यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बुलंदशहर में युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, छह लोगों पर मुकदमा


🗒 बुधवार, जून 02 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बुलंदशहर में युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, छह लोगों पर मुकदमा

बुलंदशहर, । जामा मस्जिद मोहल्ले में एक युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उसका शव घर में फंदे पर लटका मिला। पुलिस के देरी से पहुंचने पर पीडि़त पक्ष के लोगों ने कोतवाली पहुंचकर नारेबाजी की। स्वजन ने मुस्लिम समुदाय के छह लोगों पर हत्या का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया है।बुधवार को अनुसूचित जाति के सुभाष की 19 वर्षीय बेटी गीता का शव घर में पंखे पर लटका मिला। उस समय वह घर में अकेली थी। इसकी जानकारी मिलते ही मोहल्ले के काफी लोग स्वजन के साथ कोतवाली पहुंचे और संप्रदाय विशेष के लोगों पर हत्या का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। पुलिस के देर से पहुंचने पर पीडि़त पक्ष ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। एक घंटे बाद सीओ रमेश चंद त्रिपाठी के साथ कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा। मामला दो संप्रदाय से जुड़ा होने के कारण जहांगीराबाद व अहार थाने की पुलिस भी बुला ली। गीता की मां रामेश्वरी का आरोप है कि गुरफान, रिहान, गुलफर, गुलमोहम्मद, गुलजार, व अय्या ने पहले बेटी के साथ मारपीट की और फांसी लगाकर मार दिया। पुलिस ने रामेश्वरी की तहरीर के आधार पर उक्त सभी आरोपितों पर मुकदमा दर्ज कर लिया।

बुलंदशहर से अन्य समाचार व लेख

» बुलंदशहर में पायल खोने पर नाराज पति ने पत्‍नी को मायके छोड़ा

» बुलंदशहर में रजवाहे में गिरी कार, फौजी समेत दो की मौत

» बुलंदशहर में दुष्कर्म के आरोपित हेड कांस्टेबल और सास को जेल

» बुलंदशहर में हैड कांस्टेबल ने विवाहिता को बंधक बनाकर किया दुष्कर्म

» बुलंदशहर में मारपीट के दौरान छिना तमंचा पुलिस को सौंपने पर फिर हमला

 

नवीन समाचार व लेख

» भा.ज.पा.से विनय वर्मा ने ब्लाक प्रमुख का किया नामांकन

» गैस सिलेण्डर व डीजल पेट्रोल के बढ़ते दामों लेकर सांकेतिक विरोध प्रदर्शन

» उपनिरीक्षक की सूझबूझ से परिजनों को मिला उनका खोया हुआ फोन

» पीएम मोदी ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद की बैठक ली, दिए निर्देश

» ब्लाक प्रमुख चुनाव के नामांकन में भाजपा ने घोंटा लोकतंत्र का गला - अखिलेश