यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

भदोही में वालिद ने हवस का शिकार बनाने की कोशिश की तो बेटी ने अपना लिया हिंदू धर्म


🗒 बुधवार, सितंबर 16 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
भदोही में वालिद ने हवस का शिकार बनाने की कोशिश की तो बेटी ने अपना लिया हिंदू धर्म

भदोही में औराई क्षेत्र के एक नगर में मां की मौत के बाद जब वालिद (पिता) ने ही बेटी को हवस का शिकार बनाने की कोशिश की तो उसने इस्‍लाम धर्म छोड़कर हिंदू धर्म स्वीकार कर लिया। मामला तब उजागर हुआ जब बेटी इन दिनों रीढ़ में टीबी हो जाने से वह बिस्तर पर पड़ गई। उसका फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय ने भी मामले का संज्ञान लिया है। मुख्यमंत्री के सूचना सलाहकार शैलेंद्रमणि त्रिपाठी के निर्देश पर डीएम की टीम ने बेटी के घर पहुंचकर पूरे मामले की जानकारी ली। जिला प्रशासन के अनुसार उसके इलाज की तैयारी शुरू कर दी गई। वहीं युवती का कहना है कि अभी भी उसके पिता और सौतली मां द्वारा धमकी दी जा रही है।युवती ने बताया कि उसकी मां की मौत के बाद से ही पिता की नजर उसपर थी। पिता के अत्‍याचारों और गलती नीयत को देखते हुए उसने हिंदू धर्म अपना लिया है। साथ ही अपना नाम भी बदल कर हिंदूआें जैसा नाम कर लिया है। वहीं सोशल मीडिया पर यह प्रकरण वायरल होने के बाद से ही जिला प्रशासन सक्रियता से युवती का टीबी का इलाज कराने के साथ ही आरोपों को लेकर विधिक कार्रवाई में जुट गई है। जबकि पिता और सौतेली मां के व्‍यवहार को देखते हुए युवती को संरक्षण देने का प्रयास किया जा रहा है।युवती ने बताया कि पिता ने जब इसे हवस का शिकार बनाया तो वह वर्ष 2013 में अपना घर छोड़कर भाग गई थी। बताया कि उसका एक मित्र था जो अहमदाबाद में रहता था। जब यह रोजगार की तलाश करने लगी तो रोजगार के लिए लोग आधार कार्ड आदि मांगने लगे। उसके पास कुछ भी रिकार्ड नहीं था। लिहाजा उसने उसी समय अपने हिंदू मित्र के परिवार में ही नाम दर्ज करवा लिया। चूंकि युवती के मित्र का टाइटल पटेल था तो उसी दिन से उसने अपने हिंदू नाम के साथ पटेल टाइटल लगाना शुरु कर दिया।युवती ने बताया कि वह पहले ही हरिद्वार जाकर अपना धर्म परिवर्तन कर चुकी थी। हरिद्वार में एक पुजारी ने उसको गंगा जल से स्नान कराने के बाद उसे एक देवी मंत्र का गुरुमंत्र देकर धर्म परिवर्तन कराया था तबसे ही वह हिंदू धर्म में अपनी आस्‍था रखती है। उसका कहना है कि पिता की हरकतों की वजह से अब उसे अपने मूल समाज से घृणा हो गई है। आरोप लगाया कि जिस माहौल में वह रह रही थी उस समाज में बहन, बेटी और मां आदि में कोई फर्क नहीं है।