यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जिला चित्रकूट में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली मरीज फर्श पर तो बाइक पर किशोर का शव ले गया पिता


🗒 मंगलवार, जुलाई 23 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

योगी आदित्यनाथ सरकार भले ही सूबे में बेहतर स्वास्थ्य सेवा का दावा करे, लेकिन बुंदेलखंड में बात ही जुदा है। यहां जिला अस्पताल में मरीजों को भगाया जा रहा है तो एंबुलेंस सेवा की सुविधा न होने के कारण एक पिता को अपने बेटे का शव बाइक पर लेकर जाना पड़ा।चित्रकूट में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली मंगलवार को फिर दिखाई पड़ी। मारपीट में घायल होने के बाद उपचार कराने पहुंची एक महिला को डाक्टरों ने बाहर निकाल दिया। लाचार महिला काफी देर तक मुख्य गेट के बगल में फर्श पर लेटी रही। इसके बाद आने-जाने वाले लोगों ने सीएमएस को जानकारी दी। उन्होंने बताया कि महिला को रेफर किया गया है।चित्रकूट के राजापुर थानांतर्गत खोंपा गांव में शनिवार शाम को 45 वर्षीय सूरजकली पत्नी राम चंद्र निषाद को परिवार के राज करन, इंद्रपाल, टेर्रा व साकेता ने पीट दिया था। यूपी-100 पुलिस टीम ने घायल सूरज कली को जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। दो दिन इलाज के बाद मंगलवार सुबह सूरजकली को जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने वार्ड से बाहर निकाल दिया। सूरज कली ने बताया कि डाक्टरों ने उसको बाहर जाने को कह दिया। वह घायल होने के कारण इलाज कराना चाहती थी। आर्थिक परेशानी के कारण बाहर चादर बिछाकर लेट गई कि शायद कोई मदद मिल जाए। सोमवार को वाहन नहीं मिलने पर शव को बाइक पर ले जाने की घटना के बाद भी विभागीय अफसरों की नींद नहीं टूटी है। सीएमएस डॉ एसएन मिश्र ने कहा कि महिला को बेहतर इलाज के लिए प्रयागराज रेफर किया गया है। फर्श पर लेटने की वजह पता कराई जा रही है। यहां पर उपचार के लिए आर्थिक समस्या होने पर उसे दोबारा भर्ती किया जाएगा।अति पिछड़े जिलों में शुमार चित्रकूट के जिला अस्पताल में अक्सर मरीजो के साथ ऐसी दिक्कतें पेश आती हैं। अफसर उस समय फुर्ती दिखाते हैं लेकिन बाद में कर्मियों का फिर वही ढर्रा हो जाता है। सीएमओ डॉ राजेंद्र सिंह ने कहा कि मामले की जांच कराई जाएगी। यहां अब दोषियों पर सख्त कार्रवाई होगी।

जिला चित्रकूट में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली मरीज फर्श पर तो बाइक पर किशोर का शव ले गया पिता

आकाशीय बिजली से मरने वाले किशोर का सोमवार को पोस्टमार्टम तो कर दिया गया, लेकिन उसका शव घर ले जाने के लिए वाहन नहीं दिया गया। गरीब परिवार इधर-उधर भटकता रहा परन्तु कोई मदद नहीं मिली। पैसे न होने से किराए के वाहन का इंतजाम नहीं हुआ तो मजबूरन अपने बेटे के शव को पिता बाइक पर गांव ले गया। मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग का कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने से बचते नजर आ रहे हैं।चित्रकूट में रविवार को पिता के साथ छत पर छप्पर डालने का काम करते समय अचानक बिजली गिरने से सात वर्षीय सुशील की मौत हो गई थी। तहसीलदार के रिपोर्ट बनाकर भेजने के बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। सोमवार को पोस्टमार्टम के बाद आर्थिक तंगी से परेशान परिजन शव वाहन को लेकर काफी देर तक इंतजार करते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया। बाद में उनके रिश्तेदार बाइक से शव ले गए। उधर, सीएमओ डॉ. राजेंद्र सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल में एक शव वाहन है। उनके पास कोई मांग नहीं आई। यदि पीडि़त ने किसी कर्मी से मांग की है और वाहन उपलब्ध नहीं कराया गया तो शिकायत मिलने पर जांच कराकर कार्रवाई होगी। सोमवार को राजापुर पुलिस सुशील के शव को पोस्टमार्टम के लिए मुख्यालय लाई थी। उसका पोस्टमार्टम होने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया।परिवार के लोग इसके बाद अंतिम संस्कार के लिए सुशील का शव लेकर गांव जाना चाह रहे थे। इनको शव वाहन नहीं मिला। उन्होंने काफी दौड़-भाग की, पर कहीं भी सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद हारकर वह पुत्र के शव को बाइक पर रखकर ले गए।

चित्रकूट से अन्य समाचार व लेख

» चित्रकूट के मऊ कस्बा में झोलाछाप ने कर दिया दो साल के बच्चे का ऑपरेशन, चली गई जान

» जिला चित्रकूट में किशोरों के साथ हैवानियत, नाखून उखाड़े और जख्म पर छिड़का नमक

» डकैत बबुली कोल गैंग का सक्रिय पांच हजार का इनामी डाकू हत्थे चढ़ा

» चित्रकूट मे महिला की हत्या कर शव फेंका, हत्यारों ने पहचान मिटाने को चेहरा पत्थरों से कुचला

» जिला चित्रकूट में पुलिस की बबुली गैंग से मुठभेड़, चार डकैतों को किया गिरफ्तार

 

नवीन समाचार व लेख

» जिला चित्रकूट में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली मरीज फर्श पर तो बाइक पर किशोर का शव ले गया पिता

» विधायक एन महेश बसपा से निष्कासित

» सांसद आजम खां पर कस सकता है मनी लांड्रिंग का शिकंजा

» भितरघात से जूझ रही 14 महीने पुरानी कुमारस्वामी सरकार का हुआ अंत

» कानपुर मे वाट्सएप पर शेयर की फांसी लगाते सेल्फी और फिर गले लगा ली मौत