यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

भदोही में भाजपा विधायक सहित सात पर दुष्कर्म का मुकदमा, एएसपी ने जांच कर सौंपी रिपोर्ट


🗒 बुधवार, फरवरी 19 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
भदोही में भाजपा विधायक सहित सात पर दुष्कर्म का मुकदमा, एएसपी ने जांच कर सौंपी रिपोर्ट

भदोही भाजपा विधायक रवींद्रनाथ त्रिपाठी, जिला पंचायत सदस्य सचिन त्रिपाठी सहित उनके पुत्र दीपक तिवारी, प्रकाश तिवारी, नीतेश और भतीजे संदीप त्रिपाठी व चंद्रभूषण तिवारी पर भदोही कोतवाली में सामूहिक दुराचार और गर्भपात कराने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है। साथ ही तीन सदस्यीय टीम गठित कर विवेचना शुरू कर दी गई है। इस कार्रवाई से जिले की सियासत में भूचाल आ गया है।वाराणसी की एक महिला ने 10 जनवरी को एसपी से शिकायत कर आरोप लगाया था कि वर्ष 2014 से ही संदीप उसे शादी करने का झांसा देकर जबरदस्ती करते रहे। इस दौरान गर्भपात भी कराया। मई 2017 में भदोही विधानसभा चुनाव के समय भदोही स्थित होटल में विधायक सहित सभी ने बारी-बारी से दुराचार किया। इसकी शिकायत भी वह संदीप से करती रही लेकिन वह मामले को नजर अंदाज करते रहे। नौ फरवरी 2020 को जब वह शादी करने को कहा तो उसे जान से मरने की धमकी दी गई। एसपी रामबदन सिंह मामले की जांच अपर पुलिस अधीक्षक रवींद्र वर्मा को सौंपी थी। बुधवार को एएसपी ने मामले की जांच कर रिपोर्ट सौंप दी। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जांच में प्रथम दृष्टिया दोषी पाते हुए सभी आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। विवेचना करने के लिए भदोही कोतवाली में टीम गठित कर दी गई है।अपर पुलिस अधीक्षक रवींद्र वर्मा इसके पहले भदोही में पुलिस क्षेत्राधिकारी भी रह चुके हैं। इसके पहले भदोही के कालीन निर्यातक के मामले की जांच भी उन्हें ही सौंपी गई थी। यह मामला भी सूबे में बहुत र्चिचत रहा है। पीड़तिा के समर्थन में मैग्सेसे पुरस्कार प्राप्त संदीप पांडेय सहित अन्य लोग भी विरोध प्रदर्शन कर चुके हैं। इस मामले की जांच में कालीन निर्यातक के खिलाफ भी कठोर कार्रवाई हुई थी। उन्हें सुप्रीमकोर्ट तक राहत नहीं मिली थी।विधायक सहित अन्य आरोपित इस मामले में संल्लिप्त हैं अथवा नहीं यह तो विवेचना के बाद स्पष्ट हो पाएगा लेकिन एएसपी की रिपोर्ट ने करारा झटका दिया है। इसका असर आने वाले पंचायत चुनाव में भी दिखेगा। पार्टी सूत्रों का कहना है कि भदोही विधायक के परिवार और उनके अन्य समर्थक इस बार त्रिस्तरीय चुनाव में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने की तैयारी में थे। इसके लिए मैदान भी तैयार किया जा रहा था लेकिन दुष्कर्म का आरोप लगने से करारा सियासी झटका लगा है। हालांकि विधायक अब भी इसे साजिश मान रहे हैं।