यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

भाइयों ने प्रेमी को उतारा मौत के घाट, प्रेमिका ने जहर पीकर दे दी जान


🗒 मंगलवार, अगस्त 30 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
भाइयों ने प्रेमी को उतारा मौत के घाट, प्रेमिका ने जहर पीकर दे दी जान

बस्ती, ।  बस्ती जिले प्यार का खौफनाक अंत हुआ। प्रेमिका के भाइयों ने उसके सामने ही प्रेमी की गला दबाकर उसे मौत की नींद सुला दिया। हत्या के बाद युवक का शव ठिकाने लगाने के लिए उसे खेत में फेंक दिया। इस दौरान प्रेमी की हत्या से दुखी प्रेमिका ने भी जहर पीकर जान दे दी।जिले के पड़रिया चेत सिंह गांव में शनिवार को युवक के मिले शव और युवती की हुई मौत के मामले का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। युवक की हत्या युवती के भाइयों ने उसके सामने ही गला दबाकर की थी। हत्या से दुखी युवती ने जहरीला पेय पीकर जान ने दी थी।हत्यारोपित भाई युवती से युवक के प्रेम संबंध को लेकर नाराज थे। शुक्रवार की रात में जब घर पर दोनों को उन्होंने आपत्तिजनक हालत में देखा तो उनका खून खौल उठा। नाराज भाइयों ने अपना आपा खो दिया और अंकित की जान ले ली।पुलिस ने हत्यारोपित तीनों भाइयों को गिरफ्तार कर लिया है। पर्दाफाश की जानकारी देते हुए एएसपी दीपेन्द्र नाथ चौधरी ने बताया कि रुधौली थानाक्षेत्र के पड़रिया चेत सिंह गांव निवासी 18 वर्षीय युवक अंकित व गांव की ही रहने वाली युवती अमीना खातून के बीच प्रेम संबंध था। शुक्रवार की रात में अंकित व अमीना को आपत्तिजनक हालत में देख उसके दो सगे भाई इरशाद, इरफान और चचेरे भाई इसरार आपा खो बैठे और तीनों ने मिलकर अंकित का गला दबा दिया। शव गन्ने के खेत में फेंक दिया।शव ठिकाने लगाने के लिए तीनों जब घर से बाहर चले गए तो अमीना ने जहरीला पेय पी लिया, जिससे उसकी भी मौत हो गई। सुबह अमीना के भाइयों ने उसका शव दफना दिया। अंकित की मां कुमारी देवी की तहरीर पर इरशाद, इरफान व इसरार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के बाद शव रात में ही कब्र से बाहर निकलवाकर पोस्टमार्टम कराया गया।पड़रिया चेत सिंह निवासी अंकित का शव शनिवार शाम गन्ने के खेत में मिला था। उसके शरीर पर चोट व घसीटे के जाने के निशान थे। इससे पहले शनिवार की सुबह मस्जिद से एलान किया गया कि आमिना खातून की मौत हो गई है। इसके बाद से गांव में हर व्यक्ति की जुंबा पर दोनों की मौत की चर्चा शुरू हो गई। अंकित की हत्या के साथ ही अमीना के हत्या की भी आशंका जताई जाने लगी। जिलाधिकारी के निर्देश पर उसी दिन आधी रात को एसडीएम भानपुर गिरीश झा की मौजूदगी में अमीना का शव कब्र से निकवाया गया। इसके बाद दोनों शवों का पोस्टमार्टम कराया गया। पोस्टमार्टम में अंकित का गला दबाकर हत्या की पुष्टि हो गई, मगर अमीना की मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका। वह स्नातक द्वितीय वर्ष की छात्रा थी।एसपी आशीष श्रीवास्तव ने हत्या का पर्दाफाश करने वाली पुलिस टीम को 25 हजार रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की है। हत्यारोपितों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक रुधौली रामकृष्ण मिश्र, निरीक्षक मनोहर लाल, स्वाट टीम प्रभारी गजेंद्र प्रताप सिंह, प्रभारी चौकी विशुनपुरवा रितेश कुमार सिंह, प्रभारी सर्विलांस सेल शशिकांत, मुख्य आरक्षी रामनरेश पासवान, अभय कुमार, आरक्षी अभिलाष प्रताप सिंह, राजू यादव, नर्वदेश्वर कुमार, जयप्रकाश, आंचल गौड़, धर्मेंद्र कुमार, रमेश कुमार, सुधीर शर्मा, धीरज यादव, अरविंद यादव, किशन सिंह, हिन्दे आजाद, जनार्दन व सत्येंद्र सिंह शामिल रहे।