यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

दिल्ली क्राइम ब्रांच बताकर वसूली करने वाले जालसाज गिरफ्तार


🗒 बुधवार, अप्रैल 20 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
दिल्ली क्राइम ब्रांच बताकर वसूली करने वाले जालसाज गिरफ्तार

बरेली: दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम बताकर वसूली करने वाले दो जालसाज बुधवार को पुलिस के हत्थे चढ़ गए। दोनों में एक इंस्पेक्टर तथा दूसरा दारोगा की भूमिका में रहता था। दबिश के दौरान बाकायदा दोनों दिल्ली पुलिस का फर्जी आइडी कार्ड भी दिखाते थे। इज्जतनगर के एक व्यापारी से सोमवार को दोनों ने पांच हजार रुपये वसूले थे। अगले ही दिन मंगलवार को फिर जा धमके। अबकी बार 60 हजार की मांग रखी। शक होने पर व्यापारी ने इज्जतनगर पुलिस को जानकारी दी। पुलिस ने दोनों जालसाजों असलम खां निवासी सर्वोदय नगर व अमीर हमजा निवासी सनइयारानी सीबीगंज को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।इंस्पेक्टर इज्जतनगर संजय कुमार के मुताबिक, पीर बहोड़ा में शहीर नाम का व्यक्ति रेता-बजरी का काम करता है। मंगलवार शाम को उसने फोन पर बताया कि सोमवार को दिल्ली क्राइम ब्रांच का बताकर दो जालसाज नौकर से पांच हजार रुपये लेकर चले गए। दोनों फिर आए हैं और अब 60 हजार रुपये की मांग कर रहे हैं। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों को पकड़ लिया। पूछताछ में दोनों ने अपना नाम असलम खां व अमीर हमजा बताया। दोनों के पास से दिल्ली पुलिस का फर्जी आइडी कार्ड, दो मिलिट्री कलर की जैकेट, वर्दी, मोनोग्राम व पिस्टल जैसी दिखने वाली एयरगन बरामद हुई। पूछताछ में आरोपितों ने कई राज कुबूले हैं। लिहाजा, पुलिस अब आरोपितों के पूरे नेटवर्क को खंगालने में जुटी है।जालसाज पहुंचते ही सामने वाले व्यक्ति से कहते थे कि तुम्हारी वांछित अपराधी से लगातार बात हो रही है। सीडीआर में इस बात की पुष्टि हुई है। पूछताछ के लिए दिल्ली ले चलना है। वर्दी देख अच्छे-अच्छे भय खा जाते और जालसाजों के चंगुल में फंस जाते। बस यहीं से आरोपित रुपये के लेनदेन की बात शुरू करते। जिससे जितने की बात तय हो जाती, वसूली करके भाग जाते।पुलिस हिरासत के दौरान जालसाज की पत्नी का उसके नंबर पर फोन आया। फोन उठते ही दूसरे की आवाज सुनने पर पत्नी बोली, साहब कहां हैं। इस पर पुलिस ने कहा कौन साहब, तो पत्‍‌नी ने कहा कि पति डिप्टी एसपी हैं। आप कौन। पुलिस ने जब पति के जालसाज होने की जानकारी उसकी पत्नी को दी तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। पता चला कि जालसाज ने डिप्टी एसपी बनकर ब्याह रचाया था।इज्जतनगर पुलिस ने बताया की आरोपितों ने फतेहगंज पश्चिमी के धंतिया गांव में कई लोगों से वसूली की बात कुबूली है। कहा कि साइबर ठगों की तलाश में दिल्ली की टीम आती-जाती रहती है। इसी का फायदा उठाकर दोनों क्षेत्र में जाते और वसूली कर चले आते। आरोपितों ने बाकायदा सेवानिवृत्त पुलिसकर्मी से ट्रेनिग लेने की बात कुबूली है लेकिन, संबंधित का नाम बताने से इन्कार कर दिया।