यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

चित्रकूट जेल में बंद डकैत गोप्पा के भाई पर गोलियाें से हमला, हालत गंभीर


🗒 मंगलवार, जून 30 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
चित्रकूट जेल में बंद डकैत गोप्पा के भाई पर गोलियाें से हमला, हालत गंभीर

जिला जेल में बंद कुख्यात डकैत राम गोपाल यादव उर्फ गोप्पा के भाई पर मंगलवार की दोपहर पर गोलियों से हमला कर दिया गया। गोली लगने से घायल भाई को स्थानीय अस्पताल से गंभीर हालत में प्रयागराज रेफर किया गया है। गोली मारने के बाद से हमलावर फरार है, पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर पड़ताल शुरू की है।जिले के पहाड़ी थानांतर्गत हर्रा निवासी 55 वर्षीय महिपाल यादव डकैत गोप्पा का भाई है। पड़ोसी भरत यादव के घर पर वह कुछ लोगों के साथ बैठे थे तभी किसी बात को लेकर गोली चल गई। ताबड़तोड़ फायरिंग की आवाज सुनकर महिपाल के स्वजन बाहर आए तो देखा कि गोली लगने से वह खून से लथपथ जमीन पर पड़े तड़प रहे हैं। स्वजन उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद प्रयागराज रेफर कर दिया।राजापुर सीओ इम्तियाज अहमद ने बताया कि पहाड़ी थाना प्रभारी सुशील चंद्र शर्मा व फोर्स के साथ गांव पहुंचे लेकिन हमलावर भाग निकले हैं। स्वजन बिना सूचना दिए सोमवार रात इलाज कराते रहे। इसलिए वारदात की वजह सामने नहीं आ सकी है। महिपाल जेल में बंद डकैत गोप्पा का सगा मंझला भाई है। संभव है कि उसकी दुश्मनी के चलते घटना हुई हो। महिपाल की पत्नी राज कुमारी ने पड़ोसी भरत यादव, मुनुआ यादव, हरिश्चंद्र यादव, छुटुवा व शत्रुघन यादव के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। महिपाल के कंधे में तमंचा सटाकर गोली मारी गई है, आरोपितों की गिरफ्तारी में छापेमारी की जा रही है। छानबीन में सामने आया है कि आरोपित भरत और महिपाल के बीच अच्छी दोस्ती थी।

चित्रकूट से अन्य समाचार व लेख

» चित्रकूट -दो दिवसीय RPL ट्रेनिंग का मूल्यांकन सकुशल संपन्न : सुरेश कुमार

» चित्रकूट - सी एस सी सेंटरों में मनाया गया संविधान दिवस

» चित्रकूट में बेेटे के खिलाफ दुष्कर्म व मां-पिता व चाचा पर हत्या का मुकदमा

» चित्रकूट सीमा से सटे सतना जिला में ड्यूटी पर तैनात तीन वन कर्मियों पर बाघ ने किया हमला

» चित्रकूट के प्राचीन मंदिर से सुबह गायब हुई काल भैरव की मूर्ति दस घंटे बाद खेत से मिली