यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई भदोही के विधायक विजय मिश्र के दो मामलों की सुनवाई


🗒 गुरुवार, जुलाई 08 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई भदोही के विधायक विजय मिश्र के दो मामलों की सुनवाई

भदोही। आगरा जेल में निरुद्ध विधायक विजय मिश्र गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट साबिया खातून के अदालत में पेश किए गए। कौलापुर ग्राम प्रधान ऊषा मिश्रा के लेटर पैड के दुरुपयोग और एक साजिश के मामलों में रिमांड बनाया गया। इसके साथ ही विवेचक को उपस्थित न होने के कारण सामूहिक दुष्कर्म के मुकदमें में सुनवाई नहीं हो सकी। महिला उत्पीड़न कोर्ट ने विधायक को व्यक्तिगत रूप से तलब किया है।गोपीगंज कोतवाली में रिश्तेदार का फर्म और भवन हड़पने के आरोप में गिरफ्तार विजय मिश्र के खिलाफ ताबड़तोड़ छह मुकदमे दर्ज किए गए। गिरफ्तारी के बाद एक मामले में चार्जशीट भेज दी गई जबकि अन्य छह मुकदमों में अभी तक रिमांड ही नहीं बनाया गया। सुरक्षा कारण बताकर विधायक को पेश नहीं किया गया। सीजेएम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए विधायक को पेश करने के लिए आगरा जेल को पत्र भेजे थे लेकिन सुरक्षा कारणों से पेश नहीं किया गया। गुरुवार को विजय मिश्र को वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से सुनवाई हुई। कौलापुर के प्रधान के लेटर पैड दुरुपयोग करने और साजिश करने के एक मामले में पेश किया गया। विवेचक की उपस्थिति में रिमांड बनाया गया। सामूहिक दुष्कर्म के मामले में अभी तक रिमांड नहीं बनाया जा सका है। विजय मिश्र के अधिवक्ता हंसाराम ने बताया कि दाे मामलों में रिमांड बन गया जबकि अन्य मामलों को तिथि निश्चित की गई है। कोर्ट ने व्यक्तिगत रूप से तलब किया है।गोपीगंज कोतवाली में रिश्तेदार का फर्म और भवन हड़पने के आरोप में चार अगस्त 2020 को विधायक, एमएलसी रामलली और उनके पुत्र विष्णु मिश्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। 18 अगस्त को उन्हें मध्य प्रदेश के आगर जिले में गिरफ्तार कर आगरा जेल में निरुद्ध किया गया है। इसके बाद विधायक के खिलाफ छह अलग-अलग मुकदमे दर्ज किए गए। पुलिस ने पहले तो बहुत सक्रियता दिखाई लेकिन बाद में मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया। संक्रमण काल में ही मीरजापुर में एक मामले में पेश करने का रिमांड बना दिया लेकिन भदोही पुलिस की लापरवाही से छह माह से पेशी नहीं हो सकी। पेशी न होने से रिमांड की प्रक्रिया पूरी नहीं की जा सकी। यही कारण रहा कि अभी तक चार्जशीट नहीं दाखिल की जा सकी है।

भदोही से अन्य समाचार व लेख

» अध्यापिका की तहरीर के बाद प्रिंसिपल पर छेड़खानी का FIR दर्ज

» भदोही में जन्‍माष्‍टमी का आयोजन रोककर किया पथराव

» एसटीएफ वाराणसी को सौंपी गई विधायक विजय मिश्र और बेटे विष्णु की जांच

» भदोही में 5.20 क्विंटल गांजा के साथ अंतरप्रांतीय तस्करी

» भारी सुरक्षा व्‍यवस्‍था के बीच विधायक विजय मिश्र सीजेएम कोर्ट में पेशी