्मीकि (35), हुज्जाजी मुहल्ले के निवासी संजय, देवगांव निवासी नौमीलाल (40) पुत्र गंगाराम, जसनवारा गांव के माता प्रसाद (50) व रामनगर थाना क्षेत्र के थालखुर्द गांव निवासी अवनीश (29) और कांशीराम (28) शामिल थे।

बाराबंकी से अन्य समाचार व लेख

» बाराबंकी में बंकी रेल ट्रैक के पास एक महिला का संदिग्ध परिस्थितियों में शव मिला

» जिला बाराबंकी शराब कांड में बढ़ रहा मौतों का आंकड़ा, अब तक 24 लोगों की हुई मौत

» बाराबंकी मे जहरीली शराब कांड में मृतकों की संख्या बढ़ी, अब तक 23 की सांसें थमी, मुख्य आरोपी गिरफ्तार

» जिला बाराबंकी में देशी शराब पीने से 15 की मौत, CO-SHO समेत जिला आबकारी अफसर सस्पेंड;CM योगी ने दिए जांच के आदेश

» बाराबंकी मे मेंथा टंकी फटने से दर्दनाक हादसा, तीन झुलसे

 

नवीन समाचार व लेख

» डाक पार्सल ट्रक से ले जाई जा रही हरियाणा मेड शराब पकड़ा

» पुलिस बदमाशों मे मुठभेड़ के दौरान तीन बदमाश घायल पुलिस ने दबोचा

» पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी, राजस्थान भाजपा अध्यक्ष को मिला खत

» निदा खान के शौहर शीरान रजा खां ने की दरगाह आला हजरत के सज्जादानशीन से मारपीट

» जिला चंदोली मे बेकाबू ट्रक ने घर के बाहर सो रहे बुजुर्ग को रौंदा; चालक और क्लीनर फरार