यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

चंदौली में पांच वाहन चोर गिरफ्तार


🗒 सोमवार, मई 16 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
चंदौली में पांच वाहन चोर गिरफ्तार

चंदौली : बीते 26 अप्रैल की रात पीडीडीयू नगर के रविनगर से हुई चोरी के स्कार्पियो के साथ पुलिस ने सोमवार को अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह के पांच चोरों को धर दबोचा। इनके पास से चार तमंचा के साथ 315 बोर का छह व 12 बोर का दो कारतूस बरामद हुआ है। चोरी के स्कार्पियो के साथ चोरी में प्रयोग किए गए दो वाहनों के अलावा एलेन की, ओबीडी सेंसर मशीन, तीन टच व तीन की पैड मोबाइल फोन भी बरामद किया गया है।एसपी अंकुर अग्रवाल ने दोपहर पत्रकारों को बताया कि इनकी गिरफ्तारी स्वाट, सर्विलांस की टीम व मुगलसराय थाना की पुलिस ने करवत पड़ाव से किया है। गिरफ्त में आए चोर शातिर हैं जिनके आपराधिक इतिहास की जानकारी ली जा रही है। साथ ही गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए भी प्रयास किया जा रहा है। गिरफ्तार इद्दू अंसारी उर्फ मो. आरिफ, झारखंड के गढ़वा जिले के बरडीहा थानांतर्गत ललिया पहाड़ बभनि का, सूर्यदेव यादव, झारखंड के पलामू जिले के नावां थाना के मंझौली का, अशरफ अली उर्फ पप्पू खां, बिहार के रोहतास जिले के कुसडिहरा थाना का, दीपक उरांव, झारखंड के गढ़वा जिले के मझियाव थाना के विडंडा का जबकि मोख्तार अंसारी, झारखंड के गढ़वा जिले के फरठिया थाना के वार्ड नंबर सात का रहने वाला है।पुलिस की पूछताछ में पता चला कि यह संगठित गिरोह उप्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार व झारखंड में वाहनों की चोरी कर सस्ते दर में बेचकर पैसा आपस में बांट लेते हैं। सुरक्षा के लिए यह तमंचा भी रखते हैं। रविनगर से स्कार्पियो चोरी में प्रयोग हुए स्विफ्ट व हुंडई वैन्यू कार को पुलिस ने जब्त कर लिया है। वैन्यू गिरफ्तार अशरफ की पत्नी के नाम से जबकि स्विफ्ट मोख्तार के नाम से रजिस्टर्ड है। स्कार्पियो चोरी करने के बाद इन्होंने पुलिस व सीसीटीवी कैमरे की आंख में धूल झोंकने के लिए उसपर फर्जी नंबर प्लेट बीआर 32 पीएम 3821 लगा दिया था। एसपी ने बताया कि इसके पूर्व इन्होंने ओबरा स्थित जैन मंदिर के बगल से स्कार्पियो की चोरी की थी। इस घटना को बरामद हुंडई कार से अशरफ अली, मोख्तार, दीपक उरांव व इद्दू अंसारी ने अंजाम दिया था। उप्र से शराब की खेप बिहार ले जाते समय पुलिस ने उक्त स्कार्पियो का पकड़ लिया था। अभी वह स्कार्पियो बिहार के शिवसागर थाना में खड़ी है।गिरफ्त में आए वाहन चोरों ने खुलासा किया कि उनकी चोरी की गाड़ियां ज्यादातर शराब तस्कर हाथों हाथ खरीद लेते हैं। बिहार में शराब बंदी का फायदा उठाते हुए तस्कर हरियाणा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उप्र से सस्ती शराब खरीद कर उसे लक्जरी वाहनों से तस्करी कर बिहार के विभिन्न जिलों में पहुंचाते हैं। अक्सर चेकिंग के दौरान ये गाड़ियां पकड़ी जाने के दौरान तस्कर इसे छोड़कर भाग जाते हैं। जांच में ये गाड़ियां चोरी की पाई जाती है।वाहनों की चोरी में यह चोर एलेन की (विशेष चाभी) व ओबीडी सेंसर का इस्तेमाल कर बंद गाड़ी को ढाई मिनट के भीतर स्टार्ट कर उसे खोल देते हैं। खुलासा हुआ कि ये चोर सुनसान स्थान पर खड़े आधुनिक वाहनों को चिन्हित तक एलेन की और ओबीडी सेंसर के माध्यम से लाक के अंदर की पोजीशन देखकर आसानी से लाक खोलने के साथ ही गाड़ी स्टार्ट कर देते हैं। इस काम में इन्हें महज ढाई मिनट का समय लगता है।बीते 26 अप्रैल को चोरी हुए स्कार्पियो के मालिक रविनगर निवासी अमित श्रीवास्तव ने एसपी कार्यालय पहुंचकर पुलिस का धन्यवाद करते हुए एसपी अंकुर अग्रवाल को बुके देकर सम्मानित किया। उन्होंने गिरफ्तारी में शामिल अन्य पुलिस कर्मियों को भी माला पहनाया। कहा कि पुलिस की सक्रियता का परिणाम है कि उनकी चोरी गई गाड़ी इतने कम समय में बरामद हो गई। उधर एसपी ने गिरफ्तारी में शामिल टीम को 25 हजार नगद देने की घोषणा की। गिरफ्तारी टीम में स्वाट, सर्विलांस टीम के उप निरीक्षक शैलेंद प्रताप सिंह, हेड कांस्टेबल आनंद कुमार सिंह, अमित यादव, घनश्याम वर्मा व राणाप्रताप सिंह, कांस्टेबल, विजय कुमार, अमित सिंह, आनंद गौड, भुल्लन यादव, देवेंद्र सरोज, प्रेम प्रकाश यादव, अजीत सिंह व नीरज कमार मिश्रा, मुगलसराय थाना की पुलिस में उप निरीक्षक महमूद आलम, रमेश यादव व अमित मिश्रा, कांस्टेबल सौरभ पांडेय, गंगेश त्रिपाठी व सूर्यप्रकाश यादव शामिल थे।