यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आरबीआई रुपये की गिरती कीमत को ऐसे थाम सकता है


🗒 शनिवार, अक्टूबर 06 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

पिछले कुछ दिन से डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत लगातार गिर रही है। रुपया इतिहास में अब तक के सबसे निचले स्तर पर है। रुपये की कीमत की तुलना अमेरिका डॉलर के साथ की जाती है। दरअसल, अमेरिका दुनिया की सबसे मजबूत अर्थव्यवस्था समझी जाती है। इसलिए दुनियाभर में डॉलर की स्वीकार्यता है। डॉलर की मजबूती के साथ दूसरी करेंसी कमजोर होती जाती है। डॉलर के मजबूत होने का नुकसान रुपये का उठाना पड़ रहा है।

आरबीआई रुपये की गिरती कीमत को ऐसे थाम सकता है

रुपये की कीमत गिरने के कारण भारत को आयात के लिए ज्यादा रकम चुकानी पड़ती है। इसके अलावा महंगाई, ब्याज दर, व्यापार घाटा, आर्थिक नीतियां और शेयर बाजार की हलचल का असर भी रुपये की सेहत पर पड़ता है।गिरते रुपये की मजबूती देने का काम भारत की केंद्रीय बैंक (आरबीआई) करता है। इसके लिए आरबीआई के पास कई तरीके होते हैं। पहला तरीका प्रत्यक्ष रूप से डॉलर की खरीदारी या बिक्री है। यदि आरबीआई रुपये की कीमत बढ़ाना चाहता है तो वह डॉलर की बिक्री कर सकता है और कीमत घटाने के लिए खरीदारी कर सकता है।दूसरा तरीका अपनी नीतियों के जरिए हैं। यदि आरबीआई रेपो रेट और वैधानिक तरलता अनुपात में बदलाव करता है तो इससे रुपये की कीमत नियंत्रित हो सकती है। इसे एलएलआर भी कहा जाता है।आरबीआई महंगाई को काबू में रखने के लिए रेपो रेट का सहारा लेता है। रेपो रेट वह रेट है जिस पर आरबीआई दूसरे कमर्शियल बैंको को कर्ज देता है। वहीं रिवर्स रेपो रेट वह रेट है जिस पर आरबीआई दूसरे बैकों का पैसा अपने पास रखता है।

अधिक रेपो रेट से विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने, घरेलू करेंसी की कीमत और मांग में इजाफा होता है। रेपो रेट में बढ़ोतरी से ब्याज दरें, बॉन्ड यील्ड और डेट पेपर्स का रिटर्न बढ़ता है। इससे ज्यादा निवेशक आकर्षित होते हैं। इसके अलावा अधिक ब्याज रेट से आरबीआई के पास ज्यादा पैसा आएगा, जिसका इस्तेमाल करेंसी की डिमांड और सप्लाई के लिए किया जा सकता है।अगर रुपये की कीमत घटती है तो इससे महंगाई बढ़ेगी क्योंकि आयातित वस्तुओं के लिए ज्यादा कीमत देनी पड़ती है। आरबीआई ब्याज दरें बढ़ाकर चीजों की मांग और कीमतों को कम करने की कोशिश करता है।  

बिज़नेस से अन्य समाचार व लेख

» पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में नहीं चाहते कई राज्य, राजस्व पर बुरा असर पड़ेगा

» समझिए घर की आर्थिक सुरक्षा के लिए होम इंश्योरेंस पालिसी लेना क्यों है जरूरी

» अब विदेश स्थित संपत्तियों पर भी लागू हो सकता है दिवालिया कानून, मामलों का जल्‍द होगा निपटारा

» IPPB का लॉन्च अटल बिहारी वाजपयी के निधन के चलते टला

» अब सरकार की इस हेल्थ स्कीम से करोड़ों परिवारों को मिलेगा 5 लाख रुपये तक का बीमा

 

नवीन समाचार व लेख

» फतेहपुर मे सोमवती अमावस्या पर गंगा में नहा रहे चाचा-भतीजे और एक बच्चे की डूबकर मौत

» जिला अलीगढ़ में बच्ची की हत्या के मामले में टप्पल थाने के इंस्पेक्टर लाइन हाजिर, संजय ने संभाला चार्ज

» यमुना एक्सप्रेस वे पर भीषण हादसा, बस पलटने से चार यात्रियों की मौत

» प्रयागराज के घूरपुर में युवक की हत्या, नाले में फेंका शव

» अतीक अहमद को कड़ी सुरक्षा में लाया गया एयरपोर्ट, भेजा गया अहमदाबाद