यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

दारोगा की वर्दी पहनकर दिया चार लाख में सिपाही बनवाने का झांसा, गिरफ्तार


🗒 सोमवार, सितंबर 05 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
दारोगा की वर्दी पहनकर दिया चार लाख में सिपाही बनवाने का झांसा, गिरफ्तार

बिजनौर, । शहर कोतवाली पुलिस ने दारोगा की वर्दी पहनकर ठगी करने के आरोपित युवक को गिरफ्तार किया है। आरोपित ने खुद को यूपी पुलिस का दारोगा बताकर एक युवक को सिपाही के पद पर भर्ती कराने का झांसा दिया था। एडवांस में एक लाख रुपये ले लिए। इसके बाद उसे एक फर्जी नियुक्ति पत्र भी दे दिया। बाकी रुपये की मांग करने लगा। शक होने पर पीड़ित पक्ष ने पुलिस को सूचना दी।शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव नया गांव निवासी निखिल पुत्र राजेंद्र सिंह की फेसबुक पर एक युवक से दोस्ती हो गई। युवक की हल्दौर थाना क्षेत्र के गांव शेरपुर कल्याण निवासी सेंटी कुमार रामपाल से बातचीत होने लगी। सेंटी ने खुद को यूपी पुलिस में दारोगा बताकर गैर जनपद में तैनाती बताई। निखिल से दोस्ती के बाद वह दारोगा की वर्दी पहनकर उनके घर भी आने-जाने लगा। निखिल की यूपी पुलिस में नौकरी दिलवाने का भरोसा दिलवाया। चार लाख रुपये में नौकरी लगवाने का झांसा दिया। एक लाख रुपये उसने एडवांस ले लिए। पांच सितंबर को वह निखिल के घर आया। सिपाही का नियुक्ति पत्र देते हुए बाकी पैसे की मांग की। नियुक्ति पत्र देकर उन्हें कुछ शक हुआ। निखिल ने स्वजन के साथ उसे पकड़ लिया। इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच गई। उसे थाने ले आई। पूछताछ में उसका भेद खुल गया। वह फर्जी दारोगा बनकर लोगों से ठगी करता था। इस वक्त वह रामलीला मैदान के पास कांशीराम कॉलोनी में रह रहा है। निखिल के पिता राजेंद्र की ओर से जालसाजी और धोखाधड़ी की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपित को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया है। शहर कोतवाल रविंद्र वशिष्ठ ने बताया कि आरोपित को जेल भेज दिया गया है।