विधायक विजय मिश्र के मामले में पीडि़ता का बयान दर्ज

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

विधायक विजय मिश्र के मामले में पीडि़ता का बयान दर्ज


🗒 बुधवार, अक्टूबर 28 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
विधायक विजय मिश्र के मामले में पीडि़ता का बयान दर्ज

भदोही,विधायक विजय मिश्र, बेटे विष्णु मिश्र सहित तीन पर सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में दर्ज मामले में बुधवार को पीडि़ता का मेडिकल परीक्षण कराया गया। इसके साथ ही न्यायिक मजिस्ट्रेट सौम्या पांडेय ने पीडि़ता का कलमबंद बयान दर्ज किया। इसके पहले पुलिस गायिका को धनापुर स्थित उनके आवास पर ले गई। विवेचक ने घटनास्थल का जायजा लिया गया। इस दौरान कोर्ट परिसर में गहमागहमी रही। सुरक्षा के लिए भी कड़े बंदोबस्त किए गए थे।वाराणसी की एक गायिका ने गोपीगंज कोतवाली में तहरीर देकर आरोप लगाई थी कि वर्ष 2014 के चुनाव में विधायक विजय मिश्र ने उसे कार्यक्रम करने के लिए बुलाया था। धनापुर आवास पर जब वह चेंङ्क्षजग रूम में कपड़ा बदलने गई तो विधायक भी अंदर घुस गए और असलहा दिखाकर जबरिया दुष्कर्म किया। इसके बाद अपने बेटे विष्णु मिश्र और पौत्र विकास मिश्र को वाराणसी पहुंचाने के लिए कहा। दोनों लोग सामने स्थित घर में ले गए और बारी-बारी से दुष्कर्म किया। इसके बाद से ही वह वाराणसी, प्रयागराज स्थित अल्लापुर आवास पर बुलाते रहे और दुष्कर्म करते रहे। पीडि़ता ने पुलिस को विधायक की ओर से की गई अश्लील वीडियो चेट भी साक्ष्य के रूप में सौंपी थी। पुलिस ने विधायक सहित तीनों आरोपितों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया था। पीडि़ता ने अपने बयान में गायक राजेश परदेशी का भी नाम लिया था। पीडि़ता का बयान दर्ज होने के बाद विधायक और उनके बेटे-पौत्र की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं। प्रभारी निरीक्षक कृष्णानंद राय ने बताया कि विधायक जेल में हैं अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी शीघ्र ही की जाएगी।गोपीगंज कोतवाली से लेकर कोर्ट तक विधायक के धुर विरोधियों का जमावड़ा लगा रहा। पीडि़ता को लग्जरी वाहन से कोतवाली पहुंचाया गया। इसके साथ ही पुलिस अभिरक्षा में कोर्ट ले जाया गया। एक माननीय के बेटे के अलावा कृष्णमोहन तिवारी के रिश्तेदार मनोज मिश्र भी कोतवाली गोपीगंज में डटे रहे। उन्होंने बताया कि वह कोतवाली में एक दूसरे मामले में शपथपत्र देने गए थे। वाराणसी और मीरजापुर के भी कई दिग्गज वाहनों से चक्रमण करते रहे। पीडि़ता को देखने के लिए कचहरी में भीड़ लगी रही।